loader

शेयर बाज़ार में भूचाल, 10 साल की सबसे बड़ी तेज़ी, सेंसेक्स उछला 2,250 अंक

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को बदहाल अर्थव्यवस्था को सहारा देने के लिए कॉरपोरेट टैक्स में कटौती का एलान किया, जिससे शेयर बाज़ार को ज़बरदस्त बल मिला। घोषणा होते ही शेयर बाज़ार में खुशी की लहर दौड़ गई और तमाम स्टॉक एक्सचेंज में यकायक तेजी देखने को मिली। इस तेजी का आलम यह था कि बीच में थोड़ी भी रुकावट नहीं आई और तमाम सूचकांक लगातार बढ़ते ही गए। कारोबार बंद होते समय हल्की गिरावट आई। लेकिन फिर भी यह कल की तुलना में बहुत ऊँचाई पर था। बंबई स्टॉक एक्सचेंज का संवेदनशील सूचकाक यानी सेंसेक्स 2,250 अंक की बढ़त तक गया, कारोबार बंद होते समय यह मामूली गिरा।  
Sensex surges 2,250 points, Nifty moves ahead 1200 points - Satya Hindi
bse.com
कारोबार बंद होते समय सेंसेक्स 38,017.72 अंक पर था, यानी इसमें कुल मिला कर 1,924.25 अंकों की बढ़त थी। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के सूचकांक निफ़्टी ने भी 1100 अंकों की बढ़त हासिल की और 11,400 अंक की सीमा पार कर गया।
अर्थतंत्र से और खबरें
इस ज़बरदस्त तेज़ी की वजह यह है कि वित्त मंत्री ने कॉरपोरेट टैक्स में जिन रियायतों का एलान किया, उससे उद्योग जगत को लगभग 1.45 लाख करोड़ रुपए का सालाना फ़ायदा होगा। इस घोषणा से उपभोक्ता वस्तुओं से जुड़े उद्योगों को फ़ायदा होगा। जिन कंपनियों को सबसे ज़्यादा फ़ायदा होगा, उनमें प्रमुख हैं, आईटीसी, नेस्ले, एचडीएफ़सी बैंक, कॉलगेट-पामोलिव और आईसीआईसीआई। इसके अलावा सरकारी कंपनियों को भी लाभ होगा। 
Sensex surges 2,250 points, Nifty moves ahead 1200 points - Satya Hindi
जिन कंपनियों के शेयरों की कीमत में सबसे अधिक बढोतरी देखी गई है, वे हैं, मारुति सज़ुकी, एचडीएफ़सी बैंक, यस बैंक और लार्सन एंड टूब्रो। लेकिन ज़्यादातर कंपनियों के शेयरों की कीमतें ज़बरदस्त ढंग से बढ़ी। वित्त मंत्री की घोषणा के तुरन्त बाद शुरू हुई तेजी मजबूत होती गई और सेंसेक्स बढ़ता ही गया। सेंसेक्स में पहले 900 अंकों की तेजी देखी गई, फिर यह बढ़ता ही रहा और सेंसेक्स में 2,250 अंकों की बढ़त देखी गई। तेज़ी का हाल यह रहा कि बीएसई की 30 कंपनियों में से 25 कंपनियों में तेजी रही, सिर्फ़ 5 कंपनियों के शेयरों का कारोबार सुस्त रहा। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें