loader

असम-मिज़ोरम सीमा विवाद सुलझाने के लिए बात करने को तैयार हैं मिज़ो सीएम

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से टेलीफ़ोन पर बातचीत के बाद मिज़ोरम के मुख्यमंत्री ज़ोरमथंगा ने कहा है कि वे सीमा विवाद सुलझाने के लिए असम के मुख्यमंत्री के साथ बात करने को तैयार हैं। 

उन्होंने रविवार सुबह ट्वीट किया, "केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और असम के मुख्यमंत्री से बातचीत के बाद असम-मिज़ोरम सीमा विवाद सुलझाने के लिए अर्थपूर्ण बातचीत करने को हम सहमत हो गए हैं।" 

उन्होंने यह भी कहा है कि दोनों राज्यों के बीच तनाव कम करने के लिए नए सिरे से बातचीत शुरू हो गई है। 

मिज़ोरम की आर्थिक नाकेबंदी

असम-मिज़ोरम झड़प के कई दिन बीत जाने और असम-मिज़ोरम सीमा पर केंद्रीय बलों की तैनाती के बावजूद तनाव बरक़रार है, ज़मीनी स्तर पर स्थिति जस की तस है। 

दोनों ही राज्यों ने एक दूसरे के ख़िलाफ़ दायर एफ़आईआर की अनदेखी की है, दोनों ही एक दूसरे के ख़िलाफ़ बयानबाजी कर रहे हैं।

मिज़ोरम की आर्थिक नाकेबंदी चालू है और वह राज्य अब दयनीय स्थिति की ओर बढ़ रहा है, पर न तो असम ने इसमें कोई ढिलाई दी है और न ही केंद्र ने कोई हस्तक्षेप कर नाकेबंदी हटाने की कोई कोशिश की है। 

ख़ास ख़बरें

एक-दूसरे पर एफ़आईआर

मिज़ोरम के कोलासिब ज़िले के वेरेंगेटे में पुलिस ने असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सर्मा और छह पुलिस अफ़सरों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कराई है तो असम के कछार में मिज़ोरम पुलिस के आला अफ़सरों के ख़िलाफ़ मामला दायर किया गया है।

हालांकि असम के मुख्यमंत्री ने शनिवार को कहा था कि वे जाँच में सहयोग करने को तैयार हैं, अब तक इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया गया है। इसके उलट असम पुलिस ने इस एफ़आईआर को ही बचकाना क़रार दिया है।

असम पुलिस ने एक बयान में कहा है,

मिज़ोरम का यह कदम बचकाना है, सच यह है कि जिस जगह झड़प हुई, वह असम की सीमा के अंदर है, इसलिए मामला दायर ही करना हो तो असम पुलिस करेगी। लेकिन अब यही ठीक होगा कि यह मामला सीबीआई या एनआईए को सौंप दिया जाए।


असम पुलिस के बयान का अंश

मिज़ोरम का जवाब

असम के मुख्यमंत्री ने भी शनिवार को कहा था कि यह मामला किसी केंद्रीय एजेन्सी को सौंप दिया जाना चाहिए।

इस बीच मिज़ोरम का रवैया भी सख़्त हो गया है। इसके गृह मंत्री ललचमलियाना ने कहा है कि मिज़ोरम पुलिस असम के बुलावे का सम्मान नहीं करेगी। उन्होंने कहा, 

हम उनके समन को नहीं मानते। जो इलाक़ा उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं है, वहाँ हुए किसी कांड के लिए वे कैसे किसी को समन जारी कर सकते हैं? हमारे लिए इसका कोई मतलब नहीं है।


ललचमलियाना, गृह मंत्री, मिज़ोरम

असम पुलिस यह मानती है कि मिज़ोरम से सटी सीमा पर स्थिति जस की तस है और गाड़ियों की आवाजाही पूरी तरह बंद है। लेकिन वे इसमें किसी तरह की छूट देने को भी तैयार नहीं हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

असम से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें