loader

केजरीवाल ने शाह को लिया निशाने पर, कहा, दिल्ली में दिन-दहाड़े चल रही हैं गोलियाँ

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शाहीन बाग में गोली चलाने की वारदात पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर ज़ोरदार हमला बोल दिया है। उन्होंने ट्वीट कर सवाल किया, ‘दिल्ली का यह क्या हाल कर दिया है, दिन-दहाड़े गोलियाँ चल रही हैं।’
दिल्ली के मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया : अमित शाह जी, ये आपने क्या हाल बना रखा है हमारी दिल्ली का। दिनदहाड़े गोलियाँ चल रहीं है। क़ानून व्यवस्था की खुलेआम धज्जियाँ उड़ाई जा रही है। चुनाव आते जाते रहेंगे, राजनीति भी चलती रहेगी, लेकिन दिल्ली के लोगों की ख़ातिर, कृपया कानून व्यवस्था ठीक करने पर ध्यान दीजिए।

केजरीवाल के कहने का मतलब

बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह पर आम आदमी पार्टी के नेता का ज़ोरदार हमला कई कारणों से अहम है। दिल्ली में कुछ दिन बाद ही यानी 8 फरवरी को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होना है। अब चुनाव प्रचार में बमुश्किल चार दिन बचे हैं।
दिल्ली पुलिस केंद्र सरकार के पास है और अमित शाह इस विभाग के मंत्री हैं। केजरीवाल ने सीधे-सीधी अमित शाह पर ही सवाल उठा दिया है।
अमित शाह दिल्ली विधानसभा चुनाव में जम कर प्रचार कर रहे हैं, एक ही दिन में कई रैलियाँ कर रहे हैं। वह हर रैली में दिल्ली सरकार, अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी को निशाने पर लेते हैं। मुख्यमंत्री को यह एक ऐसा मौका मिला है, जिसके बल पर वह सीधे केंद्र सरकार पर हमला कर सकते हैं। वह इस मौक़े का पूरा फ़ायदा उठा रहे हैं।
बता दें कि नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ दिल्ली के शाहीन बाग़ में चल रहे धरने में शनिवार को पहुंचे एक शख़्स ने फ़ायरिंग कर दी। इससे वहां अफरा-तफरी का माहौल बन गया। पुलिस ने शख़्स को हिरासत में ले लिया। उस शख़्स ने 'जय श्रीराम' का नारा लगाया और कहा, 'हमारे देश में सिर्फ़ हिन्दुय़ओं की चलेगी।' 
इसके सिर्फ़ दो दिन पहले यानी गुरुवार को जामिया मिल्लिया इसलामिया के पास एक नाबालिग शख़्स ने गोली चला दी थी। इसे लेकर ख़ासा हंगामा हुआ था। इस शख़्स ने सरेआम रिवॉल्वर लहराते हुए ‘ये लो आज़ादी’ कहते हुए गोली चलाई थी और ‘दिल्ली पुलिस जिंदाबाद’ के नारे भी लगाए थे। पुलिस ने हमलावर को गिरफ़्तार कर लिया था। गोली चलने के बाद वहां ज़ोरदार विरोध प्रदर्शन हुआ था और सैकड़ों छात्र सड़कों पर उतर आए थे। प्रदर्शनकारियों ने जमकर नारेबाज़ी की थी और पुलिस से भिड़ गए थे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें