loader

रामगढ़ डायलॉग- मैं लेखिका नहीं लेखक हूं: ममता कालिया

रामगढ़ (नैनीताल)। रामगढ़ डायलॉग के दूसरे दिन (रविवार को) के पहले सत्र के दौरान साहित्य में हाशिया विषय पर गंभीर चर्चा हुई। इस दौरान वरिष्ठ साहित्यकार असगर वजाहत, ममता कालिया, रणेंद्र और अजय नावरिया ने अपने विचार रखे।

परिचर्चा का संचालन वरिष्ठ साहित्यकार और पूर्व प्रशासनिक अधिकारी विभूति नारायण राय ने किया।

वरिष्ठ साहित्यकार असगर वजाहत ने कहा कि हाशिये या कमजोर वर्ग के रचनाकार का लेखन बुनियादी सवाल उठाता है। ये सवाल सत्ता को पसंद नहीं है। जैसे आदिवासी अगर जल-जंगल-जमीन के सवाल उठा रहे हैं, उसे सत्ता पसंद नहीं करेगी। आज देश के सामने जो बड़े सवाल हैं, वह इन्हीं विमर्शों से सामने आ रहे हैं, जिनकी उपेक्षा की जा रही है। हाशिये के लेखन को प्रमाणित और सिद्ध करने के लिए अधिक श्रम करना पड़ता है।

ताज़ा ख़बरें
वरिष्ठ साहित्यकार ममता कालिया ने कहा कि जब हम हाशिये की बात करते हैं या हाशिये पर खड़ी स्त्री की बात करते हैं तो सबसे पहले महादेवी वर्मा की याद आती है। पहले जब पत्रिकाएं निकलती थीं, तब कहीं एक जगह उनका नाम होता था। लेकिन 21वीं सदी में आज दिख रहा है कि हाशिया मुख्य हो गया है। हाशिये की स्त्री वह है, जिसने हाशिये तोड़े हैं, जिसने अपने को मुख्यधारा में शामिल किया और आज गर्व से कहती हैं, मैं लेखिका नहीं लेखक हूं, क्योंकि लेखन जेंडर फ्री काम है।

प्रसिद्ध दलित लेखक अजय नावरिया ने कहा कि हम जब यह मानते हैं कि यह हाशिये की आवाजें हैं तो हम अपने अवचेतन में यह स्वीकार कर रहे होते हैं कि कोई मुख्यधारा है। मेरा मानना है कि साहित्य में मुख्यधारा जैसा कुछ नहीं है। अगर मुख्यधारा होती है तो वह बहुत सारी धाराओं से मिलकर ही बनती है। कई दलित लेखकों के पास कलात्मक रचनाएं हैं, लेकिन उनकी कमजोर रचनाओं पर बात की जाती है, जिसे लोग अच्छा नहीं कहते हैं, क्योंकि जटिल कहानियां समझने को वह वर्ग पैदा नहीं हुआ है।

साहित्य से और ख़बरें
कथाकार रणेंद्र ने आदिवासी जीवन, उसके साहित्य और हिंदी तबके में उपेक्षा पर सवाल उठाए। कई रचनाकार आदिवासियों को खल पात्र के रूप में अपनी रचनाओं में लाते हैं। मुझे इस पर आपत्ति है। आदिवासियों को अलग नजरिये से देखने की जो अनुकूलता है, उससे जब तक हिंदी समाज नहीं निकलेगा तब तक यह स्थान नहीं पाएगा।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

साहित्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें