loader

कश्मीर पर केंद्र को झटका, 1 हफ़्ते में करनी होगी प्रतिबंधों की समीक्षा

सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर में जारी पाबंदियों को लेकर फ़ैसला सुना दिया है। कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि लोगों के अधिकारों की रक्षा करना बेहद ज़रूरी है। कोर्ट ने कहा कि कश्मीर में लंबे समय तक हिंसा हुई है और हम कोशिश करेंगे कि सुरक्षा के मुद्दे पर मानवाधिकारों और स्वतंत्रता के बीच तालमेल बना रहे। कोर्ट ने कहा है कि कश्मीर की राजनीति में दख़ल देना हमारा काम नहीं है। 

कोर्ट ने कहा, ‘बिना वजह इंटरनेट पर रोक नहीं लगाई जा सकती। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता लोकतांत्रिक व्यवस्था का बेहद अहम अंग है। इंटरनेट इस्तेमाल करने की आज़ादी लोगों का मूलभूत अधिकार है। इंटरनेट बंद करने की न्यायिक समीक्षा की जाएगी।’

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि केंद्र सरकार कश्मीर में लगाये गये प्रतिबंध से जुड़े सभी आदेशों की एक हफ़्ते में समीक्षा करे। कोर्ट ने कहा कि इंटरनेट को अनिश्चितकाल के लिए बंद नहीं किया जा सकता है।
जम्मू-कश्मीर में 5 अगस्त को अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही कई पाबंदियां लागू हैं। इन्हें लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। ये याचिकाएं कांग्रेस नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद समेत कई अन्य नेताओं ने दायर की थीं। जस्टिस एनवी रमन्ना, जस्टिस आर. सुभाष रेड्डी, जस्टिस बी. आर. गवई की बेंच ने याचिकाओं पर फ़ैसला सुनाया है। 
ताज़ा ख़बरें
तीन जजों की बेंच ने अपने फ़ैसले में कहा कि कश्मीर में इंटरनेट को बंद करने और धारा 144 लागू करने के फ़ैसले की समीक्षा हो। अदालत ने कहा कि पाबंदी से संबंधित आदेशों की समीक्षा के लिए एक कमेटी बने और यह एक हफ़्ते में अपनी रिपोर्ट दे। कोर्ट ने कहा कि व्यापार और ई-बैंकिंग सेवाओं के लिए इंटरनेट को शुरू किया जाए और कश्मीर में प्रतिबंध से जुड़े सभी फ़ैसलों को सार्वजनिक किया जाए। 
सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इंटरनेट पर अनिश्चितकाल के लिए प्रतिबंध लगाना ताक़त का दुरुपयोग है। अदालत ने कहा कि सरकार के फ़ैसले के ख़िलाफ़ असंतोष या असहमति की अभिव्यक्ति इंटरनेट पर प्रतिबंध लगाये जाने का कारण नहीं हो सकती।
शीर्ष अदालत ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाये जाने से लेकर बाक़ी सभी फ़ैसलों को सार्वजनिक किया जाए जिससे इन्हें क़ानूनी चुनौती दी जा सके। 
कोर्ट का यह फ़ैसला ऐसे समय में आया है जब 15 देशों के राजदूत जम्मू-कश्मीर के हालात का जायजा लेने के लिए राज्य के दौरे पर हैं। ये राजदूत गुरुवार को ही श्रीनगर पहुंच गए थे। इनमें बांग्लादेश, वियतनाम, नार्वे, मालदीव, दक्षिण कोरिया, मोरोक्को, नाइजीरिया आदि देशों के भी राजनयिक शामिल हैं। ये राज्य में राजनीतिक दलों के नेताओं और अन्य लोगों से मुलाक़ात कर रहे हैं। 
देश से और ख़बरें

संयुक्त राष्ट्र ने जताई थी चिंता 

जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा ख़त्म किए जाने को लेकर संयुक्त राष्ट्र ने भी चिंता जताई थी। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (यूएनचसीआर) ने भारत से कहा था कि वह जम्मू-कश्मीर की जनता के तमाम अधिकारों को बहाल करे। यूएनएचसीआर ने एक बयान जारी कर कहा था कि हम इस पर बहुत चिंतित हैं कि भारत-प्रशासित कश्मीर के लोग अभी भी ज़्यादातर मानवाधिकारों से वंचित हैं। 

केंद्र ने अनुच्छेद 370 हटाने के फ़ैसले से पहले राज्य में बड़ी संख्या में जवानों को तैनात कर दिया था। इसके बाद राज्य के पूर्व मुख्यमंत्रियों फ़ारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती को हिरासत में ले लिया था और अभी तक ये तीनों प्रमुख नेता नज़रबंद हैं।
इस बीच, केंद्र सरकार से प्रतिबंध हटाने को लेकर देश भर से लोगों ने खत लिखे। प्रबुद्ध नागरिकों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, पत्रकार, अकादमिक जगत के लोग, राजनेता और कई दूसरे वर्ग के लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को ख़त लिख कर कहा था कि कश्मीर की स्थिति अस्वीकार्य है। इससे पहले केरल हाई कोर्ट ने भी एक फ़ैसला दिया था और कहा था कि इंटरनेट मौलिक अधिकार है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें