loader

दिल्ली नगर निगम चुनाव 2022 0 / 250

BJP
0
AAP
0
CONG
0
OTH
0

ओमिक्रॉन पर आईएमए ने चेताया- सावधानी हटी तो बड़ी तीसरी लहर संभव

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन यानी आईएमए ने ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर जो चेताया है वह चिंता की बड़ी वजह हो सकती है। ओमिक्रॉन वैरिएंट के मामले देश में बढ़ने के बीच आईएमए ने चेताया है कि यदि ज़रूरी सावधानी नहीं बरती गई तो कोरोना की बड़ी तीसरी लहर आ सकती है।

इसने कहा है कि भारत के कई प्रमुख राज्यों से कोरोना के इस वैरिएंट के मामले सामने आए हैं और कोरोना पॉजिटिव केसों की संख्या में वृद्धि होना तय है। देश में अब तक कम से कम 23 ऐसे मामलों की पुष्टि हो चुकी है। आईएमए ने दावा किया कि उपलब्ध वैज्ञानिक साक्ष्य और जिन देशों में इस वैरिएंट के सबसे पहले मामले आए वहाँ के अनुभव से यह साफ़ है कि ओमिक्रॉन वैरिएंट तेज़ी से संक्रमण फैलाएगा और यह अधिक लोगों को प्रभावित करेगा।

ताज़ा ख़बरें

इसने सरकार से स्वास्थ्य देखभाल, फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए कोरोना वैक्सीन की अतिरिक्त खुराक की घोषणा करने का भी आग्रह किया। डॉक्टरों की इस संस्था ने कहा, 'ऐसे समय में जब भारत सामान्य स्थिति में वापस लौट रहा है, यह एक बड़ा झटका है। यदि हम पर्याप्त उपाय नहीं करते हैं तो एक बड़ी तीसरी लहर आ सकती है।'

ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहली बार दक्षिणी अफ्रीकी देशों में पता चला था और इसे विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ ने 'वैरिएंट ऑफ़ कंसर्न' के रूप में चिन्हित किया।

दक्षिण अफ्रीका में सबसे पहली बार 25 नवंबर को ओमिक्रॉन के पहले मामले की पुष्टि हुई थी। इसके बाद से कई देशों में इस संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं। 

कोरोना का इलाज करने वाले दक्षिण अफ्रीका के डॉक्टरों ने ही शुरुआती आकलन में कहा था कि ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित लोगों में हल्के लक्षण दिख रहे हैं।

उसके बाद दक्षिण अफ्रीका के सरकारी विशेषज्ञ ने संभावित बड़े ख़तरे को लेकर चेताया था। दक्षिण अफ्रीका के नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिजीज यानी एनआईसीडी निदेशक ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका में पाया गया ओमिक्रॉन डेल्टा वैरिएंट से भी ज़्यादा संक्रामक हो सकता है। रायटर्स से साक्षात्कार में एनआईसीडी के कार्यकारी एग्जक्यूटिव डाइरेक्टर एड्रियन प्योरन ने कहा था, 'हमने सोचा था कि डेल्टा को क्या मात देगा? यह हमेशा से सवाल रहा है, कम से कम तेजी से फैलने के संदर्भ में, ...शायद यह विशेष वैरिएंट है।'

देश से और ख़बरें

दूसरे वैरिएंट से ज़्यादा ख़तरनाक नहीं: डब्ल्यूएचओ वैज्ञानिक

डब्ल्यूएचओ के एक शीर्ष अधिकारी ने मंगलवार को एएफ़पी से कहा है कि ओमिक्रॉन पिछले दूसरे कोविड वैरिएंट की तुलना में ज़्यादा गंभीर मालूम नहीं पड़ता है। हालाँकि, उन्होंने यह भी कहा कि इस वैरिएंट में वैक्सीन सुरक्षा को पूरी तरह से चकमा देने की ज़्यादा संभावना है। हालांकि उन्होंने कहा कि इसकी गंभीरता का पता लगाने के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के सेकेंड-इन-कमांड ने मंगलवार को एएफपी को बताया कि हालांकि इसके पिछले वैरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक होने की संभावना है। डब्ल्यूएचओ के आपात स्थिति निदेशक माइकल रयान ने एक साक्षात्कार में कहा, 'शुरुआती आँकड़े यह संकेत नहीं देते हैं कि यह अधिक गंभीर है। वास्तव में, यदि कुछ भी है तो यह है कि कम गंभीरता की ओर इशारा करता है।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें