loader
न्यूयॉर्क टाइम्स द्वारा जारी सफ़ाई का स्क्रीनशॉट।

मोदी को 'आख़िरी उम्मीद' बताने वाली तसवीर को न्यूयॉर्क टाइम्स ने फर्जी बताया

'न्यूयॉर्क टाइम्स' ने भी अब कह दिया कि मोदी को महान बताने वाली जो कथित ख़बर की तसवीर है वह फर्जी है। यानी उस अख़बार का नाम जोड़कर एक प्रोपेगेंडा फैलाने की कोशिश की गई थी। अमेरिकी अख़बार की यह सफ़ाई उस मामले में आई है जिसमें न्यूयॉर्क टाइम्स के मास्टहेड पर प्रधानमंत्री मोदी की तसवीर के साथ शीर्षक है- 'लास्ट, बेस्ट होप ऑफ़ अर्थ'। इस हेडिंग का हिंदी तर्जुमा होता है- 'धरती की आख़िरी, बेहतरीन उम्मीद'। इसके साथ ही उप-शीर्षक में लिखा हुआ है- दुनिया के सबसे चहेते, ताक़तवर नेता हम पर कृपा बरसाने आए हैं'।

सोशल मीडिया पर इसके काफ़ी ज़्यादा शेयर किए जाने पर न्यूयॉर्क टाइम्स ने ट्वीट कर इस पर सफ़ाई दी है। इसने लिखा है कि यह पूरी तरह से गढ़ी गई तसवीर है, जो प्रधानमंत्री मोदी की विशेषता बताने वाली उन गढ़ी गई कई तसवीरों में से एक है जो प्रचलन में हैं। इसने कहा है, 'ऐसे समय में जब सच्ची, विश्वसनीय पत्रकारिता की सबसे अधिक आवश्यकता है, फ़ोटोशॉप की गई तसवीरों को ऑनलाइन साझा करना या प्रसारित करना केवल ग़लत सूचना और अनिश्चितता को बढ़ावा देता है।'

फ़ोटोशॉप की गई तसवीर में मोदी की एक बड़ी तसवीर है। इसके साथ लिखा है कि 'दुनिया का सबसे प्रिय और सबसे शक्तिशाली नेता यहाँ हमें आशीर्वाद देने के लिए है'। तसवीर में 26 सितंबर का संस्करण दिखता है। लेकिन, अंग्रेजी में लिखे सितंबर की वर्तनी ग़लत है और शीर्षक की फ़ॉन्ट की शैली द न्यूयॉर्क टाइम्स द्वारा उपयोग की गई शैली के समान नहीं है।

मोदी के अमेरिका के दौरे के बाद से फर्जी तसवीर सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही है। सर्वेश नाम के एक ट्विटर यूज़र ने 26 सितंबर को लिखा था, 'दुनिया के सबसे प्रिय नेता...'

अभय सक्सेना नाम के ट्विटर यूज़र ने भी उस तसवीर को शेयर किया था और प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ़ों के पुल बांधे। 

मनोज कुमार जैन ने भी कुछ ऐसा ही ट्वीट किया था। 

हालाँकि, न्यूयॉर्क टाइम्स की तरफ़ से सफ़ाई आने से पहले ही उस तसवीर को फ़ेक बताया जा रहा था। कई लोग उस पर तंज कस रहे थे। अजय सिंह नाम के यूज़र ने लिखा, 'फोटोशॉप करने वाला असमंजस में था कि शख्स धरती की आखिरी है या सबसे अच्छी उम्मीद। फिर उन्होंने दोनों के लिए कौमा से काम चलाने का फ़ैसला किया!'

बता दें कि तथाकथित उस ख़बर की इस तसवीर में जो 26 सितंबर लिखा हुआ था उस दिन के न्यूयॉर्क टाइम्स के अख़बार के फ्रंट पेज पर ऐसा कुछ नहीं था। उस दिन उस अख़बार के पहले पन्ने पर जर्मनी के फ्रैंकफर्ट की तसवीर थी और ख़बर अमेरिका के टेक्सास की थी। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

असत्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें