loader

अभियुक्तों से गुजरात एसआईटी के साँठगाँठ के आरोप को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज

सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात दंगे में मारे गए अहसान जाफ़री की विधवा ज़किया ज़ाफ़री के इस आरोप को सिरे से खारिज कर दिया कि विशेष जाँच दल और कुछ अभियुक्तों में साँठगाँठ थी। अदालत ने कहा कि यह बहुत ही कठोर शब्द है और यह नहीं कहा जा सकता है कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से गठित जाँच दल के लोग अभियुक्तों से मिले हुए थे।

याद दिला दें कि 2002 में गुजरात में हिन्दू-मुसलिम दंगों में कांग्रेस के पूर्व सांसद अहसान जाफ़री की हत्या कर दी गई थी और उनके घर को आग लगा दी गई थी। बाद में इस मामले की जाँच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने एक जाँच दल का गठन किया था। इस जाँच दल ने  गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और कई लोगों को सभी आरोपों  से बरी कर दियाा था।

ज़ाकिया जाफ़री के वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि इसके पक्के सबूत हैं कि जाँच दल ने अभियुक्तों से साँठगाँठ कर ली और कुछ लोगों को बचाया।

आरोप खारिज

जस्टिस ए. एम. खानविलकर, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और जस्टिस सी. टी. रविकुमार की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए सिब्बल के आरोप को खारिज कर दिया।

अदालत ने कहा, 

पुलिस के साथ साँठगाँठ हो सकती है। आप यह कैसे कह सकते हैं कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से गठित विशेष जाँच दल ने साँठगााँठ की थी? सुप्रीम कोर्ट गठित एसआईटी के लिए साँठगाँठ कठोर शब्द है।


सुप्रीम कोर्ट की बेच

बेंच ने यह भी कहा कि इसी एसआईटी ने दूसरे अभियुक्तों के मामलों की जाँच की और उन्हें सज़ा हुई।

लेकिन कपिल सिब्बल ने कहा कि एसआईटी दस्तावेज़ों और टेपों की जाँच नहीं की। उन्होंने कहा,

साँठगाँठ के पर्याप्त सबूत हैं। राजनीतिक वर्ग ने यह साँठगाँठ की। एसआईटी ने काग़ज़ात की जाँच नहीं की, टेपों की जाँच नहीं की, मोबाइल फ़ोन जब्त नहीं किए। क्या वह किसी को बचा रही थी?


कपिल सिब्बल, वकील, ज़ाकिया जाफ़री

एसआईटी पर गंभीर आरोप

कपिल सिब्बल ने कहा कि एसआईटी के सदस्यों को पुरस्कृत किया गया। एसआईटी प्रमुख को साइप्रस का उच्चायुक्त नियुक्त कर दिया गया, अहमदाबाद के पुलिस प्रमुख ने अभियुक्तों से फोन पर बात  की थी, लेकिन उन्हें बाद में पुलिस महानिदेशक बनाया गया।

बता दें कि एसआईटी ने 2012 में अपनी रिपोर्ट सौंपी थी। इसमें नरेंद्र मोदी और दूसरे 63 लोगों को दोषमुक्त कर दिया गया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें