loader

मोदी के साथ बैठक में महबूबा भी रहेंगी, फ़ारूक़ ने की पुष्टि

जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक दलों के नेताओं से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाक़ात पर संशय ख़त्म हो गया है। प्रधानमंत्री से नेशनल कॉन्फ़्रेंस ही नहीं, पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता भी मिलेंगे।

यह राजनीतिक घटनाक्रम अहम इसलिए है कि पीडीपी नेता महबूबा मुफ़्ती के मोदी से मिलने की संभावना पर सवालिया निशान लग रहे थे।

नेशनल कॉफ्रेंस के नेता व पूर्व मुख्यमंत्री फ़ारूक़ अब्दुल्ला ने मंगलवार को एलान किया कि 24 जून को होने वाली बैठक में उनके साथ ही महबूबा मुफ़्ती और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी के नेता मुहम्मद तारीगामी भी मौजूद रहेंगे। 

ख़ास ख़बरें

क्या कहा फ़ारूक़ ने?

जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में गुपकार अलायंस की बैठक के बाद अब्दुल्ला ने कहा,

महबूबा जी, मुहम्मद तारीगामी और मैं प्रधानमंत्री की ओर से बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में भाग लेंगे। हम अपना एजेंडा प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के सामने रखेंगे।


फ़ारूक़ अब्दुल्ला, अध्यक्ष, नेशनल कॉन्फ्रेंस

बता दें कि गुपकार गठबंधन यानी गुपकार अलायंस जम्मू-कश्मीर के सात राजनीतिक दलों का संगठन है। 

क्या कहना है कांग्रेस का?

गुपकार अलायंस में शरीक कांग्रेस पार्टी ने भी प्रधानमंत्री के साथ होने वाली बैठक में भााग लेने की पुष्टि कर दी है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री 

ग़ुलाम नबी आज़ाद ने कहा है कि पूर्ण राज्य का दर्जा की बहाली का मुद्दा इस बैठक के एजेंडे में सबसे ऊपर होगा। 

PDP, Mehbooba Mufti to attend gupkar alliance Modi meet - Satya Hindi
लेकिन कांग्रेस के इस नेता ने जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जा की बहाली पर कुछ नहीं कहा। 'क्या इस मुद्दे पर वे ज़ोर देंगे?', इस सवाल के जवाब में आज़ाद ने पत्रकारों से कहा,

सबसे ऊँची डिमान्ड स्टेटहुड की होगी। विधानसभा के पटल पर भी इसका वायदा किया गया है, और यह पूर्ण राज्य का दर्जा होगा... एल-जी वाला राज्य नहीं।


ग़ुलाम नबी आज़ाद, नेता, कांग्रेस

कांग्रेस की बैठक

कांग्रेस पार्टी के जम्मू-कश्मीर पॉलिसी प्लानिंग ग्रुप की बैठक मंगलवार को होने वाली है। इसमें आज़ाद के अलावा मनमोहन सिंह, करण सिंह, पी. चिदांबरम, राज्य प्रभारी रजनी पाटिल, तारिक़ हामिद कर्रा और गु़लाम अहमद मीर भाग लेंगे। 

इस बैठक में अनुच्छेद 370 को फिर से बहाल करने के मुद्दे पर पार्टी विचार करेगी और उसे इस मुद्दे पर क्या रुख अपनाना है, इस पर चर्चा होगी। 

बता दें कि कांग्रेस पार्टी ने अनुच्छेद 370 ख़त्म करने वाले प्रस्ताव पर लोकसभा और राज्यसभा में विरोध नहीं किया था, लेकिन संसद के बाहर आज़ाद समेत कुछ नेताओं ने इसकी आलोचना की थी।

PDP, Mehbooba Mufti to attend gupkar alliance Modi meet - Satya Hindi

बात क्या होगी?

इसके बीच सवाल यह उठता है कि इस बैठक में किन मुद्दों पर बात होगी। 

पहले यह समझा जाता था कि केंद्र अनुच्छेद 370 की बहाली पर गुपकार गठबंधन के नेताओं से बातचीत करेगा, पर यह समझा जा रहा है कि इस पर फिलहाल कोई बातचीत नहीं होगी।

केंद्र सरकार का पूरा ज़ोर फिलहाल इस पर होगा कि विधानसभा क्षेत्रों का परिसीमन हो, यानी विधानसभा क्षेत्रों का निर्धारण फिर से किया जाए। 

'एनडीटीवी' ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि सरकार जम्मू-कश्मीर को फिर से राज्य का दर्जा देने पर विचार कर सकती है, लेकिन उसे इसके लिए संसद की अनुमति लेनी होगी। इसलिए, वह फिलहाल इस पर भी बात करना नहीं चाहती है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें