loader

अब्बास बोले- क़ुरान के अपमान पर ‘सिर कलम’ हो; बीजेपी ने की गिरफ़्तारी की मांग

पड़ोसी मुल्क़ बांग्लादेश बीते कई दिनों से दंगों की चपेट में है। क़ुरान के अपमान की अफ़वाह फैलने के बाद मुल्क़ में कई जगहों पर हिंदुओं के घरों को निशाना बनाया गया है। इससे पहले कट्टरपंथियों ने मंदिरों और दुर्गा पूजा के पंडालों को तोड़ दिया था। हिंदू समुदाय के कुछ लोगों की हत्या भी कर दी गई थी। 

इधर, बांग्लादेश से लगने वाले भारतीय सूबे पश्चिम बंगाल के राजनीतिक और धार्मिक नेता पीरजादा अब्बास सिद्दीक़ी क़ुरान के अपमान को लेकर दिए गए बयान पर बुरी तरह घिर गए हैं। 

पश्चिम बंगाल के बड़े धार्मिक इदारे फुरफुरा शरीफ़ के मौलाना और इंडियन सेक्युलर फ्रंट (आईएसएफ़) के संस्थापक पीरजादा अब्बास सिद्दीक़ी ने कहा है कि जिन लोगों ने बांग्लादेश के एक दुर्गा पूजा पंडाल में क़ुरान को दुर्गा के घुटनों के पास रखा है, उनका सिर धड़ से अलग कर देना चाहिए। सिद्दीक़ी ने यह बयान उत्तरी 24 परगना में आयोजित एक धार्मिक कार्यक्रम में बीते शुक्रवार को दिया। 

ताज़ा ख़बरें

सिद्दीक़ी के इस बयान का वीडियो वायरल हुआ है। वीडियो में सिद्दीक़ी को यह भी कहते सुना जा सकता है कि जो मुसलिम युवा दुर्गा पूजा में शामिल हो रहे हैं, वे ग़लत कर रहे हैं। 

सिद्दीक़ी ने बांग्लादेश की घटना को लेकर कहा था कि क़ुरान को दुर्गा के घुटनों के पास रखे जाने के मामले की जांच की जानी चाहिए। उन्होंने दुर्गा पूजा के पंडालों और हिंदू अल्पसंख्यकों पर हमला करने वालों के ख़िलाफ़ भी सख़्त कार्रवाई की मांग की थी। 

कांग्रेस-लेफ़्ट के साथ लड़ा चुनाव 

पश्चिम बंगाल के हालिया विधानसभा चुनाव में पीरजादा अब्बास सिद्दीक़ी की पार्टी आईएसएफ़ ने कांग्रेस और वाम दलों के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था। तब कांग्रेस में इसे लेकर नाराज़गी के सुर उठे थे। 

वरिष्ठ कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा था कि धर्मनिरपेक्षता के आधार पर पार्टी सेलेक्टिव नहीं हो सकती। उन्होंने कहा था कि आईएसएफ़ के साथ कांग्रेस का गठबंधन पार्टी की मूल विचारधारा, गांधीवाद और नेहरूवादी धर्मनिरपेक्षता के ख़िलाफ़ है। 

पीरजादा अब्बास सिद्दीक़ी की बंगाल के बड़े धार्मिक नेता के रूप में पहचान है। फुरफुरा शरीफ़ का राज्य की कई मसजिदों पर नियंत्रण है और बड़ी संख्या में लोग इससे जुड़े हैं।

बीजेपी ने सिद्दीक़ी के इस बयान को लेकर उनकी गिरफ़्तारी की मांग की है। बीजेपी सांसद राहुल सिन्हा ने कहा है कि अब्बास सिद्दीक़ी राज्य का माहौल ख़राब करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से सिद्दीक़ी को गिरफ़्तार करने की मांग की है। 

जबकि टीएमसी नेता कुणाल घोष ने वाम दलों के नेताओं से पूछा है कि आख़िर वे क्यों सिद्दीक़ी के बयान का विरोध नहीं कर रहे हैं। 

पश्चिम बंगाल से और ख़बरें

सरकार ने जारी किया अलर्ट 

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय पर हो रहे हमलों को देखते हुए पश्चिम बंगाल सरकार भी सतर्क हो गयी है। राज्य सरकार ने सभी जिलों ख़ासकर बांग्लादेश से लगने वाले जिलों में प्रशासन को क़ानून व्यवस्था के मद्देनजर अलर्ट रहने के लिए कहा है। 

जिलों के पुलिस प्रमुखों से कहा गया है कि वे फ़ेक न्यूज़ को लेकर बेहद सावधानी बरतें। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें