loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/गुरनाम सिंह चड़ूनी

पुलिस लाठीचार्ज में घायल किसान की दिल का दौरा पड़ने से मौत: चड़ूनी

भारतीय किसान यूनियन के नेता गुरनाम सिंह चड़ूनी ने रविवार को कहा है कि करनाल पुलिस लाठीचार्ज में घायल हुए एक किसान का देर रात दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। हरियाणा के करनाल में किसानों पर शनिवार को पुलिस की लाठीचार्ज की कार्रवाई विवादों में है। पुलिस के लाठीचार्ज में क़रीब 10 लोग घायल हुए हैं। किसान उस हाईवे को जाम किए हुए थे जो हरियाणा के करनाल की ओर जाता है। वे बीजेपी बीजेपी की उस बैठक का विरोध कर रहे थे जिसमें मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, राज्य भाजपा प्रमुख ओम प्रकाश धनखड़ और अन्य वरिष्ठ नेता शामिल थे। 

चड़ूनी ने इस मामले में एक ट्वीट कर कहा कि सुशील काजल नाम के वह किसान 9 महीने से किसान आंदोलन में सहयोग दे रहे थे। उन्होंने लिखा, 'भाई सुशील काजल जो डेढ़ एकड़ के किसान थे, 9 महीने से आंदोलन में अपनी हिस्सेदारी दे रहे थे। कल करनाल टोल प्लाजा पर जो पुलिस ने लाठियां चलाईं उनको बहुत चोट आई थी और रात को हार्ट फेल के कारण शरीर त्याग कर भगवान को प्यारे हो गए। किसान कौम इनके बलिदान की सदा आभारी रहेगी।'

ताज़ा ख़बरें

इससे पहले उन्होंने उस लाठीचार्ज को लेकर कहा था, 'प्रशासन और सरकार का यह तानाशाह रवैया बर्दाश्त नही करेंगे। कल 11 बजे करनाल में हरियाणा के सभी किसान संगठनों की मीटिंग है। उस मीटिंग में अगला फ़ैसला लिया जाएगा और इस मीटिंग में हरियाणा के सभी किसान संगठनों को आना है जो आंदोलन में शामिल हैं। किसी को विशेष मैसेज नहीं दिया जा रहा है।'

इसी लाठीचार्ज से पहले वायरल एक वीडियो में करनाल ज़िले के एक सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट आयुष सिन्हा आन्दोलनकारी किसानों का सिर फोड़ने का निर्देश पुलिस वालों को देते हुए दिख रहे हैं। वे पुलिस कर्मियों को निर्देश देते हैं कि एक सीमा के आगे किसी किसान को किसी कीमत पर आगे नहीं बढ़ने दिया जाना चाहिए, भले इसके लिए उसका सिर फोड़ना पड़े।

वीडियो में आयुष सिन्हा को यह कहते सुना जा सकता है, 'अगर मुझे वहाँ एक भी प्रदर्शनकारी दिखे, तो मुझे उसका सिर फूटा हुआ दिखना चाहिए, हाथ टूटा हुआ दिखना चाहिए।' वे कहते हैं, "बात बहुत ही साफ है, जो भी हो, जहां से भी हो, उसे वहां तक पहुँचने की इजाज़त नहीं है। हमें इस लाइन को किसी भी हाल में पार नहीं करने देना है।" 

इन घटनाओं के बाद आज रविवार को नूह में पहले से ही प्रस्तावित किसान महापंचायत हुई। उसमें शामिल हुए राकेश टिकैत ने पुलिस लाठीचार्ज को लेकर कहा कि 'देश में सरकारी तालिबान का कब्जा हो चुका है।'

उन्होंने आगे कहा कि देश में सरकारी तालिबान के कमांडर मौजूद हैं और इन कमांडरों की पहचान करनी पड़ेगी। जब उनसे पूछा गया कि वे कमांडर कौन हैं तो उन्होंने कहा 'जिन्होंने आदेश दिया सर फोड़ने का वही कमांडर हैं।'

इस घटना को लेकर एक दिन पहले ही टिकैत ने ट्वीट कर हरियाणा सरकार की आलोचना की और मुख्यमंत्री खट्टर के व्यवहार को 'जनरल डायर जैसा' व्यवहार क़रार दिया। 

हरियाणा से और ख़बरें

बता दें कि हरियाणा पुलिस ने शनिवार को उन किसानों पर लाठीचार्ज किया, जिन्होंने राजमार्ग पर धरना देकर यातायात रोक दिया था। वहाँ बीजेपी की एक बैठक थी। केंद्र की बीजेपी सरकार जब से नये कृषि क़ानून लेकर आयी है तब से किसान बीजेपी नेताओं का विरोध कर रहे हैं। बीजेपी नेताओं की बैठकों और सभाओं का विरोध तो वे करते ही रहे हैं, क्षेत्र का दौरा करने आने पर उनका घेराव भी वे करते रहे हैं। शनिवार को जब बीजेपी नेताओं की बैठक हो रही थी तो किसानों ने इसके ख़िलाफ़ भी हाईवे पर जाम लगा दिया। इसी को लेकर एसडीएम ने किसानों पर कार्रवाई का निर्देश दिया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

हरियाणा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें