loader

हिमाचल : किन्नौर में भूस्खलन, 13 मरे, 30 लापता

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में हुए भूस्खलन में कम से कम 13 लोगों की मौत हो गई है और तकरीबन 30 लोग लापता हैं। एक सरकारी बस समेत कई गाड़ियाँ इसकी चपेट में आ गईं। यह बस शिमला जा रही थी और इसमें 40 लोग सवार थे। 

इस हादसे का जो वीडियो सामने आया है, उसमें दिख रहा है कि पहाड़ का बड़ा हिस्सा अचानक भरभराकर नीचे गिर गया और सड़क पर जा रही बस और दो कारें इसकी चपेट में आ गयीं। 

आईटीबीपी, एनडीआरएफ और सीआईएसएफ़ की टीम मौक़े पर पहुंचकर बचाव कार्य में जुटी है। 

आईटीबीपी ने कहा है कि मलबे में 40 से 60 लोगों के दबे होने की आशंका है। जयराम ठाकुर ने 'आज तक' से बातचीत में कहा कि मलबे में घायल लोगों को निकालकर अस्पताल ले जाया गया है। उन्होंने कहा कि पहाड़ से पत्थर गिरने के कारण बचाव कार्य शुरू होने में थोड़ा वक़्त लगा लेकिन इस बात की उम्मीद है कि बुधवार रात तक बचाव कार्य का काम पूरा हो जाएगा। 

इस साल का मानसून पहाड़ी इलाक़ों के लिए बेहद ख़राब रहा है। पहाड़ों के टूटने की कई ख़बरें उत्तराखंड, हिमाचल से आई हैं और विशेषज्ञों के मुताबिक़, यह लगातार पहाड़ों और पर्यावरण से की जा रही छेड़छाड़ का नतीजा है। 

ताज़ा ख़बरें

मोदी ने की मुख्यमंत्री से बात

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा है कि उन्होंने पुलिस और स्थानीय प्रशासन से बचाव कार्य तेज़ करने को कहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जयराम ठाकुर से बात की है और उन्हें हरसंभव मदद का भरोसा दिया है।

गृहमंत्री अमित शाह ने ट्वीट करके जानकारी दी है कि आईटीबीपी पूरी तत्परता से बचाव कार्य में लगी हुई है।

हिमाचल से और ख़बरें

कुदरत का कहर 

पिछले महीने ही महाराष्ट्र में हुई भारी बारिश के बाद आई बाढ़ ने भीषण तबाही मचाई थी। बाढ़ और भूस्खलन के कारण महाराष्ट्र के अलग-अलग ज़िलों में 150 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई थी और कई लोग घायल और लापता हो गए थे। हालात इस क़दर ख़राब थे कि एनडीआरएफ़, कोस्टगार्ड, नौसेना और वायुसेना के जवानों को राहत कार्यों में लगाना पड़ा था। 

इस साल जून में असम में भूस्खलन हुआ था और 20 से ज़्यादा लोग मारे गए थे। इस इलाक़े में लगातार बारिश के बाद भूस्खलन हुआ था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

हिमाचल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें