loader

जायडस कैडिला: 12 साल से ऊपर के बच्चों के लिए पहली वैक्सीन मंजूर

देश में 12 साल से ऊपर के बच्चों के लिए कोरोना के ख़िलाफ़ पहली वैक्सीन को आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी मिल गई है। देश की ड्रग्स नियामक संस्था ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया यानी डीसीजीआई ने ज़ायडल कैडिला की उस वैक्सीन को मंजूरी दी है जो वयस्क में तो लगाई ही जाएगी, 12 साल से ऊपर के बच्चों को भी लगाई जा सकेगी। इस वैक्सीन की तीन खुराक ज़रूरी होगी।

कोरोना के ख़िलाफ़ दुनिया की यह पहली और भारत की स्वदेशी रूप से विकसित डीएनए-आधारित वैक्सीन है। भारत में यह छठी वैक्सीन है जिसको आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी मिली है। 

ताज़ा ख़बरें

सबसे पहले इस साल की शुरुआत में ही सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को मंजूरी मिली थी। इसके बाद रूस की वैक्सीन स्पुतनिक वी को भी आपात इस्तेमाल के तहत स्वीकृति दे दी गई। बाद में अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना और फिर जॉनसन एंड जानसन की वैक्सीन को मंजूदी दी गई। 

ज़ायडस कैडिला कंपनी ने कहा है कि उसकी वैक्सीन ZyCoV-D की 10 से 12 करोड़ खुराक सालाना बनाने की योजना है। उसने वैक्सीन का स्टॉक करना शुरू भी कर दिया है। कैडिला हेल्थकेयर लिमिटेड के रूप में सूचीबद्ध जेनेरिक दवा निर्माता कंपनी ने 1 जुलाई को ZyCoV-D की मंजूरी के लिए आवेदन किया था। इसने कहा कि राष्ट्रव्यापी 28,000 से अधिक वोलिंटियर्स पर तीसरे चरण का परीक्षण किया और उसमें 66.6 प्रतिशत की प्रभावकारिता रही। 

जायडस कैडिला ने जैव प्रौद्योगिकी विभाग के साथ साझेदारी में इस टीके को विकसित किया है। 

इसके अलावा भारत बायोटेक की कोवैक्सीन का भी बच्‍चों पर ट्रायल चल रहा है। 
12 से 17 साल के बच्चों के लिए टीके के ट्रायल के लिए जॉनसन एंड जॉनसन ने भी भारत में इजाज़त मांगी है।

कंपनी ने बीते मंगलवार को मंजूरी के लिए सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन को आवेदन भेजा था। सरकार ने पहले ही वयस्कों के लिए जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज वैक्सीन जैनसन को आपात इस्तेमाल को मंजूरी दे चुकी है। 

zydus cadila covid vaccine gets emergency use authorisation   - Satya Hindi

इन मंजूरियों के बाद वैक्सीन की कमी की समस्या दूर होने की उम्मीद है। हालाँकि अब एक बड़ी चिंता की वजह यह है कि कोरोना के ख़िलाफ़ जिन वैक्सीन को 'राम-बाण' इलाज माना जा रहा है वह वैक्सीन दरअसल कमजोर पड़ती दिख रही है। देश में ऐसे 87 हज़ार कोरोना पॉजिटिव मामले आए हैं जिन्हें कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक लगाई गई थी। चेन्नई में किए गए इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च यानी आईसीएमआर के एक अध्ययन में पाया गया है कि डेल्टा वैरिएंट में दोनों खुराक लगवाए लोगों को भी संक्रमित करने की क्षमता है। हालाँकि इसमें कहा गया है कि टीका लगाए लोगों में मृत्यु दर कम होती है। इंग्लैंड के एक शोध में भी कहा गया है कि वैक्सीन की दोनों खुराक लगवाए लोगों को डेल्टा वैरिएंट संक्रमित कर रहा है। 

देश से और ख़बरें

इन परिणामों से उस आशंका को और बल मिलता है जिसमें कहा गया है कि हर्ड इम्युनिटी यानी झुंड प्रतिरक्षा आना मुश्किल लगता है। 

हर्ड इम्युनिटी यानी झुंड प्रतिरक्षा का सीधा मतलब यह है कि कोरोना संक्रमण से लड़ने की क्षमता इतने लोगों में हो जाना कि फिर वायरस को फैलने का मौक़ा ही नहीं मिले। यह हर्ड इम्युनिटी या तो कोरोना से ठीक हुए लोगों या फिर वैक्सीन के बाद शरीर में बनी एंटीबॉडी से आती है। शुरुआत में कहा जा रहा था कि यदि किसी क्षेत्र में 70-80 फ़ीसदी लोगों में कोरोना से लड़ने वाली एंटीबॉडी बन जाएगी तो हर्ड इम्युनिटी की स्थिति आ जाएगी।

लेकिन अब कोरोना से ठीक हुए लोगों और वैक्सीन की दोनों खुराक लिए हुए लोगों में भी संक्रमण के मामले आने के बाद इस पर सवाल उठने लगे हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें