loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/विजय रूपाणी

पाटीदार नेता भूपेंद्र पटेल होंगे गुजरात के नये मुख्यमंत्री

पाटीदार समाज से आने वाले भूपेंद्र पटेल गुजरात के नये मुख्यमंत्री होंगे। वह सोमवार को पद की शपथ लेंगे। एक दिन पहले पद से इस्तीफ़ा देने वाले विजय रूपाणी ने विधायक दल की बैठक में पटेल के नाम का प्रस्ताव रखा। इसका अनुमोदन नितिन पटेल ने किया। सभी विधायकों ने इस नाम पर सहमति जताई। इसके साथ ही मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर पहले से जो कयास लगाए जा रहे थे उनको बीजेपी ने ग़लत साबित कर दिया है। नये मुख्यमंत्री की घोषणा से पहले रविवार सुबह ही बीजेपी के केंद्रीय पर्यवेक्षक गुजरात में पहुँचे थे। बीजेपी विधायक दल की बैठक में नये मुख्यमंत्री का फ़ैसला लिया गया। प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष सीआर पाटिल ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा है कि गुजरात के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री सिर्फ़ भूपेंद्र पटेल ही सोमवार को शपथ लेंगे, और कोई नहीं।  

भूपेंद्र पटेल का पूरा नाम भूपेन्द्र रजनीकांत पटेल है। वह घाटलोदिया सीट से विधायक हैं। उन्होंने 2017 के चुनाव में 117000 वोटों से जीत हासिल की थी। उन्होंने कांग्रेस के शशिकांत पटेल को हराया था। आनंदी बेन पटेल ने उनके लिए यह सीट छोड़ी थी। वह भूपेंद्र पटेल के क़रीबी हैं। वह पूर्व में अहमदाबाद नगर निगम और अहमदाबाद शहरी विकास प्राधिकरण यानी एयूडीए के चेयरमैन रहे थे।

ताज़ा ख़बरें
भूपेंद्र पटेल ने कहा है कि गुजरात में विकास के काम को आगे बढ़ाएँगे। पटेल को विधायक दल का नेता चुने जाने पर देश के गृह मंत्री अमित शाह ने बधाई दी है। उन्होंने विश्वास जताया है कि वे प्रदेश को विकास यात्रा पर आगे बढ़ाएंगे। 

बीजेपी के केंद्रीय आलाकमान ने नये मुख्यमंत्री पर फ़ैसले के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक के रूप में केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी और नरेंद्र सिंह तोमर को गुजरात भेजा था। इससे पहले मुख्यमंत्री पद के कई दावेदार बताए जा रहे थे। जिन नामों पर विचार किया जा रहा था उनमें गुजरात के दो केंद्रीय मंत्री, दो केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासक प्रफुल खोड़ा पटेल और राज्य के कृषि मंत्री आरसी फालदू के नाम शामिल था।

दो केंद्रीय मंत्रियों के नाम इसलिए भी चर्चा में थे क्योंकि विजय रूपाणी के इस्तीफ़े की घोषणा बीजेपी के गुजरात राज्य प्रभारी भूपेंद्र यादव के साथ एक बैठक के बाद हुई थी। उस बैठक में दोनों केंद्रीय मंत्रियों- मनसुख मंडाविया और पुरुषोत्तम रूपाला के साथ-साथ बीजेपी महासचिव बीएल संतोष ने भी भाग लिया था। समझा जाता है कि उस बैठक में रूपाणी को पद छोड़ने के केंद्रीय नेतृत्व के निर्णय के बारे में बताया गया। 

जिस समय रूपाणी इस्तीफ़ा सौंपने के लिए राज्यपाल से मिलने गए थे, उनके साथ नितिन पटेल, पुरुषोत्तम रूपाला, भूपेंद्र यादव और मनसुख मंडाविया भी मौजूद थे।

बता दें कि एक बेहद अहम घटनाक्रम में शनिवार को गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया था। उन्होंने आनंदी बेन पटेल के मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद पदभार संभाला था।

पिछले चुनाव से कुछ महीने पहले ही आनंदी बेन पटेल को मुख्यमंत्री का पद छोड़ना पड़ा था। इस बार गुजरात में चुनाव से क़रीब एक साल पहले ही रूपाणी को पद छोड़ना पड़ा है। 

गुजरात में अगले साल विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र यह बदलाव बेहद महत्वपूर्ण है। समझा जाता है कि बीजेपी ने यह बदलाव इसलिए किया है कि उसे चुनाव के समय एंटी इनकम्बेन्सी यानी सरकार विरोधी लहर का सामना नहीं करना पड़े। 

गुजरात से और ख़बरें

कुछ दिन पहले ही बीजेपी ने उत्तराखंड में मुख्यमंत्री बदला है, उसके पीछे भी यही तर्क दिया जा रहा है। उत्तराखंड में बीजेपी ने पहले त्रिवेंद्र सिंह रावत को हटाकर तीरथ सिंह रावत को मुख्यमंत्री बनाया था, लेकिन बहुत कम समय में ही उन्हें हटाकर पुष्कर धामी को कमान सौंपी गई। कर्नाटक में भी बीजेपी ने बी. एस.येदियुरप्पा की जगह बोम्मई को कमान सौंपी है।

गुजरात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का गृह राज्य है। यह बीजेपी के लिए बेहद अहम है। इसलिए पार्टी ने समय रहते वहां एक बदलाव किया है और चुनाव को बहुत ही गंभीरता से लेने का संकेत दे दिया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें