loader

धर्मांतरण विरोधी क़ानून पर प्रस्ताव के बाद से कर्नाटक में ईसाइयों पर हमले बढ़े

देश के अलग-अलग जगहों से अल्पसंख्यकों पर होने वाले हमलों की ख़बरों के बीच कर्नाटक से परेशान करने वाली खबरें आ रही हैं। एक अध्ययन में पाया गया है कि जब से कर्नाटक में धर्मांतरण विरोधी क़ानून बनाने की प्रक्रिया शुरू हुई है, वहाँ ईसाइयों पर हमले तेज़ हो गए हैं। 

युनाइटेड क्रिश्चियन फोरम, एसोसिएशन फ़ॉर प्रोटेक्शन ऑफ़ सिविल राइट्स (एपीसीआर) और युनाइटेड अगेन्स्ट हेट का कहना है कि भारत में अल्पसंख्यकों और उनके पूजा स्थलों पर होने वाले हमलों के मामले में कर्नाटक तीसरे स्थान पर है।

ये हमले बीते दिनों बढ़े हैं। इस साल शुरू के 272 दिनों में ईसाइयों पर 27 हमले हुए जबकि अक्टूबर से नवंबर के बीच तक पाँच हमले हो चुके हैं। 
ख़ास ख़बरें

हमले बढ़े

इस साल सितंबर तक युनाइटेड क्रिश्चियन फोरम के हेल्पलाइन पर 305 कॉल आ चुके हैं। ये ईसाइयों पर हुए हमलों से जुड़े कॉल थे। इन हमलों में 1,331 महिलाएं, 558 आदिवासी व 513 दलित घायल हुए। 

युनाइटेड क्रिश्चियन फोरम का कहना है कि इस साल ईसाइयों पर होने वाले हमले सबसे ज़्यादा 66 उत्तर प्रदेश में हुए। इसके अलावा छत्तीसगढ़ में 47 और कर्नाटक में 32 हमले हुए।
एपीसीआर के महासचिव मुहम्मद नियाज़ का कहना है कि जब से कर्नाटक में धर्मांतरण विरोधी विधेयक की प्रक्रिया शुरू हुई है, इस तरह के हमले तेज़ हो गए हैं। 
ये हमले उडुपी, बेलगावी, उत्तर कन्नड़, चित्रदुर्ग और बेंगलुरु में हुए हैं। इनमें हमला, तोड़फोड़, ग़लत आरोप लगाना, झूठमूठ में फंसाना और गिरफ़्तारी शामिल हैं।

'मानवता का त्याग'

कैथोलिक बिशप कौंसिल के कर्नाटक क्षेत्र के  अध्यक्ष रेवरेंड पीटर मचाडो ने कहा कि ऐसा लगता है कि प्रगतिशील राजनीतिक परंपरा और बेंगलुरु के आईटी हब होने के बावजूद कर्नाटक के लोगों ने मानवता का त्याग कर दिया है। 

बता दें कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई ने एलान कर रखा है कि सरकार अगले सत्र में धर्मांतरण पर रोक लगाने से जुड़ा विधेयक विधानसभा में पेश करेगी। यह सत्र 13 दिसंबर को शुरू हो रहा है।

rise in karnataka christians attack after anti conversion law proposal - Satya Hindi

प्रार्थना कक्ष में हमला

बीते दिनों एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसमें देखा जा सकता है कि कथित तौर पर बजरंग दल के कार्यकर्ता ईसाइयों के एक प्रार्थना कक्ष में ज़बरन घुस जाते हैं और वहाँ तोड़फोड़ करते हैं। यह कथित वारदात कर्नाटक के हासन ज़िले की है। 

वीडियो में देखा जा सकता है कि हासन ज़िले के बेलुड़ में बजरंग दल के कुछ लोग एक चर्च के प्रार्थना कक्ष में घुस कर लोगों को ज़बरन बाहर निकालते हैं और हुड़दंग करते हैं। वहाँ मौजूद महिलाओं से उनकी झड़प होती है। 

ट्रेन से उतारा

याद दिला दें कि इस साल 19 मार्च को बीजेपी और आरएसएस से जुड़े छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद यानी एबीवीपी के सदस्यों ने मध्य प्रदेश में चलती ट्रेन से चार ईसाई महिलाओं को ज़बरन उतरवा दिया था। उन पर धर्म परिवर्तन कराने का आरोप लगाया गया।

 केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन ने इस पर गहरी आपत्ति जताते हुए गृह मंत्री अमित शाह को कड़ी चिट्ठी लिखी थी। इस मामले में 9 लोगों को गिरफ़्तार किया गया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें