loader

क्या सीबीआई को जाँच करने से रोक सकती है राज्य सरकार?

कोलकाता पुलिस के कमिश्नर राजीव कुमार से पूछताछ करने उनके घर गई सीबीआई टीम के कुछ लोगों हिरासत में लेकर स्थानीय पुलिस ने सनसनी मचा दी है। इसके अलावा ख़ुद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस मुद्दे पर केंद्र सरकार और सत्तारूढ़ बेजीपी पर ज़बरदस्त हमला कर दिया। उन्होंने इसे लोकतंत्र को कुचलने की केंद्र सरकार की कोशिश क़रार दिया और धरने पर बैठ गई। इससे एक अहम सवाल यह उठ खड़ा हुआ कि क्या राज्य सरकार केंद्रीय जाँच एजेन्सी को इस तरह कार्रवाई करने से रोक सकती है?
इस सवाल का जवाब ढूंढने के लिए हमें कुछ महीने पीछे की एक घटना की ओर लौटना होगा। कुछ दिनों पहले आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल की सरकारों ने अपने-अपने राज्य में जाँच के लिए सीबीआई को दी गई अनुमति वापस ले ली थी। इससे यह बहस छिड़ गई। इससे राज्य-केंद्र सम्बन्धों और संविधान के संघीय ढांचे पर विचार एक बार फिर शुरू हो गया। क्या किसी राज्य सरकार को यह हक़ है कि वह केंद्रीय एजेंंसियों को उसके कामकाज से रोके या अड़चन डाले? ऐसा किए जाने पर केंद्र सरकार क्या कर सकती है, यह सवाल भी उठना लाज़िमी है। 
उस समय दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर नायडू का समर्थन किया था। उन्होंने यह सवाल भी उठाया था कि सीबीआई नोटबंदी और रफ़ाल जैसे मुद्दों की जाँच क्यों नहीं कर रही है। उन्होंने ट्वीट कर केंद्र सरकार से सवाल पूछे थे। 
west bengal-centrspat raises question if state govt stop CBI to probe in its state? - Satya Hindi

क्या कहते हैं नियम?

सीबीआई की स्थापना दिल्ली स्पेशल पुलिस इस्टैब्लिशमेंट एक्ट, 1946, के तहत हुई थी और यह उसी के तहत काम भी करती है। इस क़ानून की धारा पांच में सीबीआई को पूरे देश में कहीं भी काम करने की छूट दी गयी है। पर इसी नियम की धारा छह में साफ़-साफ़ कहा गया है कि दिल्ली के बाहर यानी दूसरे राज्य और केंद्र प्रशासित क्षेत्रों में स्थानीय सरकार की पूर्व अनुमति के बग़ैर सीबीआई कोई जांच नहीं कर सकती है। अदालत उसे जांच की अनुमति दे, उसके बाद इस जांच एजेंसी को राज्य सरकार की सहमति की ज़रूरत नहीं होगी। दिल्ली हाई कोर्ट ने इसी साल 11 अक्टूबर दिए एक आदेश में स्पष्ट किया कि यदि कोई मामला दिल्ली में दर्ज है, लेकिन राज्य सरकार पहले से दी गई सहमति रद्द कर देती है, तो सीबीआई राज्य सरकार की अनुमति के बग़ैर भी जाँच कर सकती है। 

क्या हुआ था कर्नाटक में?

दिल्ली हाई कोर्ट ने 11 अक्टूबर, 2018 को दिए एक आदेश में स्पष्ट किया कि यदि कोई मामला दिल्ली में दर्ज है, लेकिन राज्य सरकार पहले से दी गई सहमति रद्द कर देती है, तो सीबीआई राज्य सरकार की अनुमति के बग़ैर भी जाँच कर सकती है। यह पहला मौका नहीं है जब किसी राज्य सरकार ने सीबीआई को पहले से दी गई सहमति वापस ले ली है। कई राज्यों ने ऐसा किया है। साल 1998 में कर्नाटक में ऐसा ही हुआ था। मुख्यमंत्री जेएच पटेल के नेतृत्व में जनता दल सरकार ने सीबीआई को दी हुई सहमति रद्द कर दी।  उसके कुछ दिन बाद ही कांग्रेस की सरकार बनी और एसएम कृष्णा मुख्यमंत्री बने। लेकिन उस सरकार ने यह सहमति फिर से बहाल करने की ज़रूरत नहीं समझी। आज लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे उन दिनों कर्नाटक के गृह मंत्री थे। इसके बाद आठ साल तक कर्नाटक सरकार ने सीबीआई को यह सहमति नहीं दी। 

क्या असर पड़ेगा?

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार केंद्रीय एजेंसी का बेज़ा इस्तेमाल कर उनकी सरकार को अस्थिर करना चाहती है। उन्होंने कहा कि वाईएस जगनमोहन रेड्डी के साथ मिल कर भारतीय जनता पार्टी के साथ साज़िश करती रही है ताकि उनकी सरकार को उखाड़ फेंका जा सके। 

बीते दिनों आयकर विभाग ने तेलुगु देशम पार्टी के सांसद सीएम रमेश के कई ठिकानों पर छापे मारे थे। सीबीआई आंध्र प्रदेश से जुड़े सिर्फ़ दो मामलों की जाँच फ़िलहाल कर रही है। ये मांस व्यापारी मोईन क़ुरैशी और सना सतीश बाबु से जुड़े मामले हैं। लेकिन ये मामले दिल्ली में रिजस्टर्ड हैं। लिहाज़ा, जाँच पर कोई असर नहीं पड़ेगा। 

west bengal-centrspat raises question if state govt stop CBI to probe in its state? - Satya Hindi

क्या होगा पश्चिम बंगाल में?

सीबीआई पश्चिम बंगाल में शारदा चिटफंड घोटाला, नारद टेप कांड और रोज़ वैली पॉन्जी स्कीम की जाँच कर रही है। पर इन मामलों की जाँच अदालत के कहने पर हो रही है। लिहाज़ा, इनकी जाँच पहले की तरह ही चलती रहेगी। पश्चिम बंगाल में वाम मोर्चा सरकार ने 1989 में पहली बार सीबीआई को राज्य में जाँच करने या छापा डालने की सामान्य सहमति दी थी। यह भी पहली बार नहीं है कि केंद्र सरकार पर सीबीआई के राजनीतिक इस्तेमाल करने और अपने सियासी विरोधियों को परेशान करने के लिए इसका इस्तेमाल करने के आरोप लगे हैं।
बाीजेपी जब विपक्ष में थी, उसने भी केंद्र सरकार पर सीबीआई के दुरुपयोग का आरोप लगाया था। पर आज उस पर भी वही आरोप लग रहे हैं। ज़ाहिर है, यह आरोप बेबुनियाद नहीं कहा जा सकता है।

क्या कहा था सुषमा स्वराज ने?

सुषमा स्वराज ने मनमोहन सिंह की सरकार के ख़िलाफ़ संसद में  कहा था, सीबीआई कुछ लोगों को खुले आम छूट देती है, उनके कामकाज की कोई जाँच नहीं करती, कुछ लोगों को लटका कर रखती है और सत्ताधारी दल की ज़रूरत के मुताबिक़ जाँच करती या जांच रोक देती है और कुछ लोगोें को निशाना बना कर परेशान करती है। जाहिर है, सरकार ने इससे इनकार किया था। मौजूदा सरकार पर भी इस तरह के आरोप लग रहे हैं। नायडू के आरोप पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सवाल उठाया कि नोटबंदी, रफ़ाल जैसे मुद्दों की जाँच सीचबीआई क्यों नहीं करती। ममता बनर्जी ने भी ऐसी ही बात कही है।

क्या करेगी सरकार?

सीबीआई ने यह साफ़ नहीं किया है कि वह अगले चरण में क्या करेगी। केंद्र सरकार भी चुप है। लोकसभा कुछ महीने बाद ही होने को हैं। इसे देखते हुए ऐसा नहीं लगता कि सीबीआई को अधिक अधिकार देने के लिए मोदी सरकार कोई अध्यादेश लाएगी या संसद से क़ानून पारित करवाएगी। संविधान के लिहाज़ से यह तो साफ़ है कि राज्य सरकारों को अपना ज़ोर दिखाने का मौक़ा मिला और उन्होंने यह दिखा दिया कि वे अपने अधिकारों का इस्तेमाल कर सकती हैं।     

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें