loader

कांग्रेस G23 गुट: वरिष्ठ नेताओं ने चेताया- लक्ष्मण रेखा न लांघें 

कांग्रेस आलाकमान से असंतुष्ट चल रहे G23 गुट के नेताओं को लेकर पार्टी के भीतर बहस जारी है। कांग्रेस के चार बड़े नेताओं ने बयानबाज़ी कर रहे इन नेताओं को चेताया है कि वे सीमाओं को न लांघें। बंगाल चुनाव में इंडियन सेक्युलर फ़्रंट (आईएसएफ़) को कांग्रेस-लेफ़्ट फ्रंट के गठबंधन में शामिल करने को लेकर G23 गुट के नेता आनंद शर्मा और बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी के बीच जोरदार बहस हो चुकी है। 

ये चारों बड़े नेता उन नेताओं में भी शामिल हैं, जिन्होंने पिछले साल कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी थी। ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़ इन नेताओं ने कहा है कि वे इस चिट्ठी में जो कुछ लिखा गया था, उस पर कायम हैं लेकिन वह G23 के कुछ नेताओं की हालिया बयानबाज़ियों और कामों से ख़ुद को अलग करते हैं।  

ताज़ा ख़बरें
इन चार नेताओं में से राज्यसभा के पूर्व उप सभापति पीजे कुरियन भी हैं। कुरियन ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा कि वह कांग्रेस में सुधार की कोशिशों के ख़िलाफ़ नहीं हैं और सुधार की बहुत ज़रूरत भी है लेकिन लक्ष्मण रेखा को नहीं लांघा जाना चाहिए। 
बीते दिनों जम्मू में हुए शांति सम्मेलन में G23 गुट के नेताओं ने इशारों-इशारों में कांग्रेस आलाकमान पर हमला बोला था।

कुरियन ने कहा, “इन नेताओं के काम कांग्रेस को मजबूत करने की दिशा में सही क़दम हैं लेकिन इससे ऐसा नहीं लगना चाहिए कि वे कांग्रेस से असंतुष्ट हैं। मुझे जम्मू के कार्यक्रम के बारे में ज़्यादा जानकारी नहीं है और जब पूरी जानकारी मिल जाएगी तभी मैं इस बारे में कह पाऊंगा कि क्या ये पार्टी के ख़िलाफ़ असंतोष था या इसे मज़बूत करने वाला क़दम।” 

पार्टी में कोई ग्रुप नहीं 

पूर्व लोकसभा सांसद संदीप दीक्षित ने कहा, “पार्टी में कोई ग्रुप नहीं है, यह कुछ लोगों का समूह है जिसने अपनी राय रखी है। हम उनकी राय के साथ हैं। इनमें से कुछ लोग या कुछ अन्य लोग कुछ करते हैं तो ये उनका अपना मामला है।” दिल्ली से दो बार सांसद रहे दीक्षित ने कहा कि उन्हें ऐसा नहीं लगता कि आज़ाद ने मोदी की तारीफ़ की है और अच्छा यह होगा कि इस बात को उनसे ही पूछा जाए। 

कांग्रेस के ताज़ा हालात पर देखिए चर्चा- 

सोनिया की क़यादत पर भरोसा

इन नेताओं में से एक और वरिष्ठ नेता अजय सिंह ने कहा, “जिस पत्र पर उन लोगों ने दस्तख़त किए थे, वह पार्टी के आंतरिक लोकतंत्र के लिए था और मैं उस बात के साथ आज भी खड़ा हूं...बाक़ी जो बातें हैं वे दूसरे नेताओं की निजी राय है।” मध्य प्रदेश से आने वाले अजय सिंह ने कहा कि उन्हें सोनिया गांधी की क़यादत पर पूरा भरोसा है और यही उन लोगों ने पत्र में भी लिखा था। 

चर्चा का सही वक़्त नहीं

पूर्व केंद्रीय मंत्री वीरप्पा मोइली ने कहा कि G23 कोई संस्था नहीं है और ऐसे वक़्त में जब पांच राज्यों के चुनाव हो रहे हैं, पार्टी से जुड़े किसी मसले पर चर्चा करने का यह सही समय नहीं है। उन्होंने कहा कि वह किसी भी असंतुष्ट समूह का हिस्सा बनना नहीं चाहते और इसीलिए उन्होंने पहले ही ख़ुद को इससे अलग कर लिया है। 

राजनीति से और ख़बरें

आज़ाद का पुतला फूंका 

G23 गुट के नेताओं में शामिल ग़ुलाम नबी आज़ाद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ़ की थी और इसे लेकर कांग्रेस में प्रतिक्रिया हुई थी। 

मंगलवार को जम्मू में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने ग़ुलाम नबी आज़ाद के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया, जमकर नारेबाज़ी की और उनका पुतला फूंका। आक्रोशित कार्यकर्ताओं ने कहा था कि आज़ाद को कांग्रेस ने सब कुछ दिया लेकिन आज जब कांग्रेस को उनकी ज़रूरत है तो वे जम्मू में कांग्रेस को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं। G23 गुट में आनंद शर्मा, कपिल सिब्बल, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, मनीष तिवारी से लेकर कई अनुभवी नेता शामिल हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें