loader

बिहार : युवा आरटीआई कार्यकर्ता व पत्रकार की हत्या

बिहार के मधुबनी ज़िले में एक आरटीआई कार्यकर्ता और युवा पत्रकार की जली हुई लाश पुलिस को मिली है। वह व्यक्ति एक स्थानीय न्यू़ज पोर्टल में काम करता था। 

'एनडीटीवी' के अनुसार, बुद्धिनाथ झा उर्फ अविनाश झा ने कुछ खबरें की थीं, जिनमें उन्होंने कुछ मेडिकल क्लिनिक को फ़र्जी बताया था। इसके बाद उन्हें  धमकियाँ दी गई थीं और इस तरह की खबरें न करने के लिए पैसों की पेशकश की गई थी। 

बुद्धिनाथ झा गायब हो गए थे और पुलिस में रिपोर्ट कराए जाने के चार दिन बाद उनकी लाश बेनीपट्टी थाना के अंतर्गत एक सड़क के किनारे मिली थी। गायब होने के दो दिन पहले इस युवा पत्रकार ने फ़ेसबुक पोस्ट किया था, जिसमें इन फर्जी मेडिकल क्लिनिकल का भंडाफोड़ किया था। 

ख़ास ख़बरें

बेनीपट्टी थाने के लोहिया चौक के पास लगे सीसीटीवी कैमरे में बुद्धिनाथ झा मंगलवार की रात 10 बजे के करीब दिखे थे। उनका घर थाने से लगभग 400 मीटर दूर है। 

सीसीटीवी फुटेज में यह युवा आरटीआई कार्यकर्ता रात के 9 बजे के आस पास सड़क पर चलते हुए और फ़ोन पर बात करते हुए कई बार दिखता है। अंतिम फीड में वह रात 10.05 और 10.10 के बीच सड़क पर एक आदमी से बात करते हुए दिखते हैं। उसके बाद वे गायब हो गए और सीसीटीवी फुटेज में भी नहीं दिखे। 

madhubani news: bihar RTI activist killed - Satya Hindi

बुद्धिनाथ झा जब अगले दिन भी घर नहीं लौटे तो परिजनों ने थाने में शिकायत लिखवाई। पुलिस का कहना है कि बुधवार की सुबह 9 बजे इस युवा आरटीआई कार्यकर्ता ने बेनीपट्टी से लगभग पाँच किलोमीटर दूर बेतून गाँव में अपना फ़ोन स्विच ऑफ़ कर दिया। पुलिस को इसके बाद की कोई जानकारी अब तक नहीं मिली है।

बुद्धिनाथ के चचेरे भाई बी. जे. विकास को जानकारी मिली कि बेतून गाँव में सड़क किनारे एक लाश मिली है। वह लाश जली हुई थी। लेकिन एक अंगूठी, गले में एक हार और पैर पर एक निशाने के आधार पर उसकी शिनाख़्त कर ली गई।

लाश का पोस्ट मॉर्टम और उसके बाद उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

इस वारदात के पास आसपास के गाँवों में लोगों के मन में दुख और ज़बरदस्त गुस्सा है। 

 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें