loader

दिल्ली : दीवाली में पटाखों पर प्रतिबंध

क्या इस बार भी बीजेपी दीवाली के मौके पर पटाखों पर लगी रोक को हिन्दुओं के भावनात्मक मुद्दे से जोड़ कर उसका राजनीतिक फ़ायदा उठाने की कोशिश करेगी?

यह सवाल इसलिए उठ रहा है कि दिल्ली सरकार ने इस बार भी दीवाली के मौके पर पटाखों की खरीद-बिक्री, उत्पादन और भंडारण पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी है। पटाखे चलाने पर भी रोक लगाई गई है। 

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है और कहा है कि बढ़ते हुए प्रदूषण की वजह से यह फ़ैसला किया गया है। 

ख़ास ख़बरें

क्या कहा है केजरीवाल ने?

उन्होंने एक दूसरे ट्वीट में कहा कि पिछले साल पटाखों के भंडारण पर प्रतिबंध देर से लगाया गया था, इस कारण व्यापारियों को नुक़सान हुआ था। 

उन्होंने सभी व्यापारियों से अपील की कि वे पटाखों का भंडारण न करें। 

प्रतिबंध क्यों?

बता दें कि दिल्ली में दीवाली के समय पटाखों पर प्रतिबंध पिछले तीन साल से लग रहा है। साल 2018 में एक अध्ययन में पता चला था कि दीवाली के ठीक बाद राजधानी दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर यकायक बहुत बढ़ जाता है। 

उत्सव में छोड़े गए पटाखों का असर लंबे समय तक रहता है और राष्ट्रीय राजधानी देश के सबसे अधिक प्रदूषित शहरों में एक हो जाता है। 

delhi govt arvind kejriwal bans firecracker on diwali - Satya Hindi
पिछले साल यानी 2020 में दीवाली के बाद दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक यानी एअर क्वालिटी इनडेक्स 414 पर पहुँच गया, जो 'सीवियर' यानी बहुत ज़्यादा है। यह 2016 के बाद से सबसे ज़्यादा है।
हॉर्वर्ड विश्वविद्यालय के एक शोध में पाया गया है कि वायु प्रदूषण बढ़ने से लोगों के कोरोना संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है और संक्रमण ज़्यादा ख़तरनाक भी हो जाता है।

पर्यावरण मंत्रालय की बैठक

ऐसे समय जब देश कोरोना की दूसरी लहर से बाहर नहीं निकला है और तीसरी लहर की संभावना से इनकार नहीं किया जा रहा है, यह शोध अहम है। इससे यह साफ होता है कि वायु प्रदूषण किसी सूरत में नहीं बढ़ने दिया जाना चाहिए। 

'इंडियन एक्सप्रेस' के अनुसार, मंगलवार को हुई एक बैठक में दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने वायु प्रदूषण रोकने के लिए दस बिन्दु का एक एक्शन प्लान बनाने को कहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें