loader

रामगढ़ डायलॉग- इस विकास में आम आदमी कहां है: चारू तिवारी

रामगढ़ (नैनीताल)। रामगढ़ डायलॉग के दूसरे दिन का दूसरा सत्र उत्तराखंड राज्य पर था। विषय था उत्तराखंड- आकांक्षा, हकीकत और उम्मीद। इस विषय पर चर्चा के दौरान राज्य आंदोलन का हिस्सा रहे सामाजिक कार्यकर्ताओं, पर्यावरणविदों और वरिष्ठ पत्रकारों ने राज्य के मौजूदा स्वरूप पर चिंता जाहिर की।

पर्यावरणविद एवं राज्य आंदोलन का हिस्सा रहे चारू तिवारी ने कहा कि ऐसे विकास का कोई मतलब नहीं है, जिसमें स्थानीय आम आदमी शामिल न हो। बीते 21 वर्षों में पहाड़ों को काटकर सड़क, सुरंग और बांध बनाने का काम किया गया है, लेकिन क्या इस विकास में राज्य के आम आदमी की भागीदारी है। हिमालयी क्षेत्र वास्तविक स्वरूप में बना रहे यह न केवल पूरे देश बल्कि एशिया के लिए भी उतना ही जरूरी है।

ताज़ा ख़बरें

उत्तराखंड राज्य आंदोलन का हिस्सा रहे भुवन पाठक ने कहा कि आज राज्य में जंगल के नाम पर सिर्फ चीड़ के पेड़ बचे हैं, जिसमें वन्य जीवों को न भोजन मिल रहा है और न संरक्षण। यही कारण है कि वन्य जीव आबादी वाले क्षेत्र में आकर हमला कर रहे हैं।

सामाजिक कार्यकर्ता सुरेश भाई ने कहा कि राज्य को प्राकृतिक रूप से बचाए रखने के लिए, जल-जंगल और जमीन के लिए एकीकृत नीति की आवश्यकता है। ऊर्जा प्रदेश बनाने के लिए हमारी नदियों पर 2008 तक 558 बांध बना दिए। सरकार ने कहा कि 30 हजार मेगावाट बिजली बनेगी, जबकि उत्तराखंड की जरूरत दो हजार मेगावॉट की थी।

वरिष्ठ पत्रकार आलोक जोशी ने ऑल वेदर रोड परियोजना पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा, "यह प्रकृति के साथ खिलवाड़ है। हम चारधाम दर्शन के लिए नहीं, पिकनिक स्पॉट के लिए सड़क बना रहे हैं।"

साहित्य से और ख़बरें

वरिष्ठ पत्रकार और पर्यावरण मामलों पर काम कर रहे हृदयेश जोशी ने कहा कि पहाड़ पर सड़क बनाते वक्त नियम है कि सड़क बनाने के लिए जितना पहाड़ काटा जाएगा, उसी कटे हुए पत्थर की सड़क बनाई जाएगी, लेकिन यहां पहाड़ काटकर नदियों में गिराए जा रहे हैं।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए वरिष्ठ पत्रकार अंबरीश कुमार ने कहा कि उत्तराखंड में 21 वर्ष के सफर के दौरान परिवर्तन भी दिखाई देता है। आज यहां के किसान खेती में नए-नए प्रयोग कर रहे हैं। सेब की नई प्रजाति से लेकर कीवी की खेती तक का दायरा बढ़ रहा है। 

अंबरीश कुमार ने आगे कहा, “ट्राउट मछली पाली जा रही है जो काफी मुनाफा देने वाली है। मुझे लगता है कि युवा पीढ़ी प्राकृतिक संसाधनों को बचाने की दिशा में भी काम करेगी।”

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

साहित्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें