loader

पेगासस: संघ के पूर्व विचारक गोविंदाचार्य पहुंचे SC, निष्पक्ष जांच की मांग 

पेगासस स्पाईवेयर से जासूसी के मामले में आरएसएस के पूर्व विचारक केएन गोविंदाचार्य भी सामने आ गए हैं। गोविंदाचार्य ने सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई है कि वह उनके द्वारा 2019 में दायर की गई याचिका पर नए सिरे से सुनवाई करे। गोविंदाचार्य ने मांग की है कि इस मामले में मुक़दमा दर्ज किया जाए और एनआईए फ़ेसबुक, वॉट्स एप और पेगासस स्पाईवेयर को बनाने वाली कंपनी एनएसओ के ख़िलाफ़ जांच करे। 

बता दें कि पेगासस जासूसी मामले को लेकर बीते दिनों विपक्षी दल सड़क से संसद तक मोदी सरकार पर हमलावर रहे। संसद के मानसून सत्र में भी यह मुद्दा बेहद गरम रहा और इस वजह से संसद के दोनों सदनों में हर दिन हंगामा होता रहा। 

गोविंदाचार्य ने शीर्ष अदालत में दायर की गई नई याचिका में मांग की है कि पेगासस मामले में सही, निष्पक्ष और एक जिम्मेदार जांच होनी चाहिए जिससे भारत में पेगासस के इस्तेमाल और इसके लिए जिम्मेदार लोगों के बारे में पता लग सके। 

ताज़ा ख़बरें

गोविंदाचार्य ने कहा है कि यह अवैध रूप से निगरानी करने जैसा है और व्यक्तिगत आज़ादी के लिए बड़ा ख़तरा है। उन्होंने इसे साइबर आतंकवाद बताया और कहा कि आईटी एक्ट, 2000 की धारा एस 66 के तहत दंडनीय अपराध है। 

गोविंदाचार्य ने साल 2019 में सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि वॉट्स एप द्वारा खुलासा किया गया था कि पेगासस स्पाईवेयर के जरिये भारत में कई लोगों के फ़ोन हैक किए जा रहे हैं। उन्होंने अदालत से मांग की थी कि वह अदालत को गुमराह करने को लेकर वॉट्स एप के ख़िलाफ़ जांच करे। वॉट्स एप ने अदालत से कहा था कि यूजर्स का डाटा पूरी तरह एनक्रिप्टेड है और वॉट्स एप भी उसे नहीं देख सकता। 

देश से और ख़बरें

‘आरोपों की करेंगे जांच’

पेगासस स्पाईवेयर से जासूसी के मामले में सोमवार को केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि इसके लिए सरकार विशेषज्ञों की एक कमेटी बनाएगी जो इस मामले में लगे आरोपों की जांच करेगी। सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिकाओं में लगाए गए आरोपों को भी केंद्र सरकार ने नकार दिया है। 

सुप्रीम कोर्ट में दाख़िल किए गए दो पेज के हलफ़नामे में केंद्र सरकार ने कहा है कि इस मामले में दायर याचिकाएं अनुमानों, अप्रमाणित मीडिया रिपोर्टों या अपुष्ट सामग्री पर आधारित हैं।

पेगासस जासूसी के मामले को लेकर विपक्षी दलों में कांग्रेस विशेषकर सड़क से संसद तक मोदी सरकार पर हमलावर है। संसद के मानसून सत्र में यह मुद्दा बेहद गरम रहा और इस वजह से सभी दिन संसद के दोनों सदनों में हंगामा होता रहा। 

Govindacharya moves SC in Pegasus spying issue  - Satya Hindi

कांग्रेस रही थी हमलावर

कांग्रेस इस मामले में सड़क पर उतरी थी और उसकी सभी राज्य इकाइयों ने राजभवनों की ओर कूच किया था। दिल्ली में युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने भी जोरदार प्रदर्शन किया था। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने हाथ में पोस्टर भी लिए हुए थे, जिनमें लिखा था चौकीदार ही जासूस है। युवक कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास ने कहा था कि ये जासूसी कांड सरकार के कफ़न में आखिरी कील साबित होगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें