loader

राणे के ख़िलाफ़ शिव सैनिकों का प्रदर्शन, बीजेपी दफ़्तर में पथराव

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के ख़िलाफ़ केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के बयान को लेकर महाराष्ट्र की सियासत में बवाल हो गया है। शिव सेना के कार्यकर्ताओं ने राणे के घर के बाहर प्रदर्शन किया है। नासिक में स्थित बीजेपी के दफ़्तर में पथराव हुआ है और इसका आरोप शिव सेना के कार्यकर्ताओं पर आरोप लगा है। राणे के ख़िलाफ़ महाराष्ट्र के अलग-अलग इलाक़ों में तीन एफ़आईआर दर्ज हो चुकी हैं। 

पुलिस ने दोपहर बाद नारायण राणे को गिरफ़्तार कर लिया। महाराष्ट्र में दो दशक से ज़्यादा वक़्त तक साथ रहे बीजेपी और शिव सेना के रिश्ते 2019 में महा विकास आघाडी सरकार बनने के बाद से ही ख़राब चल रहे हैं। 

क्या कहा था राणे ने?

राणे ने कहा था, “स्वतंत्रता दिवस वाले दिन महाड़ में दिए गए भाषण में मुख्यमंत्री ठाकरे ने पीछे मुड़कर किसी से पूछा था कि हमारे देश को आज़ाद हुए  कितने साल हो गए हैं, अगर मैं उस वक़्त वहां होता तो उनके कान के नीचे जोरदार थप्पड़ मारता।” राणे ने यह बयान जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान दिया था। 

ताज़ा ख़बरें

बड़े क़द के नेता हैं राणे 

नारायण राणे का महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा क़द है। शिव सेना के संस्थापक बाला साहेब ठाकरे के साथ अपना राजनीतिक करियर शुरू करने वाले राणे शिव सेना से होते हुए कांग्रेस और फिर बीजेपी में पहुंचे हैं। वह महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रहे हैं। राणे के सियासी क़द का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि मोदी कैबिनेट के हालिया विस्तार में उन्हें 1 नंबर पर शपथ दिलाई गई थी। 

जन आशीर्वाद यात्रा पर रार

बीजेपी के नए मंत्रियों द्वारा निकाली जा रही जन आशीर्वाद यात्रा को लेकर भी उद्धव ठाकरे सरकार काफी सख़्त दिखी थी। विशेषकर नारायण राणे के द्वारा मुंबई में निकाली जा गई इस यात्रा पर मुंबई पुलिस ने 36 एफ़आईआर दर्ज कर दी थीं। मुंबई पुलिस ने बगैर मंजूरी के यात्रा निकालने, कोरोना प्रोटोकॉल के उल्लंघन की शिकायत को लेकर एफ़आईआर दर्ज की थीं। 

FIRs against Narayan Rane comments on Uddhav Thackeray - Satya Hindi

तब बीजेपी ने आरोप लगाया था कि मुंबई पुलिस राज्य सरकार और शिव सेना के बड़े मंत्रियों के दबाव में ये एफ़आईआर दर्ज कर रही है।

इधर, शिव सेना सांसद विनायक राउत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर मांग की है कि वह नारायण राणे को अपनी कैबिनेट से हटाएं। 

नितेश राणे ने चेताया था

नारायण राणे के बेटे और महाराष्ट्र के विधायक नितेश राणे ने उनके घर के बाहर प्रदर्शन करने की ख़बरों पर शिव सेना को चेताया था। राणे ने कहा था, “सुना है कि शिव सेना की युवा सेना के कुछ सदस्य उनके जूहू स्थित घर के बाहर इकट्ठा होने जा रहे हैं या तो मुंबई पुलिस उन्हें रोक ले या फिर जो कुछ भी होगा, उसके लिए हम जिम्मेदार नहीं होंगे।” 

लेकिन इसके बाद भी युवा सेना के कार्यकर्ताओं ने राणे के घर के बाहर प्रदर्शन किया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें