loader

सीबीआई : धनबाद के ज़िला जज को धक्का जानबूझ कर दिया गया था

सुबह जॉगिंग पर निकले धनबाद के ज़िला जज उत्तम आनंद को पीछे से ऑटो से धक्का जानबूझ कर मारा गया था। केंद्रीय जाँच ब्यूरो ने सीसीटीवी फ़ुटेज देखने और उसके 3-डी विश्लेषण करने के बाद यह निष्कर्ष निकाला है। सीबीआई ने झारखंड हाई कोर्ट को यह जानकारी दी है। 

बता दें कि पिछले महीने हुई इस वारदात में शुरुआती रिपोर्ट आई थी कि जज की मौत ऑटो की टक्कर से हुई। लेकिन इसके साथ ही हत्या की आशंका जताई जा रही थी। 

वीडियो क्लिप में दिख रहा था कि जज उत्तम आनंद सड़क किनारे मॉर्निंग वॉक पर थे और पूरी सड़क खाली थी। लेकिन ऑटो ड्राइवर ऑटो को बीच सड़क से किनारे ले आया और जज को टक्कर मारकर फरार हो गया।
इस घटना की वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो सुप्रीम कोर्ट ने इसका संज्ञान लिया था। मुख्य न्यायाधीश एन. वी. रमना ने झारखंड हाई कोर्ट के चीफ़ जस्टिस से इस मामले में बात की थी। 

सीबीआई जाँच

इसके बाद झारखंड सरकार ने सीबीआई जाँच की सिफारिश की थी। 

सीबीआई की जाँच अंतिम चरण में है। 'एनडीटीवी' के अनुसार, एजेन्सी फोरेंसिक रिपोर्ट और फीजिकल रिपोर्ट का मिलान कर रही है। सीबीआई ने गांधीनगर, दिल्ली और मुंबई की चार अलग-अलग एजेंसियों को फोरेंसिक जाँच करने को कहा था। सबका अध्ययन किया जा रहा है। 

इसके अलावा ब्रेन मैपिंग, नार्को एनलिसिस और लाई डिटेक्टर की जाँच की रिपोर्टें भी आ गई हैं। 

जिन्हें गिरफ़्तार किया गया था, उनकी पहचान ऑटो ड्राइवर लखन वर्मा और उसके सहायक राहुल वर्मा के रूप में की गई है। यह ऑटोरिक्शा किसी महिला के नाम पंजीकृत है। 

एसआईटी जाँच

बता दें कि इसके पहले मामले की जाँच कर रही एसआईटी यानी विशेष जाँच दल को झारखंड हाई कोर्ट ने ज़बरदस्त फटकार लगाई थी। अदालत ने कहा था कि झारखंड पुलिस 'एक ख़ास जवाब' पाने के लिए ख़ास 'सवाल पूछ रही है'। अदालत ने इस मामले को स्वत: संज्ञान लिया था।

हाई कोर्ट ने कहा था कि ऑटोप्सी रिपोर्ट में कहा गया है कि मौत 'सिर पर कठोर और कुंद पदार्थ से चोट लगने के कारण' हुई थी। इसी का हवाला देते हुए कोर्ट ने पूछा था कि ऐसे में पुलिस क्यों पूछ रही थी कि क्या गिरने के कारण ऐसी चोटें संभव हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

झारखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें