loader

छत्तीसगढ़ कांग्रेस में भी संकट गहराया, अपने विधायकों को दिल्ली बुलाया

पंजाब में कांग्रेस दो गुटों के संकट से तो गुजर ही रही है, छत्तीसगढ़ में भी अब संकट गहराता जा रहा है। यह संकट कितना गंभीर है इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि पार्टी ने विधायकों को दिल्ली तलब किया है। दो दिन पहले ही छत्तीसगढ़ कांग्रेस के दो बड़े नेताओं ने पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से दिल्ली में मुलाक़ात की थी। ये दोनों नेता कोई और नहीं, बल्कि ख़ुद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव हैं। समझा जाता है कि टीएस सिंहदेव राज्य की सरकार में सर्वोच्च पद चाहते हैं। इसी वजह से छत्तीसगढ़ में यह संकट आया है। वह खुद शुक्रवार को राहुल गांधी से मुलाक़ात करने वाले हैं। इस हफ़्ते यह राहुल के साथ दूसरी मुलाक़ात होगी। कांग्रेस आलाकमान के सामने अब दोहरी चुनौती है कि वह किस-किस से निपटे। 

ताज़ा ख़बरें

हालाँकि ऊपरी तौर पर जिस तरह से पार्टी के दोनों पक्षों की ओर से बयान आ रहे हैं उसमें वह तल्खी नहीं दिखती, लेकिन कांग्रेस को भी यह अंदाज़ा है कि यह उतना आसान नहीं है। दो दिन पहले जब बघेल ने दिल्ली में राहुल से मुलाक़ात की थी तब उन्होंने कहा था कि पार्टी आलाकमान जो तय करेगा वह उन्हें मंजूर होगा। नेतृत्व के सवाल पर टीएस सिंहदेव ने भी कहा था कि पार्टी आलाकमान के फ़ैसले से वह सहमत हैं। लेकिन कहा तो यह जा रहा है कि दिल्ली में राहुल से मुलाक़ात के बाद वह छत्तीसगढ़ लौटे भी नहीं हैं। 

वैसे, छत्तीसगढ़ में दिसंबर, 2018 में जब कांग्रेस की सरकार बनी थी तभी मुख्यमंत्री कौन होगा, इसे लेकर जबरदस्त खींचतान हुई थी। मुख्यमंत्री पद के चार दावेदारों के बीच कांग्रेस हाईकमान ने बघेल को चुना था। बघेल के अलावा टीएस सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू और चरणदास महंत मुख्यमंत्री पद की दौड़ में थे। यह भी चर्चा हुई थी कि ढाई साल में दूसरे दावेदार को मुख्यमंत्री बनाया जाएगा। हालांकि बघेल ढाई साल वाले किसी फ़ॉर्मूले से लगातार इनकार करते रहे हैं। 

लेकिन ग़ौर करने वाली बात यह है कि टीएस सिंहदेव और उनके समर्थकों की नाराज़गी भी तब बढ़नी शुरू हुई जब भूपेश बघेल के मुख्यमंत्री बने क़रीब ढाई साल हो गए। बीते दो महीने से इसे लेकर चर्चा तेज़ है कि क्या कांग्रेस हाईकमान मुख्यमंत्री बघेल को बदलेगा।बीते कुछ दिनों में टीएस सिंहदेव के कथित रूप से नाराज़ होने की ख़बरें छत्तीसगढ़ के सियासी गलियारों से आती रही हैं। 
कुछ दिन पहले कांग्रेस विधायक बृहस्पति सिंह ने टीएस सिंहदेव पर आरोप लगाया था कि बघेल के पक्ष में बयान देने के कारण सिंहदेव ने उन पर हमला करवाया था।

इसके बाद सिंहदेव विधानसभा से बाहर निकल गए थे और इसी शर्त पर लौटे थे कि सरकार विधायक के इस बयान को आधिकारिक रूप से खारिज कर दे। 

सिंहदेव ने शिकायत की थी कि स्वास्थ्य महकमे के सचिवों को लगातार बदला जा रहा है। इसके अलावा कुछ और योजनाओं पर भी सिंहदेव और बघेल के बीच में विवाद हो चुका है। 

छत्तीसगढ़ से और ख़बरें

बहरहाल, भूपेश बघेल को बदलना भी इतना आसान नहीं है। ये वो शख़्स हैं, जिनके प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रहते हुए ही 15 साल से छत्तीसगढ़ की सत्ता में बैठी बीजेपी की विदाई हुई थी। जबकि वहाँ रमन सिंह का हारना बेहद मुश्किल लग रहा था। भूपेश बघेल अन्य पिछड़ा वर्ग से आते हैं और कांग्रेस को एक ऐसे बड़े ओबीसी नेता की ज़रूरत है जो उसके लिए दूसरे राज्यों में भी चुनावी ज़मीन तैयार कर सके। 

कांग्रेस छत्तीसगढ़ के इस संकट से पंजाब में संकट से पहले से ही जूझ रही है। पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू, इन दोनों गुटों के बीच भी ऐसी ही तनातनी चल रही है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

छत्तीसगढ़ से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें