loader

आज़ाद ने मोदी की तारीफ़ कर उनसे सीखने की नसीहत क्यों दी?

कांग्रेस में एक समय पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर तूफ़ान लाने वाले पार्टी के नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद ने अब प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ़ की है। उन्होंने उनकी इसलिए तारीफ़ की कि वह अपनी 'जड़ों को नहीं भूले' हैं और वह ख़ुद को अभी भी 'चायवाला' बुलाते हैं। आज़ाद जम्मू कश्मीर में गुज्जर समुदाय के एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। राज्यसभा में विपक्ष के नेता रहे ग़ुलाम नबी आज़ाद के विदाई समारोह में प्रधानमंत्री मोदी ने भी हाल ही में उनकी जमकर तारीफ की थी और वह भावुक भी हो गए थे।

आज़ाद और मोदी के बीच एक-दूसरे की तारीफ़ों की रिपोर्टें तब आ रही हैं जब हाल ही में आज़ाद कांग्रेस में विवाद को लेकर चर्चा के केंद्र में रहे थे। वह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी को चिट्ठी लिखने वालों में शामिल रहे थे। उनका नाम तब आया था जब कांग्रेस के 23 वरिष्ठ नेताओं द्वारा पार्टी आलाकमान को लिखा पत्र लीक हो गया था। उसके बाद बवाल मचा। इंदिरा से लेकर राजीव गांधी और नरसिम्हा राव के साथ काम कर चुके आज़ाद ने तब एक न्यूज़ एजेंसी दिए इंटरव्यू में बेलाग होकर कई बातें कही थीं।

ताज़ा ख़बरें

आज़ाद ने इंटरव्यू के दौरान कहा था, ‘23 साल से पार्टी में चुनाव नहीं हुए हैं। सत्ताधारी पार्टी बहुत मज़बूत है। अगर मेरी पार्टी को 50 साल विपक्ष में बैठना है तो फिर चुनाव की कोई ज़रूरत नहीं है। मुझे अब कुछ नहीं बनना है। मैं 15 दफ़ा महासचिव रहने के साथ ही 5 प्रधानमंत्रियों के साथ काम कर चुका हूँ।’

सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी में कांग्रेस में स्थायी अध्यक्ष और पार्टी में आंतरिक चुनाव कराने की मांग की गई थी। ये वरिष्ठ नेता ही शनिवार को जम्मू में जुटे। इन नेताओं ने जम्मू में शांति सम्मेलन का आयोजन किया और इसके ज़रिये पार्टी नेतृत्व को संदेश दिया कि वे ग़ुलाम नबी आज़ाद के साथ खड़े हैं और कांग्रेस की मज़बूती के लिए काम करेंगे। इन नेताओं के गुट को G-23 गुट का नाम दिया गया है। 

G-23 गुट के जो नेता जम्मू पहुँचे हैं, उनमें ग़ुलाम नबी आज़ाद, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, कपिल सिब्बल, आनंद शर्मा, राज बब्बर, मनीष तिवारी, विवेक तन्खा सहित कुछ और नेता भी शामिल रहे। हैरानी की बात यह रही कि इन सभी नेताओं ने भगवा पगड़ी पहनी हुई थी। 

'इंडिया टुडे' की एक रिपोर्ट के अनुसार, रविवार को आज़ाद ने गुज्जर समुदाय के एक कार्यक्रम में मोदी की तारीफ़ करते हुए कहा कि लोगों को नरेंद्र मोदी से सीख लेनी चाहिए, जो प्रधानमंत्री बन गए लेकिन उन्होंने अपनी जड़ें नहीं भूलीं। आज़ाद ने कहा कि नरेंद्र मोदी ख़ुद को गर्व से 'चायवाला' कहते हैं। उन्होंने यह भी कहा, 

मेरे नरेंद्र मोदी के साथ राजनीतिक मतभेद हैं, लेकिन प्रधानमंत्री जमीन से जुड़े व्यक्ति हैं।


ग़ुलाम नबी आज़ाद

इसके साथ ही आज़ाद ने जम्मू-कश्मीर में विकास पर ज़ोर दिया। बता दें कि उस चिट्ठी विवाद के बाद गु़ुलाम नबी आज़ाद के ख़िलाफ़ कार्रवाई की गई थी और उन्हें पिछले साल अक्टूबर महीने में कांग्रेस में महासचिव पद से हटा दिया गया था। उनको हरियाणा के प्रभारी पद से भी हटा दिया गया था। उनकी जगह विवेक बंसल को प्रभारी बनाया गया। बाद में जब राज्यसभा में आज़ाद का कार्यकाल ख़त्म होने को आया तो उनको पार्टी की ओर से उम्मीदवार नहीं बनाया गया और उनको राज्यसभा से विदाई दे दी गई।

एक दिन पहले ही बाग़ी तेवर अपना रहे कपिल सिब्बल ने सम्मेलन में कहा था, 'यह सच बोलने का मौक़ा है और हम सच ही बोलेंगे। सच्चाई तो यह है कि कांग्रेस हमें कमज़ोर होती दिख रही है और इसीलिए हम इकट्ठा हुए हैं और पहले भी इकट्ठा हुए थे और इकट्ठा होकर हमें इसे मज़बूत करना है।'

congress ghulam nabi azad praises pm narendra modi - Satya Hindi

सिब्बल ने कहा, 'हम नहीं चाहते थे कि ग़ुलाम नबी आज़ाद साहब को संसद से आज़ादी दी जाए। आज़ाद कई मंत्रालयों को संभाल चुके हैं और बहुत अनुभवी हैं। मुझे यह नहीं समझ आया कि कांग्रेस आज़ाद के अनुभव को इस्तेमाल क्यों नहीं कर रही है।'

एक और बाग़ी नेता आनंद शर्मा ने कहा, 'हम में से कोई ऊपर से नहीं आया, खिड़की-रोशनदान से नहीं आया, दरवाज़े से आए हैं, चलकर आए हैं। छात्र और युवक आंदोलन से आए हैं। ये अधिकार मैंने किसी को नहीं दिया कि मेरे जीवन में कोई बताए कि हम कांग्रेसी हैं या नहीं। ये हक़ किसी का नहीं है, हम बता सकते हैं कांग्रेस क्या है, हम बनाएंगे कांग्रेस को और इसे मज़बूत करेंगे।' 

राजनीति से और ख़बरें

आनंद शर्मा ने कहा कि ऐसा घर मज़बूत नहीं रहता जिसमें दो भाई अगर अलग-अलग विचार रखते हों और कोई क्या मतलब निकाल लेगा, इस डर से वे अपने विचार व्यक्त न कर सकें। 

ऐसे वक़्त में जब पाँच राज्यों की चुनाव तारीख़ों का एलान हो चुका है और राहुल गांधी ख़ुद दक्षिण के दौरे पर हैं, पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का इस तरह जम्मू जाकर सम्मेलन करना और बयान देने का असर चुनावी तैयारियों पर पड़ सकता है।

 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें