loader

ग़ाज़ीपुर, टिकरी बॉर्डर से बैरिकेड्स, कंटीले तार हटाए गए

दिल्ली पुलिस ने टिकरी और ग़ाज़ीपुर बॉर्डर पर रखे गए सीमेंट के बड़े ब्लॉक्स, बैरिकेड्स और कंटीले तार को हटा दिया है। टिकरी बॉर्डर पर यह काम गुरूवार रात को जबकि ग़ाज़ीपुर बॉर्डर पर शुक्रवार सुबह शुरू किया गया।  

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर पर पश्चिम उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से आए किसान बैठे हैं जबकि टिकरी बॉर्डर पर हरियाणा और पंजाब के किसानों का जमावड़ा है। 

टिकरी और ग़ाज़ीपुर बॉर्डर को पूरी तरह खोलने की मांग को लेकर कई बार प्रदर्शन भी किया जा चुका है। 

ताज़ा ख़बरें

सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी

यहां याद दिलाना होगा कि सुप्रीम कोर्ट ने कुछ दिन पहले किसान आंदोलन के कारण सड़कों के बंद होने पर तीख़ी टिप्पणी की थी। शीर्ष अदालत ने कहा था कि किसानों को आंदोलन करने का हक़ है लेकिन सड़कों को अनिश्चित काल तक के लिए बंद करके नहीं रखा जा सकता है। बता दें कि किसान संगठन कृषि क़ानूनों को ख़त्म करने की मांग को लेकर दिल्ली के बॉर्डर्स पर बीते 11 महीने से धरना दे रहे हैं। 

Blockades removed from Tikri and Ghazipur Border  - Satya Hindi

अदालत प्रदर्शनकारियों को सड़कों से हटाने की मांग को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी। अदालत ने जवाब देने के लिए किसान संगठनों को तीन हफ़्ते का वक़्त दिया है। अब इस मामले में अगली सुनवाई 7 दिसंबर को होगी। 

रद्द होंगे कृषि क़ानून?

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के किसान आंदोलन का मसला हल होने के बाद बीजेपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ने के एलान के बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि केंद्र सरकार कृषि क़ानूनों को रद्द कर सकती है। 

दिल्ली से और ख़बरें

बीजेपी और मोदी सरकार के लिए सबसे बड़ी चुनौती किसान आंदोलन है। दोनों चाहते हैं कि किसान आंदोलन का कोई हल जल्दी निकले। क्योंकि बीजेपी को उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब के चुनाव में इसके असर को लेकर काफी चिंता है। इस आंदोलन की वजह से पंजाब में बीजेपी नेताओं का चुनाव कार्यक्रम करना बेहद मुश्किल हो गया है। 

कृषि क़ानून रद्द होने पर किसान अपना आंदोलन ख़त्म कर सकते हैं। इसके बाद बीजेपी का अमरिंदर के साथ मिलकर पंजाब में चुनाव लड़ने का रास्ता साफ हो जाएगा और उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भी उसे राहत मिलेगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें