loader

मुंबई : ओवैसी ने धारा 144 का किया उल्लंघन, सैकड़ों की रैली

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल-मुसलिमीन (एआईएमआईएम) ने मुंबई में शनिवार की रात धारा 144 का उल्लंघन करते हुए एक बड़ी चुनावी सभा की, जिसमें सैकड़ों लोग मौजूद थे। पार्टी के नेता असदउद्दीन ओवैसी ने इसे संबोधित किया। 

बता दें कि कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट से बचाव के लिए प्रशासन ने दो दिनों के लिए पूरे मुंबई नगर निगम इलाक़े में धारा 144 लगा दी थी। प्रसाशन का कहना है कि इसका मक़सद सोशल डिस्टैंसिंग को लागू करना और इस तरह कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकना है। 

ओवैसी का आरोप

लेकिन एआईएमआईएम ने आरोप लगाया है कि महाविकास अघाडी सरकार ने स्थानीय चुनाव में प्रचार करने से पार्टी को रोकने के लिए यह बहाना बनाया और धारा 144 लागू कर दी। पार्टी ने आरोप लगाया कि महाराष्ट्र सरकार ने एआईएमआईएम को चांदीवली में तिरंगा रैली करने से रोकने के लिए यह कदम उठाया। 

ख़ास ख़बरें

पार्टी के नेता असदउद्दीन ओवैसी ने भारी भीड़ को संबोधित करते हुए कहा, "हमे रोकने के लिए कई तरह के प्रतिबंध लगाए गए हैं।"

उन्होंने प्रशासन को चुनौती देते हुए कहा, "मैं यह देखना चाहता हूँ कि जब राहुल गांधी कांग्रेस की रैली को संबोधित करने के लिए 28 दिसंबर को मुंबई आएंगे तो क्या ओमिक्रॉन वैरिएंट के संक्रमण को रोकने के लिए इस तरह का प्रतिबंध लगाया जाएगा।"

उन्होंने तंज करते हुए कहा,

कोई मजलिस या मुसलमानों को नापसंद कर सकता है, पर तिरंगा को कैसे नापसंद कर सकता है। मुंबई वह जगह है जहाँ मुसलमानों ने सबसे पहले भारत छोड़ो का नारा बुलंद किया था।


असदउद्दीन ओवैसी, नेता, एआईएमआईएम

मुसलिम आरक्षण

ओवैसी ने मुसलमानों के लिए नौकरियों व शिक्षा में आरक्षण की माँग उठाते हुए कहा कि राज्य के 83 प्रतिशत मुसलमान भूमिहीन है जबकि मराठों में भूमिहीनों की तादाद सिर्फ आठ प्रतिशत है।

उन्होंने यह भी कहा कि 67 प्रतिशत मुसलमान कच्चे घरों में रहते हैं। लेकिन न तो कांग्रेस न ही एनसीपी इस पर कुछ बोलती है। 

एनसीपी पर तंज

उन्होंने कहा कि जब एआईएमआईएम चुनाव लड़ती है तो कहा जाता है कि मुसलानों के वोट बंट जाएंगे, लेकिन जब ज़रूरत पड़ती है तो एनसीपी और कांग्रेस शिवसेना से हाथ मिला लेती है। 

मुंबई पुलिस के प्रवक्ता डीसीपी चैतन्य एस. ने धारा 144 का उल्लंघन किए जाने की पुष्टि करते हुए कहा कि इस मामले में एआईएमआईएम के ख़िलाफ़ एफ़आईआर अब तक दर्ज नहीं किया गया है। 

एनसीपी नेता व महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि हर किसी को रैली करने का राजनीतिक अधिकार है, पर महामारी के समय लोगों को इसका ध्यान रखना चाहिए। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें