loader

हरियाणा: दुष्यंत चौटाला के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने पर 150 किसानों पर केस दर्ज 

किसानों के जितने जबरदस्त विरोध का सामना हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला को करना पड़ रहा है, इतना किसी और नेता को नहीं। हालात ऐसे हैं कि दुष्यंत हिसार के एयरपोर्ट पर उतरकर गाड़ी से अपने घर नहीं जा सकते क्योंकि पता नहीं कि स्थानीय किसान कब, कहां उनका घेराव कर दें। 

26 मई को जब किसानों ने उनके आंदोलन के छह महीने पूरे होने पर काला दिन मनाया था तो हिसार के सिरसा में भी दुष्यंत चौटाला के घर कूच का आह्वान किया था। लेकिन पुलिस के जबरदस्त विरोध के बाद किसान उनके घर तक नहीं पहुंच सके थे। 

अब हिसार पुलिस ने प्रदर्शन में शामिल 150 किसानों के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज कर लिया है। किसानों ने पुलिस के लगाए बैरिकेड्स उखाड़ दिए थे और उसके बाद दोनों पक्षों में संघर्ष हुआ था। 

ताज़ा ख़बरें

जारी रहेगा विरोध 

किसान नेताओं का कहना है कि पुलिस-प्रशासन चाहे जितने मुक़दमे दर्ज कर ले लेकिन जब तक ये तीनों कृषि क़ानून रद्द नहीं हो जाते, बीजेपी और जेजेपी के नेताओं का विरोध जारी रहेगा। किसान नेताओं का कहना है कि 26 मई का उनका सिरसा वाला प्रदर्शन शांतिपूर्ण था और वे दुष्यंत चौटाला के घर के पास पुतला जलाना चाहते थे लेकिन पुलिस ने रास्ते में बैरिकेड्स लगा दिए थे और आगे बढ़ने के लिए ही किसानों ने बैरिकेड्स को हटाया था। 

farmers protesting against Dushyant chautala in sirsa  - Satya Hindi

जबकि हिसार के संभागीय आयुक्त चंदर शेखर का कहना है कि किसान नेताओं ने कहा था कि वे शांतिपूर्ण प्रदर्शन करेंगे लेकिन बावजूद इसके ग़ैर-क़ानूनी ढंग से बैरिकेड्स हटा दिए और चौटाला के घर से 200 मीटर दूरी पर पुतला भी जलाया। उन्होंने कहा कि लेकिन इसके बाद भी पुलिस-प्रशासन ने बहुत समझदारी से काम लिया और हालात को ख़राब नहीं होने दिया। 

हाल ही में जब मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को हिसार में एक कार्यक्रम आना था तब भी किसानों और पुलिस के बीच जबरदस्त भिड़ंत हुई थी। कई गांवों में इस तरह के पोस्टर लग चुके हैं कि उनके वहां बीजेपी-जेजेपी के नेताओं का आना मना है। 

बीजेपी और जेजेपी के लिए किसान आंदोलन सिरदर्द बन गया है। हालांकि अभी राज्य में विधानसभा चुनाव काफी दूर हैं लेकिन जिस तरह बीजेपी और जेजेपी के नेताओं का गांवों में विरोध हो रहा है, सरकार के साथ ही पार्टी संगठन के लोगों के लिए भी इससे निपटना मुश्किल हो गया है।

निशाने पर हैं दुष्यंत 

ख़ासकर, दुष्यंत चौटाला इस आंदोलन के शुरू होने के बाद से ही किसानों और युवाओं के निशाने पर हैं। किसानों और युवाओं का कहना है कि दुष्यंत ने बीजेपी के विरोध और किसानों की हिमायत करने के वादे के कारण पहले ही चुनाव में बड़ी सफ़लता हासिल की थी। लेकिन अब वह कुर्सी मोह के कारण किसानों का साथ नहीं देना चाहते। 

कई नेताओं का इस्तीफ़ा

दोनों दलों के कई नेता इस्तीफ़ा दे चुके हैं। इनमें हरियाणा बीजेपी के बड़े नेता रामपाल माजरा, बलवान सिंह दौलतपुरिया सहित कई लोग शामिल हैं। इसके अलावा दादरी से निर्दलीय विधायक सोमवीर सांगवान ने हरियाणा पशुधन विकास बोर्ड के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था और करनाल जिले के जेजेपी अध्यक्ष इंद्रजीत सिंह गौराया ने भी पार्टी छोड़ दी थी। 

हरियाणा से और ख़बरें

ग़लती कर गए दुष्यंत?

सियासत में नए-नए उतरे दुष्यंत बहुत कम उम्र में सांसद, विधायक से लेकर उप मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंच गए लेकिन लगता है कि किसानों के मामले में वे ग़लती कर गए हैं। क्योंकि हरियाणा में किसानों, युवाओं के समर्थन के बिना राजनीति करना असंभव है और उसमें भी गांवों के इलाक़ों में। 

चौधरी देवीलाल की राजनीतिक विरासत होने का दावा करने वाले दुष्यंत अगर किसानों के साथ शामिल हो जाते तो शायद हालात दूसरे होते लेकिन देखना होगा कि उनका यह फ़ैसला उनके लिए बेहतर साबित होता है या ख़राब। उनके चाचा अभय चौटाला किसानों के समर्थन में विधानसभा से इस्तीफ़ा देकर उन पर सियासी दबाव बढ़ा चुके हैं।  

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

हरियाणा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें