loader

ममता को नहीं मिली नेपाल जाने की इजाजत, टीएमसी बोली- बदले की राजनीति 

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को नेपाल जाने की इजाजत नहीं मिली है। विदेश मंत्रालय ने उन्हें इसकी इजाजत नहीं दी है। इस वजह से ममता को अपना दौरा रद्द करना पड़ा है। ममता को 10 दिसंबर से शुरू होने वाले एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए नेपाल जाना था। 

नेपाल के प्रमुख राजनीतिक दल नेपाली कांग्रेस ने उन्हें इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए न्यौता भेजा था। यह कार्यक्रम 12 दिसंबर तक होना था। 

विदेश मंत्रालय के इस फ़ैसले पर टीएमसी ने तीख़ी प्रतिक्रिया दी है। टीएमसी ने कहा है कि यह बदले की राजनीति है। 

ताज़ा ख़बरें

टीएमसी ने कहा है कि देश की राजनीति में प्रमुख विपक्षी चेहरा होने के बाद भी ममता बनर्जी को एक कार्यक्रम में भाग लेने की इजाजत नहीं दी गई। 

टीएमसी के नेता तापस राय ने कहा कि इससे पता चलता है कि बीजेपी चुनाव में हार के बाद बदला ले रही है और वह ममता बनर्जी की लोकप्रियता से जलती है। जबकि बीजेपी ने कहा है कि इसके पीछे कुछ वजह रही होगी वरना विदेश मंत्रालय ऐसा नहीं करता। 

इससे पहले इस साल इटली के रोम में 6 व 7 अक्टूबर को होने वाले एक कार्यक्रम में जाने के लिए भी ममता बनर्जी को इजाजत नहीं दी गई थी। 2018 में शिकागो में एक कार्यक्रम में ममता को जाना था लेकिन तब भी यही हुआ था। इजाजत न मिलने की वजह से ममता को अपना चीन जाने का एक दौरा भी रद्द करना पड़ा था। 

पश्चिम बंगाल से और ख़बरें

बढ़ रही अदावत

टीएमसी और ममता बनर्जी के बीच सियासी अदावत बीते कुछ सालों में बढ़ी है। बीजेपी और संघ परिवार के पूरा जोर लगाने के बाद भी ममता ने विधानसभा चुनाव में बीजेपी को बुरी तरह शिकस्त दी थी। हार के बाद बीजेपी के कई नेता टीएमसी में चले गए थे। इसके बाद हालिया उपचुनावों में भी ममता ने बीजेपी को धूल चटा दी थी। बंगाल में होने जा रहे निकाय चुनाव में एक बार फिर दोनों दल आमने-सामने हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें