loader

ताहिर हुसैन ने अदालत से कहा- मैं दिल्ली दंगों का पीड़ित हूं 

फ़रवरी, 2020 में दिल्ली में हुए दंगों को लेकर आम आदमी पार्टी से निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन ने एक अदालत के सामने अपना पक्ष रखा है। ताहिर के वकील ने कहा कि अदालत को गुमराह किया जा रहा है और उनके मुवक्किल दिल्ली दंगों के शिकार बने हैं। इससे पहले भी ताहिर हुसैन ने कहा था कि वह बेगुनाह हैं।

ताहिर की ओर से पेश हुए एडवोकेट रिज़वान और अभियोजन पक्ष के वकील ने एडिशनल सेशन जज वीरेंद्र भट्ट के सामने अपनी दलीलों को रखा। 

इस मामले में अजय कुमार झा नाम के शख़्स ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी कि दंगाइयों की भीड़ के द्वारा ताहिर हुसैन की छत से फेंके गए पत्थरों, पेट्रोल बमों के कारण वह घायल हो गया था। यह वाक़या 25 फ़रवरी का है। अभियोजन पक्ष ने अदालत से कहा कि ताहिर इसका विरोध नहीं कर रहा था बल्कि दंगाइयों की मदद कर रहा था। 

ताज़ा ख़बरें

जबकि रिज़वान ने कहा कि दंगाई उनके मुवक्किल के घर पहुंच गए थे और ताहिर ने दंगाइयों से पेट्रोल बम फेंकने के लिए नहीं कहा था। अगर आप अभियोजन पक्ष के वीडियो को देखें तो ताहिर घर के पास एक पार्किंग में लगी आग को बुझा रहे थे। 

इस पर अभियोजन पक्ष ने कहा कि वीडियो बनाने वाला शख़्स इलाक़े में आगजनी की बात कह रहा है और यह भी कह रहा है कि इसके पीछे ताहिर हुसैन का हाथ है। 

AAP councillor Tahir Hussain accused in Delhi riots case - Satya Hindi

रिज़वान ने कहा कि अभियोजन पक्ष ने जिस वीडियो को रखा है और इसमें ताहिर के होने की बात कही है, इसे जिस शख़्स ने बनाया था, उसे इस मामले में पुलिस ने गवाह तक नहीं बनाया। उन्होंने अदालत के सामने कई वीडियो रखे और कहा कि ताहिर इनमें इलाक़े के एसीपी से बात कर रहा है और उस दौरान उनके घर के पास भारी पुलिस दल मौजूद था। 

रिज़वान ने कहा, “मेरे मुवक्किल इस मामले में पीड़ित हैं और प्रदीप नाम के जिस शख़्स की पार्किंग में आग लगी थी, वह ख़ुद पत्थरबाज़ी में शामिल था। प्रदीप इस मामले में गवाह है लेकिन उस पर भरोसा नहीं किया जा सकता।”

रिज़वान ने अदालत से कहा कि पुलिस ने ताहिर हुसैन को उनके घर से निकाल लिया था और घर को अपने कब्जे में ले लिया था। उन्होंने अदालत को बताया कि ताहिर ने कभी भी जेएनयू के नेता उमर खालिद से किसी तरह का कोई संपर्क नहीं किया था। 

उन्होंने अदालत से कहा कि दंगों की साज़िश जामिया से शुरू हुई और चांद बाग तक चली। इस बीच, पुलिस ने कई अहम बातों जैसे- कुछ नेताओं के भाषणों आदि पर कोई बात ही नहीं की है। 

तीन दिन तक चले थे दंगे 

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में पिछले साल 23 फरवरी को दंगे शुरू हुए थे और ये तीन दिन यानी 25 फ़रवरी तक चले थे। इस दौरान यह इलाक़ा बुरी तरह अशांत रहा और दंगाइयों ने वाहनों, घरों और दुकानों में आग लगा दी थी। जाफराबाद, वेलकम, सीलमपुर, भजनपुरा, गोकलपुरी और न्यू उस्मानपुर आदि इलाक़ों में फैल गए इस दंगे में 53 लोगों की मौत हुई थी और 581 लोग घायल हो गए थे। 

अदालतों की सख़्त टिप्पणियां 

दिल्ली की कई अदालतों ने दिल्ली दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस की तीख़ी आलोचना की है और इसे फटकार भी लगाई है। अदालतों ने कहा था कि पुलिस इस मामले की ढंग से जांच करने में विफल रही है और ऐसी जांच देशवासियों के पैसे की बर्बादी है। 

एक अदालत ने कहा था कि पुलिस ने सिर्फ़ अदालत की आंखों पर पर्दा डालने की कोशिश की है। कई बार तो अदालत ने जांच को एकतरफ़ा बताया और टिप्पणी की कि बिना किसी सबूत के ही लोगों को आरोपी बना दिया गया। एक अदालत इस मामले में ताहिर हुसैन के भाई शाह आलम और दो अन्य को आरोपमुक्त भी कर चुकी है। 

दिल्ली से और ख़बरें

दिल्ली पुलिस की चार्जशीट 

दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा अदालत में दाखिल की गई चार्जशीट में कहा था कि उत्तरी दिल्ली के चांद बाग इलाक़े में हुए दंगे में ताहिर हुसैन की अहम भूमिका थी। चार्जशीट में यह भी कहा गया था कि ताहिर हुसैन ने बड़े पैमाने पर दंगे की साजिश रची थी।

अल्पसंख्यक आयोग की रिपोर्ट

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने अपनी रिपोर्ट में बहुत ही साफ़ शब्दों में कहा था कि दिल्ली दंगे ‘सुनियोजित’, और ‘एकतरफा’ थे और ‘मुसलमानों के घरों और दुकानों को ही अधिक नुक़सान हुआ है’ और उन्हें ‘स्थानीय लोगों की मदद से ही’ निशाना बनाया गया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें