loader

कश्मीर: आतंकियों ने फिर खेला खूनी खेल, 24 घंटे में दो लोगों की हत्या 

जम्मू-कश्मीर में एक बार फिर आतंकियों ने खूनी खेल खेलना शुरू कर दिया है। आतंकियों ने 24 घंटे के अंदर दो लोगों की हत्या कर दी है। इनमें से एक शख़्स किसी कश्मीरी पंडित की दुकान पर काम करता था। बीते महीने भी आतंकियों ने कई लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। इनमें हिंदू, सिख और मुसलमान शामिल थे। इनमें स्थानीय लोग भी थे और बाहरी भी। 

ताज़ा वारदात में आतंकियों ने सोमवार को श्रीनगर में स्थित एक कश्मीरी पंडित की दुकान पर फ़ायरिंग की। इसमें मोहम्मद इब्राहिम नाम के शख़्स की मौत हो गई। इब्राहिम दुकान में सेल्समैन था और बांदीपोरा जिले का रहने वाला था। यह दुकान 29 साल बाद 2019 में फिर से खोली गई थी। इससे पहले रविवार को भी आतंकियों ने बाटमालू में एक पुलिसकर्मी की हत्या कर दी थी। 

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने इस दहशतगर्द हरक़त की निंदा की है। घटना के बाद सुरक्षा बलों ने इस इलाक़े को खाली करा लिया और हमलावरों की तलाश की। 

ताज़ा ख़बरें

आतंकियों ने दहशत फैलाने के लिए बीते महीने लगातार कई हत्याएं कर 11 निर्दोष लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। इनमें श्रीनगर में मेडिकल स्टोर चलाने वाले माखन लाल बिंदरू भी थे। बिंदरू को उनकी दुकान में गोली मारी गई थी। 

बिंदरू 1990 में जब कश्मीर में आतंकवाद चरम पर था और हजारों की संख्या में कश्मीरी पंडितों ने पलायन किया था, उसके बाद भी वहीं डटे हुए थे। इसके अलावा बिहार के भागलपुर के रहने वाले वीरेंद्र पासवान और ईदगाह इलाक़े में दो स्कूली शिक्षकों की आतंकियों ने हत्या कर दी थी। पुलिस का कहना था कि अधिकतर हमले द रेजिस्टेंस फ्रंट नाम के संगठन ने किए हैं और इसे कुख्यात आतंकवादी संगठन लश्कर ए तैयबा ने तैयार किया है। 

इन कायराना वारदातों के बाद घाटी के कई इलाक़ों से कश्मीरी पंडितों के एक बार फिर पलायन करने की ख़बरें आई थीं। इससे पहले 1990 में घाटी से कश्मीरी पंडितों का पलायन हुआ था।

एनकाउंटर अभियान 

इसके बाद सेना और पुलिस ने जोरदार एनकाउंटर अभियान चलाया था और 11 एनकाउंटर कर 17 दहशतगर्दों को मौत के घाट उतार दिया था। कश्मीर में 5 हज़ार अतिरिक्त जवानों की तैनाती की गई थी। गृह मंत्री अमित शाह भी कश्मीर के दौरे पर पहुंचे थे और उन्होंने सुरक्षा बलों के अफ़सरों के साथ बैठक की थी।

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

900 से ज़्यादा हिरासत में 

सुरक्षा बलों ने हरक़त में आते हुए 900 से ज़्यादा लोगों को हिरासत में लिया था। हिरासत में लिए गए लोगों में से कई लोग ऐसे थे, जिनके बारे में कहा गया था कि इनका संबंध प्रतिबंधित संगठन जमात-ए-इसलामी से है या ये श्रीनगर, बड़गाम के इलाक़ों से दक्षिण कश्मीर में आकर अंडरग्राउंड वर्कर्स के रूप में संदिग्ध रूप से काम कर रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें