loader

जम्मू-कश्मीर : पंडितों के पलायन के पीछे आईएसआई?

क्या जम्मू-कश्मीर से बाहरी लोगों और स्थानीय पंडितों का पलायन पाकिस्तानी खुफ़िया एजेन्सी आईएसआई की चाल है? क्या वह इसके ज़रिए घाटी में डर का माहौल बना कर अल्पसंख्यक हिन्दुओं को घर-बार छोड़ कर भागने को मजबूर करने की रणनीति अपना रहा है?

भारतीय खुफ़िया एजेन्सियों और सुरक्षा बलों का तो यही मानना है। एक उच्च पदस्थ अधिकारी के हवाले से 'टाइम्स ऑफ़ इंडिया' ने कहा है, "जम्मू-कश्मीर में क़ानून व्यवस्था अच्छी रहने से आईएसआई परेशान हो गया और उसने घाटी में गड़बड़ी शुरू कर दी।"

श्रीनगर के दवा विक्रेता माखन लाल बिंदरू की हत्या पर भारतीय खुफ़िया एजेन्सी के एक अधिकारी ने कहा, 

इस वारदात से पाकिस्तान को लगा कि इसके जरिए जम्मू-कश्मीर में सांप्रदायिक दंगे कराए जा सकते हैं।


पिछले दो हफ्ते में घाटी में 11 आम नागरिकों की हत्या कर दी गई, जिनमें कुछ बिहार और उत्तर प्रदेश जैसी जगहों से आए हुए ग़रीब लोग हैं।
ख़ास ख़बरें

आईएसआई रणनीति!

पर्यवेक्षकों का कहना है कि आईएसआई की रणनीति यह है कि घाटी में आम नागरिकों और ख़ास कर हिन्दुओं को निशाने पर लेने से यह संकेत जाएगा कि राज्य की स्थिति सामान्य नहीं है।

इन हत्याओं से कश्मीर के अल्पसंख्यक हिन्दू घाटी छोड़ कर भाग जाएंगे तो 1990 के दशक जैसी स्थिति बनाने में आईएसआई को कामयाबी मिलेगी।

आईएसआई यह भी संकेत देना चाहता है कि अनुच्छेद 370 ख़त्म किए जाने के बावजूद बाहर के लोग कश्मीर में नहीं रह सकते, वह ऐसी स्थिति बना देगा कि लोग राज्य में बसने की बात सोचें भी नहीं।

जिस समय कश्मीर घाटी में इस तरह का आतंकवादी तांडव चल रहा है, आतंकवादियों ने कई जगहों पर सुरक्षा बलों को उलझा रखा है। अलग-अलग जगहों पर हुई मुठभेड़ों में आठ भारतीय सैनिक मारे गए हैं।

jammu-kashmir : ISI behind kashmir migration - Satya Hindi
संदिग्ध आतंकवादियों ने सड़क पर गोल-गप्पे बेचने वाले की हत्या कर दी।

मुठभेड़

पर्यवेक्षकों का कहना है कि इसके पीछे भी पाकिस्तान का हाथ है। ये आतंकवादी पाकिस्तान से आए हुए हैं और पाकिस्तानी सेना ने उन्हें भारत में घुसने में मदद की है।

पाकिस्तान इस तरह भारत पर दोतरफा हमला बोल रहा है। एक तरफ वह निहत्थे आम नागरिकों पर हमला बोल रहा है और दूसरी तरफ सुरक्षा बलों को फँसाए हुए है।

jammu-kashmir : ISI behind kashmir migration - Satya Hindi

चुनौती

पर्यवेक्षकों का कहना है कि भारतीय प्रशासन के समय फिलहाल चुनौती यह है कि वह कश्मीर से लोगों का पलायन किसी तरह रोके और उनमें यह विश्वास जगाए कि सुरक्षा एजेन्सियाँ उनकी सुरक्षा में तत्पर है। लेकिन यह भी सच है कि यह कहना आसान है, करना बेहद मुश्किल है।पर्यवेक्षकों का कहना है कि राजनीतिक नेतृत्व ऐसे में अहम भूमिका निभाते हैं।

अनुच्छेद 370 ख़त्म किए जाने के बाद जिस तरह स्थानीय राजनीतिक नेतृत्व को जेलों में डाल कर अप्रासंगिक करने की कोशिश की गई, वे इस हालत में नहीं है कि लोगों के बीच जाकर उनका नेतृत्व कर सकें।

विश्लेषकों का मानना है कि भारतीय राज्य ने जिस तरह स्थानीय नेतृत्व को बदनाम किया, उससे उनकी खुद की विश्वसनीयता संदेह में है, वे कैसे लोगों को आश्वस्त करेंगे।

ये ऐसी चुनौतियाँ हैं, जिनका सामना भारत को करना ही होगा। इसमें होने वाली हर चूक का फ़ायदा आईएसआई उठाएगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें