loader

दिल्ली नगर निगम चुनाव 2022 0 / 250

BJP
0
AAP
0
CONG
0
OTH
0

रिया और शौविक चक्रवर्ती की न्यायिक हिरासत 20 अक्टूबर तक बढ़ाई गई

ड्रग्स मामले में गिरफ्तार अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती की न्यायिक हिरासत 14 दिनों के लिए यानी 20 अक्टूबर तक बढ़ा दी गई है। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी ने 8 सितंबर को रिया और शौविक को गिरफ्तार किया था और मुंबई के भायखला जेल में दोनों बंद हैं। सुशांत सिंह राजपूत केस में ड्रग्स एंगल मिलने पर एनसीबी ने जाँच शुरू की थी और इसी मामले में रिया और उनके भाई शौविक का नाम सामने आया था। इनके अलावा सुशांत के हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा को भी गिरफ्तार किया गया था। 

सुनवाई के दौरान एनसीबी ने रिया और शौविक चक्रवर्ती की ज़मानत का विरोध किया और कहा है कि दोनों लोग ड्रग्स सिंडिकेट के सक्रिय सदस्य हैं। इन पर धारा 27ए लगाई गई है और इसलिए उन्हें जमानत नहीं मिलनी चाहिए। बता दें कि रिया चक्रवर्ती पर ड्रग्स खरीदने का आरोप है।

ताज़ा ख़बरें

इसके साथ ही शनिवार को दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की हत्या की बात को एम्स की रिपोर्ट ने सरासर खारिज किया और इसे आत्महत्या का मामला बताया था। इसके बाद से ही अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती को रिहा करने की माँग की जा रही थी और आज अभिनेत्री की हिरासत बढ़ाये जाने के बाद फिर से लोगों ने रिया को रिहा करने की माँग की है। 

बॉलीवुड से जुड़ी रहीं लेखिका कनिका ढिल्लों ने लिखा,
‘अब जब साज़िश की थ्योरी को खारिज किया जा रहा है, रिया चक्रवर्ती अब भी जेल में हैं। सीबीआई साफ़ कह चुकी है कि इसमें कोई गड़बड़ नज़र नहीं आती है, आख़िर कब तक और किन आरोपों में उसे जेल में रखा जाएगा और जमानत देने से इनकार किया जाता रहेगा? राष्ट्रीय महिला आयोग क्या कोई इसका जवाब दे सकता है, प्लीज?’
वीडियो में देखिए, क्या रिया को फँसाया गया है?

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने रिया को रिहा करने की माँग करते हुए लिखा था,

‘अब बीजेपी का दुष्प्रचार तंत्र एम्स की फॉरेंसिक टीम पर आरोप लगा सकता है, जिसने सुशांत सिंह राजपूत की हत्या की साज़िश रिया द्वारा रचे जाने के आरोप को अमान्य ठहरा दिया है। हम सभी सुशांत जी की मृत्यु से दुखी हैं लेकिन एक महिला को आरोपी के रूप में फँसा कर उन्हें (सुशांत को) सम्मानित नहीं किया जा सकता। मैंने पहले ही कहा है कि रिया चक्रवर्ती एक बेकसूर महिला हैं, उन्हें और अधिक प्रताड़ित किये बगैर रिहा किया जाना चाहिए, वह राजनीतिक साज़िश का शिकार हुई हैं।’

महाराष्ट्र से और ख़बरें
बता दें कि 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत अपने घर में फंदे पर लटके हुए पाए गये थे और इस केस में जाँच शुरू हो गई थी। सुशांत के परिवार और उनके समर्थकों ने इस केस में सीबीआई जाँच की माँग की थी और सीबीआई ने अपनी जाँच शुरू भी कर दी थी। हत्या और आत्महत्या केस की जाँच से शुरू हुए इस केस में ड्रग्स एंगल भी सामने आया। इसके बाद नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने भी इस केस में अपनी जाँच शुरू की। ड्रग्स मामले में शुरू हुई एनसीबी की जाँच में पहले सुशांत की गर्लफ्रेंड और अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शौविक चक्रवर्ती और हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा की गिरफ्तारी हुई।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें