loader

मलिक के 'हाइड्रोजन बम' के बाद फडणवीस को 'विद्वान से सीख' मिली!

नवाब मलिक और देवेंद्र फडणवीस के बीच शुरू हुई 'बमबारी' अब 'विद्वान की सीख' तक पहुँच गई है! दरअसल, नवाब मलिक के आज के 'हाइड्रोजन बम' की प्रतिक्रिया में फडणवीस ने यह जताने की कोशिश की है कि वह आरोप-प्रत्यारोप की उस 'गंदगी' में नहीं कूदना चाहते हैं। हालाँकि उन्होंने यह नहीं लिखा कि वह किस संदर्भ में यह बात कर रहे हैं, लेकिन यह अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है कि उन्होंने यह क्यों लिखा है।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने ट्विटर पर एक पोस्ट में इतना ही लिखा, 'थॉट ऑफ द डे'। इसके साथ उन्होंने एक कथन भी साझा किया। वह कथन प्रसिद्ध आयरिश नाटककार जॉर्ज बर्नार्ड शॉ का है। उसका मोटा-मोटा हिंदी अनुवाद है- "मैंने बहुत पहले ही सीख लिया था कि सुअर के साथ कभी कुश्ती नहीं करनी चाहिए। आप गंदे हो जाते हैं और इसके अलावा सुअर इसे पसंद करता है।"

उनका यह ट्वीट आज तब आया है जब आज ही महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने फडणवीस द्वारा पहले लगाए गए आरोपों के जवाब में कई गंभीर आरोप लगाए हैं। मलिक ने कहा है कि मुख्यमंत्री रहते हुए देवेंद्र फडणवीस महाराष्ट्र में जाली नोटों का कारोबार कर रहे थे, उनके ही संरक्षण में पाकिस्तान और बांग्लादेश तक यह कारोबार हो रहा था। 

मलिक ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक फोटो जारी की और आरोप लगाया कि देवेंद्र फडणवीस दूसरों पर अंडरवर्ल्ड के लोगों से संबंध रखने का आरोप लगाते हैं, लेकिन खुद उन्होंने अंडरवर्ल्ड से कनेक्शन रखने वाले लोगों को राजनीतिक पद दिए।

एनसीपी नेता ने आरोप लगाया कि फडणवीस ने मुन्ना यादव नाम के एक व्यक्ति को कंस्ट्रक्शन बोर्ड का अध्यक्ष बनाया। जबकि उस पर हत्या के कई मामले दर्ज थे। मलिक के मुताबिक़, फडणवीस दाऊद के करीबी रियाज भाटी के जरिए धन उगाही का काम कर रहे थे। मलिक ने यह भी आरोप लगाया कि फडणवीस की सरकार में बेगुनाह लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करके वसूली की जाती थी, जमीन मालिकों को पकड़कर लाया जाता था और उनसे जमीनें अपने नाम पर लिखवाई जाती थीं।

ताज़ा ख़बरें

मलिक ने यह भी आरोप लगाया कि, “यह साफ है कि फडणवीस का वानखेड़े को संरक्षण पिछले काफी समय से था, इसलिए फडणवीस अब उन्हें बचाने में लगे हुए हैं।” बता दें कि जिस समय जाली नोटों का मामला सामने आया था, उस समय समीर वानखेड़े डीआरआई में थे।

वैसे, सोशल मीडिया पर लोग देवेंद्र फडणवीस और नवाब मलिक के बीच आरोपों-प्रत्यारोपों को चार ट्वीट को जोड़कर बनाए गए एक तसवीर से तंज भी कस रहे हैं।

उस तसवीर में शामिल एक नवंबर के एक ट्वीट में फडणवीस ने कहा था कि वह दिवाली के बाद बम फोड़ेंगे और नवाब मलिक को एक्सपोज करेंगे। 9 नवंबर का एएनआई का एक ट्वीट है जिसमें नवाब मलिक ने कहा था कि वह बुधवार को हाइड्रोजन बम फोड़ेंगे। तीसरे ट्वीट में एक ख़बर है जिसका शीर्षक है कि मलिक ने आरोप लगाया है कि फडणवीस ने जाली नोट रैकेट चलाया। और चौथा ट्वीट फडणवीस का है जिसमें उन्होंने आज जॉर्ज बर्नार्ड शॉ के कथन को उद्धृत किया है।

महाराष्ट्र से और ख़बरें

बता दें कि एक दिन पहले यानी मंगलवार को फडणवीस ने नवाब मलिक पर अंडरवर्ल्ड के लोगों से ज़मीन ख़रीदने और बिक्री का आरोप लगाया था। फडणवीस का कहना था कि नवाब मलिक की सॉलीडस कंपनी ने, जिसमें उनके परिवार के लोग भी डायरेक्टर हैं, 1993 मुंबई बम धमाकों में अभियुक्त रहे सरदार शहा वली खान से काफी कम दामों में जमीन खरीदी थी। उन्होंने आरोप लगाया था कि अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की बहन हसीना पारकर के ड्राइवर सलीम पटेल से भी नवाब मलिक ने जमीन की डील की थी। सरदार शहा वली खान ने 1993 बम धमाकों के अभियुक्त रहे टाइगर मेमन के साथ मिलकर गाड़ियों में आरडीएक्स भरा था और कई जगहों की रेकी की थी। फिलहाल वह जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है।

दोनों नेताओं के बीच यह विवाद तब शुरू हुआ जब एनसीबी ने पिछले महीने की 2 तारीख़ को फ़िल्म अभिनेता शाहरूख खान के बेटे आर्यन खान को ड्रग्स मामले में गिरफ्तार किया था। उसी के बाद नवाब मलिक एनसीबी को घेरने में जुट गए थे। मलिक तब से हर रोज एनसीबी पर निशाना साधते हुए कई नए-नए खुलासे कर रहे हैं। इसी दौरान उन्होंने फडणवीस को भी निशाने पर ले लिया और कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री के संबंध ड्रग पेडलर से रहे हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें