loader

पीके बोले- कांग्रेस का विकल्प संभव है, लोकतांत्रिक ढंग से अध्यक्ष चुने पार्टी

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर उर्फ पीके ने कहा है कि 1984 के बाद से कांग्रेस ने कोई भी लोकसभा चुनाव अपने दम पर नहीं जीता है और बीते दस साल में पार्टी को 90 फ़ीसदी चुनावों में हार मिली है। किशोर ने कहा है कि कांग्रेस का विकल्प संभव है। प्रशांत किशोर ने इंडिया टुडे को दिए इंटरव्यू में ये बातें कही हैं। 

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनके चुनावी रणनीतिकार के रूप में काम कर चुके पीके बीते कुछ दिनों में कई बार कांग्रेस पर हमला बोल चुके हैं। 

पीके ने कहा कि कांग्रेस को अपने अध्यक्ष का चुनाव लोकतांत्रिक ढंग से करना चाहिए। 

ताज़ा ख़बरें
पीके ने नाम लिए बिना राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि एक ट्वीट करने से, एक कैंडल मार्च करने और एक प्रेस मीटिंग करने से बीजेपी को नहीं हराया जा सकता। 
Prashant Kishor said Opposition without Congress possible  - Satya Hindi

पीके ने इस बात का भी खुलासा किया कि उनकी कांग्रेस नेतृत्व के साथ दो साल तक बातचीत चलती रही और वे लगभग कांग्रेस ज्वाइन कर चुके थे। याद दिला दें कि पीके ने कुछ महीने पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा से मुलाक़ात की थी और तब उनके कांग्रेस में शामिल होने की चर्चाओं ने जोर पकड़ा था। 

किशोर ने एक बार फिर कहा कि अगले कुछ दशकों तक भारत की राजनीति बीजेपी के इर्द-गिर्द घूमती रहेगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बातों को बेहद गंभीरता से सुनते हैं। 

प्रशांत किशोर ने कुछ दिन पहले कहा था कि राहुल गांधी के साथ परेशानी यह है कि वह यह सोचते हैं कि कुछ समय बाद लोग प्रधानमंत्री मोदी को हटा देंगे लेकिन ऐसा नहीं होने जा रहा है।

याद दिला दें कि ममता बनर्जी ने पहले यह कहा कि कांग्रेस राजनीति करने के लिए गंभीर नहीं है और बाद में वह यहां तक बोल गईं कि यूपीए क्या है, यूपीए कुछ नहीं है। हालांकि शिव सेना ने उन्हें झटका देते हुए कहा कि बीजेपी और एनडीए के ख़िलाफ़ राष्ट्रीय स्तर पर कोई गठबंधन बनाना है तो कांग्रेस को साथ लेना ही होगा और कांग्रेस के बिना विपक्ष संभव नहीं है।

राजनीति से और ख़बरें

ममता बीते कुछ दिनों में कांग्रेस के कई नेताओं को टीएमसी में शामिल कर चुकी हैं और इस तरह की ख़बरें आई हैं कि इनमें से कुछ नेताओं की प्रशांत किशोर से बातचीत चल रही थी। 

ममता बनर्जी और प्रशांत किशोर की ख़्वाहिश 2024 के आम चुनाव में टीएमसी को कांग्रेस की जगह पर मुख्य विपक्षी दल बनाने की है लेकिन यह बेहद मुश्किल काम है क्योंकि तमाम राज्यों में क्षेत्रीय दलों के बड़े नेता ममता बनर्जी का नेतृत्व स्वीकार करने के लिए आसानी से तैयार नहीं होंगे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें