loader

एमपी के सीएम ने कहा, गोबर-गोमूत्र से सुधरेगी अर्थव्यवस्था

गाय के नाम पर राजनीति करने वाली भारतीय जनता पार्टी का अब मानना है कि गाय के बल पर अर्थव्यवस्था भी खड़ी की जा सकती है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि गाय, गाय के गोबर और गोमूत्र के बल पर कोई व्यक्ति अपनी आर्थिक हालत सुधार सकता है और देश की अर्थव्यवस्था को भी ठीक किया जा  सकता है। 

इंडियन वेटनरी एसोसिएशन की ओर से महिला पशु चिकित्सकों की लिए आयोजित कार्यक्रम 'शक्ति 2021' में मुख्यमंत्री ने यह कहा। उन्होंने वहाँ मौजूद पशु चिकित्सकों से कहा, 

यदि हम चाहें तो गाय के पालन, उसके गोबर व गोमूत्र से अपनी आार्थिक स्थिति ठीक कर सकते हैं और देश की अर्थव्यवस्था को भी लायक बना सकते हैं।


शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री, मध्य प्रदेश

उन्होंने इसका आगे कहा, "मध्य प्रदेश के श्मशान घाटों पर गाय के उपले से बने गौकाष्ठ का इस्तेमाल कर लकड़ी का प्रयोग कम कर दिया गया है।"

इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री ने पशु चिकित्सकों और विशेषज्ञों को सलाह दी कि वे गोपालन पर शोध करें ताकि यह छोटे किसानों व पशु पालकों के लिए फ़ायदे का काम बन  सके।

वहाँ मौजूद केंद्रीय मत्स्य पालन, पशु पालन व दुध्य व्यवसाय मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला ने कहा कि गुजरात में बड़ी तादाद में महिलाएं गोपालन के काम में लगी हुई हैं और इससे डेरी व्यवसाय समृद्ध हुआ है।

ख़ास ख़बरें

बजट में गाय पर विशेष आबंटन

याद दिला दें कि बीजेपी सरकार ने 2019 के अंतरिम बजट में गायों के लिए अलग से व्यवस्था की थी और उस पर करोड़ों रुपए खर्च करने की योजना का एलान किया था। अंतरिम बजट पेश करते  हुए तत्कालीन कार्यकारी वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने कई बड़े वादे किए थे।

 उन्होंने गायों के लिए अलग से आयोग बनाने और कामधेनु योजना की घोषणा की थी। बजट भाषण में गोयल ने कहा था, 'गौमाता के सम्मान में और गौमाता के लिए यह सरकार कभी पीछे नहीं हटेगी। जो ज़रूरत होगी, वह काम करेगी।'  

cow politics as MP CM says cow dung, cow urine to improve economy - Satya Hindi

अंतरिम बजट 2019 की बड़ी घोषणाएँ

  • गायों के लिए शुरू होगी कामधेनु योजना।
  • राष्ट्रीय गोकुल आयोग बनाया जाएगा।
  • कामधेनु योजना पर 750 करोड़ रुपये खर्च होंगे।
  • पशुपालन और मत्स्य के लिए कर्ज़ में 2 फ़ीसदी ब्याज में छूट मिलेगी।
  • वित्त मंत्री ने कहा कि कामधेनु योजना के तहत गायों का संरक्षण किया जाएगा। योजना के तहत गोहत्या, गो तस्कर, फ़र्ज़ी गोसेवक के अलावा पालतू गायों को छोड़ देने वाले लोगों पर भी कार्रवाई की जा सकती है। इसके अलावा किसानों के लिए भी कई योजनाओं की घोषणा की गई।

यूपी में गोपालन के लिए 'सेस'

इसी समय यानी 2019 में ही उत्तर प्रदेश सरकार ने गायों की सेवा के लिए पैसे उगाहने के लिए अतिरिक्त 'सेस' का एलान किया था। योगी सरकार ने आवारा गायों की देखभाल के लिए आश्रय स्थल बनाने, उनके चारे पानी के लिए शराब की बिक्री पर 0.5 फ़ीसदी अतिरिक्त 'सेस' लगाया था। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि गायों के लिए आश्रयस्थल बनाने और उनकी देखभाल के लिए 16 नगर निगमों को 160 करोड़ रुपए जबकि हर जिले को 1.20 करोड़ रुपये दिए जा चुके हैं। प्रदेश सरकार ने गांवों, स्थानीय निकायों में गौशालाएं बनाने के लिए 100 करोड़ रुपये अतिरिक्त जारी किए। 

cow politics as MP CM says cow dung, cow urine to improve economy - Satya Hindi
योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश

कांग्रेस ने भी मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में प्रत्‍येक ग्राम पंचायत में गौशाला खोलने का वादा किया था।

केजरीवाल : गायों  के लिए हॉस्टल

गायों पर यह राजनीति बीजेपी तक सीमित नहीं है। राहुल गाँधी, योगी आदित्यनाथ के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भी गायों की चिंता हुई। दिल्ली सरकार ने 2019 में ही गायों के लिए ‘पीजी हॉस्टल’ बनाने का एलान किया था। सरकार ने कहा था कि वह इन ‘पीजी हॉस्टल’ को इस तरह बनाएगी कि यहाँ बुज़ुर्ग लोग भी रह सकेंगे। 

केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के घुम्मनहेड़ा गाँव में ‘पीजी हॉस्टल’ बनाने के लिए जगह खोज ली है। सरकार के पशु स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग ने कहा है कि इन हॉस्टल की मदद से सरकार पशुओं के टीकाकरण के बारे में भी जानकारी रख सकेगी। सरकार की पूरी दिल्ली में 33 गौशालाएँ बनाने और 5 पुरानी गौशालाओं को नए ढंग से बनाने की योजना है।

cow politics as MP CM says cow dung, cow urine to improve economy - Satya Hindi
अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री, दिल्ली
पशुओं के लिए दिल्ली सरकार की योजना के बारे में बताते हुए रोज़गार और श्रम मंत्री गोपाल राय ने कहा था कि सरकार की दिल्ली के सभी 272 वार्डों में पशु अस्पताल खोलने की योजना है। इसके अलावा केजरीवाल सरकार, पशुओं के लिए 24 घंटे चलने वाला एक अस्पताल भी खोलने जा रही है। राय ने कहा कि यह अस्पताल बनकर तैयार हो चुका है और 16 जनवरी से इसे शुरू किए जाने की संभावना है। 

गाय राष्ट्रीय पशु?

याद दिला दें कि इसी साल सितंबर में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कहा था कि गाय भारत की संस्कृति का अहम हिस्सा है और इसे राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए। 

जस्टिस यादव ने कहा था, “गो रक्षा का काम केवल किसी एक संप्रदाय का नहीं है बल्कि गाय भारत की संस्कृति है और संस्कृति को बचाने का काम देश के हर नागरिक का है, फिर चाहे उसका धर्म कुछ भी हो।” क़ानूनी ख़बरें देने वाली वेबसाइट बार एंड बेंच के मुताबिक़, जस्टिस ने कहा, “जब गाय का कल्याण होगा, तभी देश का कल्याण होगा।” 

जस्टिस यादव ने कहा था कि भारत ही एक ऐसा देश है, जहां अलग-अलग धर्मों के लोग रहते हैं, जो अलग-अलग ढंग से पूजा करते हैं लेकिन देश के लिए उनके विचार एक जैसे हैं। उन्होंने कहा, “गाय को भारत के प्राचीन ग्रंथों जैसे वेदों और महाभारत में भी एक अहम हिस्से के रूप में दिखाया गया है।”

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें