loader

शिवसेना :  पंकजा मुंडे का राजनीतिक कैरियर ख़त्म करने की कोशिश

शिवसेना ने मोदी कैबिनेट विस्तार 2021 पर सवाल उठाते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री ने भागवत कराड को मंत्री बना कर पंकजा मुंडे का राजनीतिक कैरियर ख़त्म करने की साजिश की है। 

पंकजा मुंडे महाराष्ट्र बीजेपी की महत्वपूर्ण नेता हैं, वे महाराष्ट्र के पूर्व उपमुख्यमंत्री गोपीनाथ मुंडे की बेटी और प्रमोद महाजन की भांजी हैं। 

पहले यह अनुमान लगाया जा रहा था कि मोदी कैबिनेट फेरबदल 2021 में  पंकजा मुंडे या उनकी बहन प्रीतम मुंडे को मंत्री बनाया जा सकता है, पर पेशे से डॉक्टर भागवत कराड को राज्य वित्त मंत्री बनाए जाने से सबलोग चौंक गए। 

ख़ास ख़बरें

क्या कहना है शिवसेना का?

शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में छपे एक लेख में कहा गया है, ‘कराड को राज्य मंत्री बनाया गया। पंकजा मुंडे के राजनीतिक कैरियर को ख़त्म करने के मक़सद से ऐसा किया गया है। कराड गोपीनाथ मुंडे की छत्रछाया में राजनीति करते रहे, पर कैबिनेट विस्तार में पंकजा या प्रीतम मुंडे की जगह उन्हें मंत्री बनाया गया।’ 

‘सामना’के लेख में कहा गया है, ‘इस पर सवाल उठ रहा है कि क्या यह वंजारा समुदाय जिसके मुंडे और कराड हैं, उसे बाँटने और पकंजा मुंडे को सबक सिखाने के लिए ऐसा किया जा रहा है।’

'कटे पर नमक'

‘सामना’ का यह भी कहना है कि भारती पवार और कपिल पाटिल को मंत्री बना कर महाराष्ट्र बीजेपी के वफ़ादारों के कटे पर नमक छिड़का गया है। 

शिवसेना के इस मुखपत्र में कहा गया है, ‘भारती पवार और कपिल पाटिल कुछ दिन पहले ही एनसीपी छोड़ कर बीजेपी में शामिल हुए हैं। यह बीजेपी के वफ़ादारों के लिए ज़ोर का झटका है।’ 

शिवसेना ने नारायण राणे के मंत्री बनाए जाने पर भी चुटकी ली है। राणे पहले शिवसेना व कांग्रेस में थे, वहां से वे बीजेपी गए। 

Shiv sena : pankaja munde’ politics to end after modi cabinet expansion 2021  - Satya Hindi
शपथ ग्रहण के बाद प्रधानमंत्री के साथ नारायण राणे

'बदल गई बीजपी'

राणे को एमएसएमई यानी सूक्ष्म, लघु व मझोले उद्योगों के विभाग का मंत्री बनाया गया है। ‘सामना’ ने कहा है कि ‘देश की आर्थिक स्थिति चौपट हो चुकी है, ऐसे में नारायण राणे क्या करते हैं, इस पर सबकी नज़र रहोगी।’ ‘सामना’ ने मोदी कैबिनेट फेरबदल 2021 पर चुटकी लेते हुए कहा है कि,

बीजेपी पूरी तरह बदल गई है, अब यह पहले जैसी पार्टी नहीं रही। यह कैबिनेट को देखने से ही पता चलता है। वाजपेयी के जमाने के सिर्फ दो लोग कैबिनेट में हैं-राजनाथ सिंह और मुख़्तार अब्बास नक़वी।


'सामना' में छपे एक लेख का एक अंश

अख़बार का कहना है कि ‘नए चेहरों में ज़्यादातर वैसे लोग हैं, जो कांग्रेस या दूसरी पार्टियों से आए हुए हैं। ऐसा लगता नहीं है कि यह एनडीए की सरकार है।’ 

बता दें कि बुधवार को मोदी कैबिनेट 2.0 का पहला विस्तार हुआ। इस विस्तार में 43 मंत्रियों को शपथ दिलाई गई। इनमें 15 कैबिनेट और 28 राज्यमंत्री शामिल हैं। कैबिनेट विस्तार के लिए शपथ ग्रहण का कार्यक्रम राष्ट्रपति भवन के दरबार हाल में हुआ। 

दलित-ओबीसी, महिलाओं को जगह

मोदी मंत्रिमंडल में समाज के सभी वर्गों को जगह देने की कोशिश की गई है। नए मंत्रिमंडल में महिलाओं, ओबीसी, युवा चेहरों के साथ ही प्रोफ़ेशनल्स को भी जगह मिली है। मंत्रिमंडल में अब ओबीसी और दलित समुदाय की हिस्सेदारी बढ़ी है। 

मंत्रिमंडल में ओबीसी समुदाय के 27 मंत्री हैं और इनमें से 5 कैबिनेट मंत्री हैं। इसके अलावा दलित समुदाय से 12 मंत्री हैं जबकि आदिवासी समुदाय से 8 लोगों को मंत्री बनाया गया है। धार्मिक अल्पसंख्यकों को भी भागीदारी मिली है और तीन लोगों को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है।  

जबकि 29 मंत्री ऐसे हैं जो ब्राह्मण, क्षत्रिय, बनिया, भूमिहार, कायस्थ, लिंगायत, खत्री, कडुवा व लेउआ पटेल आदि समुदायों से संबंध रखते हैं। मंत्रिमंडल में 9 राज्यों से कुल 11 महिलाओं को जगह दी गई है और इनमें से दो को कैबिनेट मंत्री का दर्ज़ा दिया गया है। 

मोदी कैबिनेट विस्तार 2021 में क्या हुआ, किसे क्या मिला और क्यों? समझिए वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष के इस वीडियो से। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें