loader
रुझान / नतीजे चुनाव 2022

दिल्ली नगर निगम चुनाव 2022 0 / 250

बीजेपी
0
आप
0
कांग्रेस
0
अन्य
0

अजमल के छेड़छाड़ वाले वीडियो को पत्रकारों ने क्यों शेयर किया?

एआईयूडीएफ प्रमुख मौलाना बदरुद्दीन अजमल चर्चा में हैं। एक वीडियो क्लिप को लेकर। उस वीडियो क्लिप को लेकर जिससे छेड़छाड़ की गई है। उस छेड़छाड़ वाले वीडियो में उन्हें यह कहते हुए सुना जा सकता है, 'इसी भारत पर मुग़लों ने 800 साल राज किया। इस देश को इस्लामिक राष्ट्र बनायेंगे...।' लेकिन इसकी ख़ास बात यह है कि वोट के लिए छेड़छाड़ वाले इस वीडियो को विरोधी पार्टी वालों ने ही नहीं शेयर किया है, बल्कि मीडिया के एक बड़े तबक़े ने भी शेयर किया। 

लेकिन जब ओरिजिनल वीडियो सामने ला दिया गया तो फिर कई लोगों ने अपने-अपने ट्वीट हटा लिए। 'ऑल्ट न्यूज़' से जुड़े मुहम्मद ज़ुबैर ने ट्वीट किया है कि 'असम चुनाव से पहले छेड़छाड़ वाले उस वीडियो को मीडिया संस्थान, पत्रकार, बीजेपी सदस्य, आरएसएस सदस्य, प्रधानमंत्री द्वारा फॉलो किए जा रहे ट्रोल, हिमंत बिस्वा की पत्नी के नेतृत्व वाले चैनल ने शेयर किया है।'

ज़ुबैर ने ट्विटर पर एक के बाद एक कई ट्वीट पोस्ट किए हैं जिसमें उन्होंने स्क्रीनशॉट शेयर किए हैं। वे स्क्रीनशॉट उन ट्वीट के हैं जिसमें बदरुद्दीन अजमल के छेड़छाड़ वाले वीडियो को शेयर किए गए हैं। इसमें स्थानीय मीडिया से लेकर न्यूज़ एजेंसी और संपादक भी शामिल हैं। 

जिन लोगों ने भी बदरुद्दीन अजमल का वह छेड़छाड़ वाला वीडियो शेयर किया है उन्होंने यह भी लिखा है कि असम विधानसभा चुनाव को लेकर अजमल ऐसा बयान दे रहे हैं। 

'ऑल्ट न्यूज़' ने इस पर रिपोर्ट प्रकाशित की है। इसमें कहा गया है कि दूरदर्शन के पत्रकार अशोक श्रीवास्तव ने भी यह वीडियो शेयर किया। 

badruddin ajmal edited video shared amid assam assembly polls - Satya Hindi

रिपोर्ट के अनुसार 'न्यूज़ आउटलेट एशियानेट न्यूज़ और स्थानीय न्यूज़ आउटलेट्स, न्यूज़ लाइव, आर नॉर्थ ईस्ट, @VoiceOfAxom (पीएम मोदी द्वारा फ़ॉलो किया जाने वाला हैंडल), VSK ASSAM और DY365 ने भी यह वीडियो शेयर किया।'

badruddin ajmal edited video shared amid assam assembly polls - Satya Hindi

विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने भी उस वीडियो को ट्वीट किया है। 

न्यूज़ नेशन के पत्रकार दीपक चौरसिया ने वह छेड़छाड़ वाला वीडियो तो शेयर नहीं किया, लेकिन उन्होंने एक ट्वीट में लिखा, 'भारत पर बरसों मुगलों ने शासन किया, और भविष्य में भी भारत इस्लामिक राष्ट्र बनेगा।'

badruddin ajmal edited video shared amid assam assembly polls - Satya Hindi
छेड़छाड़ वाले वीडियो में अजमल को कहते सुना जा सकता है, 'इसी भारत पर मुग़लों ने 800 साल राज किया। इस देश को इस्लामिक राष्ट्र बनायेंगे। मंत्रालय में कौन बैठेगा? हमारा महागठबंधन। कांग्रेस UPA महागठबंधन की सरकार बनेगी। और सरकार में अपनी पार्टी, AIUDF ताला चाभी की भागीदारी होगी। पूरे देश में एक हिन्दू भी नहीं होगा। हर कोई मुसलमान होगा।'

विधायक हाफ़िज़ रफ़ीकुल इस्लाम ने ट्वीट कर बताया कि मौलाना बदरुद्दीन अजमल का एडिटेड वीडियो शेयर किया जा रहा है। उस ट्वीट के साथ ही उन्होंने ऑरिजिनल वीडियो भी शेयर किया जिसे यूट्यूब पर 1 साल पहले अपलोड किया गया था। 

बता दें कि एक दिन पहले ही ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट यानी एआईयूडीएफ़ के प्रमुख बदरुद्दीन अजमल ने सफ़ाई भी दी है, 'वायरल किया जा रहा वीडियो सौ फ़ीसदी फेक है। अगर आप असल वीडियो देखेंगे तो उसमें दिखेगा क‍ि मैंने कहा था कि 'हेमंत बिस्‍वा शर्मा मुझे मुगल कहते हैं। मैंने पूछा था कि मुगलों ने भारत में 800 साल राज किया लेकिन क्‍या उन्‍होंने कभी भी भारत को इस्‍लामिक राष्‍ट्र बनाने के बारे में सोचा? इस पर लोगों ने कहा था- नहीं।'

ऑल्ट न्यूज़ के अनुसार, बदरुद्दीन अजमल के भाषण का वीडियो 21 मिनट का है। इसके डिस्क्रिप्शन में बताया गया है कि ये वीडियो असम के बारपेटा का है। इसे 17 अप्रैल, 2019 को अपलोड किया गया था।

बदरुद्दीन अजमल के उस वीडियो को इस तरह में काट छांट की गई है और इस तरह जोड़ा गया है कि उनका बयान आपत्तिजनक लगे। जाहिर है छेड़छाड़ वाले वीडियो को शेयर करने का मक़सद चुनावी लाभ लेना ही रहा होगा। 

ऑल्ट न्यूज़ के अनुसार, इस वीडियो में मौलाना बदरुद्दीन अजमल कह रहे हैं, "इसी भारत पर मुग़ल बादशाहों ने 800 साल राज किया। किसी ने ऐसा सपना नहीं देखा, किसी की इतनी हिम्मत नहीं हुई कि इस देश को इस्लामिक राष्ट्र बना दे। अगर वो चाहते तो 800 साल में एक भी हिन्दू नहीं रहता सबको मुसलमान बना देते। लेकिन क्या उन्होंने ऐसा किया? (भीड़ ‘ना’ में जवाब देती हुई)। उन्होंने हिम्मत नहीं की। उसके बाद अंग्रेजों ने 200 साल राज किया। उन्होंने भी देश को इसाई राष्ट्र बनाने की कोशिश नहीं की। उन्होंने भी हिम्मत नहीं की। क्या थी उनमें हिम्मत? (भीड़ ‘ना’ में जवाब देती हुई)। इसके बाद भारत आज़ाद हुआ। 70 सालों में कांग्रेस ने 55 साल राज किया। जवाहर लाल नेहरू से लेकर, शास्त्री, राजीव गांधी, मनमोहन सिंह और नरसिम्हा राव नेता रहे। किसी ने भी भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने की कोशिश नहीं की। लेकिन मोदीजी, ये सपना मत देखिये, ये सपना झूठा हो जाएगा। इस बार मोदीजी, भाजपा, आरएसएस, हेमंत बिस्वा शर्मा ऐंड पार्टी को जवाब दीजिये। ताला चाभी पर वोट दीजिये ताकि मोदीजी प्रधानमंत्री न बनें। मिनिस्ट्री किसकी बनेगी? हमारे गठबंधन की। इंशाल्लाह, कांग्रेस UPA महागठबंधन की सरकार बनेगी और आपकी पार्टी AIUDF ताला चाभी की इसमें भागीदारी होगी।”
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

असत्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें