loader
रुझान / नतीजे चुनाव 2023

दिल्ली नगर निगम चुनाव 2022 0 / 250

बीजेपी
0
आप
0
कांग्रेस
0
अन्य
0

विधान परिषद: कोश्यारी क्यों नहीं कर रहे नियुक्तियां- बॉम्बे हाई कोर्ट

बॉम्बे हाई कोर्ट ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से पूछा है कि वे राज्य विधान परिषद के 12 सदस्यों के नामांकन पर फैसला कब करेंगे। राज्य सरकार के मंत्रिमंडल ने नवम्बर 2020 में इन 12 सदस्यों के नामों की सूची सर्वसम्मति से पारित कर राज्यपाल को भेज दी थी, लेकिन उस पर राज्यपाल द्वारा अब तक कोई निर्णय नहीं किया गया। सत्ताधारी गठबंधन के नेताओं और सरकार की तरफ से कई बार राज्यपाल से इन नियुक्तियों के बारे में पूछा भी गया लेकिन आज तक कोई फैसला नहीं हो सका। 

हाई कोर्ट ने राज्यपाल के सचिव से सवाल किया कि आखिर कब निर्णय होगा। अदालत ने इस मामले में दो सप्ताह में जवाब पेश करने का आदेश दिया है। हाई कोर्ट का यह निर्णय राज्यपाल के कामकाज पर एक सवाल के रूप में देखा जा रहा है। 

दरअसल, अब यह चर्चा आम हो चली है कि क्या गैर-बीजेपी सरकार वाले प्रदेशों में राज्यपाल सरकार के लिए अड़चनें निर्माण करने का ही काम करते हैं या जिस राजनीतिक दल से वे चुनकर आते हैं उसके इशारों पर सरकारी निर्णय करते हैं?

राज्यपालों का राजनीतिक एजेंडा

हमारे देश में पिछले कुछ वर्षों से राज्यपालों द्वारा जिस प्रकार के निर्णय किये जा रहे हैं, उन्हें देखकर तो यही लगता है कि वे राजनीतिक एजेंडे को ही ज्यादा चलाते हैं और राजभवन को राजनीति का अखाड़ा बनाये रखते हैं। 

ताज़ा ख़बरें
सरकारों को बहुमत सिद्ध करने या दल बदल के खेल में तो राज्यपालों की भूमिका का पक्षपाती रंग सबने खुले तौर पर देखा है। उनके इन क्रियाकलापों पर हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट ने अनेकों बार सवाल भी उठाये हैं। महाराष्ट्र में महाविकास आघाडी की सरकार के गठन की प्रक्रिया में सरकार बनाने के लिए न्यौता दिए जाने, राष्ट्रपति शासन लगा देने, रातों रात उसे हटाकर अँधेरे में ही देवेंद्र फडणवीस को फिर से मुख्यमंत्री पद की शपथ दिला देने, ऐसे अनेक मामले हैं जब राज्यपाल की भूमिका सवालों के घेरे में आयी। 
महाराष्ट्र के राजभवन में होने वाली गतिविधियों को लेकर नेताओं ने आरोप-प्रत्यारोप भी लगाए। लेकिन उन सबके बाद विधान परिषद के सदस्यों की नियुक्ति के इस मामले में भी यही आरोप लगते रहे हैं कि राज्यपाल अपनी पार्टी के हाईकमान के इशारे पर काम कर रहे हैं।

सात महीने बाद भी फैसला नहीं

राज्यपाल को राज्य सरकार की तरफ से विधान परिषद के 12 सदस्यों के नाम की सूची 6 नवंबर 2020 को भेजी गयी थी लेकिन उन्होंने आज तक उस पर कोई निर्णय नहीं किया। इस संबंध में नासिक के रतन सोली ने हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर की है। न्यायाधीश शाहरुख काथावाला और न्यायाधीश सुरेंद्र तावडे की खंडपीठ इसकी सुनवाई कर रही है। मामले की अगली सुनवाई 9 जून, 2021 को होनी है। इस मामले में सरकार के अनेक मंत्रियों के बयान बार-बार आते रहे हैं। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

भ्रम की स्थिति 

नाना पटोले ने विधानसभा अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा देने के बाद इस बारे में महत्वपूर्ण बातें कहीं थी। उन्होंने कहा था कि राज्यपाल द्वारा इन नामों की घोषणा नहीं किये जाने से प्रदेश में संवैधानिक संकट निर्माण हुआ है। उन्होंने कहा था कि विधि मंडल की समितियां भले ही सरकार ने बना रखी हैं लेकिन उनमें नामांकित होने वाले विधान परिषद के सदस्यों के स्थान खाली पड़े हुए हैं जिससे भ्रम की स्थिति बनी हुई है। 

Legislative Council of maharashtra 12 members appointment - Satya Hindi

राज्यपाल की भूमिका पर सवाल

पटोले ने कहा था कि इन समितियों के काम को संवैधानिक कहा जाए या कि असंवैधानिक यह सवाल खड़ा हो गया है। पटोले के इन आरोपों के जवाब के बदले उलटे राज्यपाल ने सरकार को  एक पत्र लिखकर पूछा कि विधानसभा अध्यक्ष पद के चुनाव कब होने वाले हैं। ऐसे में हाई कोर्ट का यह आदेश महत्वपूर्ण माना जा रहा है। लेकिन एक सवाल तो खड़ा ही होता है कि क्या राज्यपाल अब राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों की तरह ही काम करेंगे?

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें