loader

बीजेपी नेता बोले- ब्राह्मण-बनिया मेरी जेब में हैं, कांग्रेस बोली-माफ़ी मांगें

एक वक़्त में ब्राह्मण और बनियों की पार्टी कही जाने वाली बीजेपी अब दलितों, ओबीसी वर्ग के बीच तेज़ी से पकड़ बना रही है। लेकिन शायद उसके बड़े नेता अभी भी इसे मूल रूप से ब्राह्मण और बनियों की पार्टी मानते हैं। बीजेपी के महासचिव पी. मुरलीधर राव ने एक ताज़ा बयान में कहा है कि उनकी जेब में ब्राह्मण और बनिया हैं। कांग्रेस ने कहा है कि राव अपने इस बयान के लिए माफ़ी मांगें। 

मुरलीधर राव मध्य प्रदेश बीजेपी के प्रभारी भी हैं। वह सोमवार को भोपाल में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इस दौरान राव ने यह बयान दिया। हालांकि उन्होंने बात को संभालते हुए कहा, “जब बीजेपी शुरू हुई तो उस वक़्त पार्टी के पास एक ख़ास वर्ग के लोग ज़्यादा थे। लेकिन हमें इसे सभी वर्गों के लोगों की पार्टी बनाना है।” 

ताज़ा ख़बरें

मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमल नाथ ने कहा है कि बीजेपी सबका साथ, सबका विकास की बात करती है और उसके महासचिव कहते हैं कि ब्राह्मण और बनिया उसकी जेब में हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी महासचिव का यह बयान इन वर्गों का अपमान है। 

कमल नाथ ने कहा कि बीजेपी नेता सत्ता के कारण अहंकारी हो गए हैं और उन्हें इन दोनों समुदायों से माफ़ी मांगनी चाहिए। राव के इस बयान पर जैसे ही विवाद बढ़ा, उन्होंने एक वीडियो जारी कर कहा कि कांग्रेस की आदत तथ्यों और बयानों को तोड़ने-मरोड़ने की है। 

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

ओबीसी-दलित वर्ग पर फ़ोकस 

बताना होगा कि बीजेपी ने बीते कुछ महीनों में ओबीसी वर्ग के लिए बड़े क़दम उठाए हैं और उत्तर प्रदेश के चुनाव को देखते हुए वह ओबीसी व दलित वर्ग पर विशेष फ़ोकस कर रही है। बीजेपी ने मोदी कैबिनेट से लेकर योगी कैबिनेट के विस्तार में भी दलित और ओबीसी जातियों को अच्छी-खासी जगह दी थी।

मध्य प्रदेश में हाल ही में हुए उपचुनाव में बीजेपी को वैसी सफलता नहीं मिली है, जैसी उसे उम्मीद थी। राज्य में 2023 में विधानसभा का चुनाव होना है और पार्टी वहां सत्ता में वापसी की कोशिश कर रही है। पिछली बार कांग्रेस ने उसे हटाकर सरकार बनाई थी लेकिन बाद में उसने जोड़-तोड़कर अपनी सरकार बना ली थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें