loader
कोरोना टीकाकरण (फ़ाइल फ़ोटो)

महाराष्ट्र में कोरोना फिर बेकाबू? अमरावती में शनिवार से लॉकडाउन

महाराष्ट्र में कोरोना की चिंताएँ फिर से काफ़ी ज़्यादा बढ़ गई हैं। इतनी ज़्यादा कि दो ज़िलों में नये सिरे से पाबंदियाँ लगाई गई हैं। अमरावती ज़िले में शनिवार शाम 8 बजे से सोमवार सुबह तक लॉकडाउन लगाने की घोषणा की गई है। यवतमाल ज़िले में भी पाबंदियाँ लगाई गई हैं। ऐसा तब हो रहा है जब राज्य में एक दिन में 5 हज़ार से भी ज़्यादा संक्रमण के मामले आए हैं। ऐसा 75 दिन बाद हुआ है कि एक दिन में इतने ज़्यादा संक्रमण के मामले आए हैं। राज्य में अब तक 20 लाख से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं और 51 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

महाराष्ट्र में पिछले क़रीब दो हफ़्ते से संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी देखी गई है। इसमें भी अमरावती और यवतमाल क्षेत्र में कुछ ज़्यादा ही। इसी कारण इन दोनों ज़िलों में फिर से पाबंदियाँ लगाई गई हैं। 

ताज़ा ख़बरें

अमरावती कलेक्टर शैलेश नवल ने लोगों से अपील की कि वे कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें। ज़िले में लॉकडाउन की घोषणा करते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना के मामलों में वृद्धि के कारण अमरावती ज़िले में एक दिन का लॉकडाउन शनिवार शाम 8 बजे से सोमवार सुबह 7 बजे तक किया जा रहा है। बाज़ार, स्वीमिंगपूल, इंडोर गेम्स बंद रहेंगे और धार्मिक कार्यक्रमों में पाँच से ज़्यादा लोगों को इकट्ठा नहीं होने दिया जाएगा।

यवतमाल में स्कूल और कॉलेज अब 28 फ़रवरी तक बंद रहेंगे। रेस्तराँ और फंक्शन हॉलों में क्षमता के 50 फ़ीसदी लोग ही जमा हो सकेंगे। बाहर सार्वजनिक जगहों पर पाँच से ज़्यादा लोगों के इकट्ठे होने की मनाही रहेगी। 

मुंबई में भी सख़्ती हुई

 इधर, मुंबई में बढ़ते कोरोना मामलों को देखते हुए बीएमसी ने आज 19 बिंदुओं के नये दिशा-निर्देश जारी किए हैं। नए नियमों के मुताबिक़ अब शादी-ब्याह जैसे कार्यक्रमों में कोरोना नियमों को तोड़ने वालों के ख़िलाफ़ अनुशासनात्मक और क़ानूनी कार्रवाई की जाएगी। 5 से ज़्यादा लोगों के एक जगह खड़े रहने को लेकर बीएमसी ने सख़्त पाबंदी लगा दी है।

लोकल ट्रेन में बिना मास्क यात्रा करने वालों के ख़िलाफ़ दंडात्मक कार्रवाई करने के लिए 300 मार्शल नियुक्त किए गए हैं। ये मार्शल बिना मास्क यात्रा करने वालों के ख़िलाफ़ तुरंत कार्रवाई करेंगे।

ये मार्शल सेंट्रल लाइन, वेस्टर्न लाइन और हार्बर लाइन तीनों रूट पर तैनात रहेंगे। मार्शल की संख्या और बढ़ाई जाएगी और इन्हें 25 हज़ार लोगों के ख़िलाफ़ प्रतिदिन कार्रवाई का लक्ष्य दिया जाएगा।

एयरपोर्ट पर ब्राज़ील से आने वाले मुसाफिरों को भी अब क्वारंटीन किया जाएगा। जिन बीएमसी वार्ड में कोविड मरीजों की संख्या बढ़ रही है उन वार्डों में टेस्टिंग और स्क्रीनिंग को बढ़ाया जाएगा। 

coronavirus in maharashtra resurges as lockdown in amravati announced - Satya Hindi

बिना लक्षण वाले मरीजों को होम क्वारंटीन करवाया जाएगा। बीएमसी के सभी वार्डों में वार रूम के ज़रिये वार्ड में रहने वाले नागरिकों पर निगरानी रखी जाएगी। सभी हाउसिंग सोसाइटियों को उनके बिल्डिंग में कोरोना मरीजों की जानकारी बीएमसी वार रूम से साझा करने के निर्देश हैं। जिन हाउसिंग सोसाइटी में 5 से ज़्यादा कोविड मरीज पाये जाएँगे उन सोसाइटी को सील करने के निर्देश दिये गए हैं।

मास्क नहीं पहनने पर सख़्ती

सभी सार्वजनिक जगहों पर मास्क पहनना अब अनिवार्य कर दिया गया है। मास्क न पहनने वालों पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश जारी किए गए हैं। बिना मास्क घूमने वालों के ख़िलाफ़ अब बीएमसी के साथ पुलिस को भी कार्रवाई करने के निर्देश दिये गए हैं। खेल के मैदान, गार्डेन में भी बिना मास्क घूमने या खेलने की इजाजत नहीं है। 

coronavirus in maharashtra resurges as lockdown in amravati announced - Satya Hindi

सार्वजनिक जगहों पर थूकने पर प्रतिबंध 

मुंबई में अब 2500 की जगह 4800 मार्शल सार्वजनिक जगहों पर कोरोना नियमों को तोड़ने वालों पर कार्रवाई करेंगे। मार्शल की संख्या और बढ़ाई जाएगी। धार्मिक स्थलों पर पुरुष मार्शल के साथ अब महिला मार्शल की नियुक्ति भी की जा रही है। सार्वजनिक जगहों पर थूकने पर प्रतिबंध लगाया गया है। मोबाइल टेस्टिंग वैन के ज़रिये इलाक़ों में लोगों की टेस्टिंग बढ़ाई जाएगी।

राज्य में संक्रमण के मामले आख़िर क्यों बढ़ रहे हैं? इसके लिए अलग-अलग कारण बताए जा रहे हैं। कुछ लोग तो मुंबई में लोकल ट्रेनों को फिर से चालू करने को कारण बता रहे हैं। लेकिन विदर्भ जैसे जिन क्षेत्रों में लोकल ट्रेनें नहीं चलतीं वहाँ भी मामले बढ़ रहे हैं।

जानकार कहते हैं कि हाल में ग्राम पंचायत चुनाव के कारण भी ऐसा हुआ होगा। पिछले एक साल से शादी समारोह नहीं हुए थे तो अब फिर से शादी समारोह शुरू हुए हैं और यह एक कारण हो सकता है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें