loader

जम्मू-कश्मीर में चुनाव की आहट, 24 जून को सभी दलों के साथ बैठक करेंगे मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 24 जून को जम्मू-कश्मीर के सभी राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ बैठक करेंगे। अनुच्छेद 370 के ख़ात्मे के बाद पहली बार इस तरह की बैठक बुलाई गई है। पीडीपी की अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के साथ बातचीत में इस बात की तसदीक की है कि 24 जून को होने वाली बैठक के लिए उन्हें नई दिल्ली से फ़ोन आया है। 

10 जून को पूर्व मुख्यमंत्री फ़ारूक़ अब्दुल्ला ने कहा था कि वे केंद्र सरकार के साथ बातचीत के लिए तैयार हैं। 

ताज़ा ख़बरें
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल मनोज सिन्हा सहित सुरक्षा और ख़ुफ़िया विभाग के अफ़सरों के साथ बैठक की है।
Modi will meet to all parties of jammu and kashmir  - Satya Hindi

इस तरह की अटकलें हैं कि केंद्र सरकार राज्य के अंदर चुनावी प्रक्रिया को शुरू कर सकती है और आने वाले कुछ महीनों में राज्य में विधानसभा के चुनाव हो सकते हैं। 

डीडीसी चुनाव 

हालांकि बीते साल दिसंबर में राज्य में डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट काउंसिल (डीडीसी) के चुनाव हुए थे और इसमें बीजेपी और पीपल्स अलायंस फ़ॉर गुपकार डेक्लेरेशन या गुपकार गठबंधन के बीच कड़ा मुक़ाबला देखने को मिला लेकिन अंतत: गुपकार गठबंधन आगे रहा था। निर्दलीय उम्मीदवार तीसरे नंबर पर जबकि कांग्रेस चौथे नंबर पर रही थी। इस चुनाव की अहम बात यह रही थी कि बीजेपी का कश्मीर में खाता खुला और उसे 3 सीटें मिली थीं। 

जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे की बहाली के लिए राज्य के 6 राजनीतिक दलों ने एकजुट होकर गुपकार गठबंधन का गठन किया है। इसमें शामिल दलों का कहना है कि 5 अगस्त, 2019 से पहले जम्मू-कश्मीर की जो स्थिति थी, उसे फिर से बहाल करने के लिए यह गठबंधन संघर्ष कर रहा है।

केंद्र सरकार ने 5 अगस्त, 2019 को जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा और अनुच्छेद 370 ख़त्म करने के साथ ही राज्य को दो भागों में बांट दिया था। इसके बाद राज्य के बड़े नेताओं फारूक़ अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती को लंबे वक़्त तक के लिए नज़रबंद कर दिया गया था। 

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

एनडीटीवी के मुताबिक़, परिसीमन आयोग ने राज्य के सभी 20 जिलों के उपायुक्तों को पत्र लिखा था कि वे सभी जिलों और विधानसभा क्षेत्रों में जनसंख्या घनत्व के बारे में ताज़ा जानकारी दें और लगभग सभी जिलों ने यह जानकारी भेज दी है। 

माना जा रहा है कि 7 महीने बाद होने जा रहे पांच राज्यों के चुनाव के दौरान जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा के चुनाव कराए जा सकते हैं। लेकिन यह तभी होगा जब परिसीमन आयोग अपनी रिपोर्ट को सरकार को भेज दे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें