loader

अमरिंदर के बाद सांसद परनीत कौर भी छोड़ेंगी कांग्रेस, दिए ठोस संकेत

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की पत्नी और पटियाला सीट से सांसद परनीत कौर ने कांग्रेस को अलविदा कहने के साफ संकेत दे दिए हैं। उन्होंने ट्विटर पर अपनी प्रोफ़ाइल तसवीर में कैप्टन फ़ॉर 2022 की फ़ोटो लगा ली है। उन्होंने अपने ट्विटर बायो से कांग्रेस शब्द भी हटा लिया है। इससे साफ है कि वह अब कांग्रेस के साथ नहीं हैं। 

इधर, अमरिंदर सिंह सोमवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मिले और कहा कि बीजेपी के साथ उनका गठबंधन पंजाब में सरकार बनाएगा। पंजाब में तीन महीने के भीतर विधानसभा के चुनाव होने हैं।

पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश चौधरी ने कुछ दिन पहले ही परनीत कौर को नोटिस भेजा था। चौधरी ने नोटिस में लिखा था कि उन्हें परनीत कौर के लगातार पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने की जानकारी मिल रही है। 

ताज़ा ख़बरें

प्रभारी ने जवाब देने के लिए उन्हें सात दिन का वक़्त दिया था और कहा था कि अगर वह जवाब नहीं देती हैं तो उनके ख़िलाफ़ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। 

परनीत कौर ने कुछ दिन पहले एक कार्यक्रम में कहा था कि वे अपने परिवार के साथ खड़ी हैं। अब उनके ताज़ा क़दम से साफ हो गया है कि उनकी मंशा क्या है। परनीत कौर का पंजाब की सियासत में बड़ा क़द है। वह चार बार सांसद रही हैं और यूपीए सरकार में विदेश राज्य मंत्री जैसे बड़े ओहदे पर रह चुकी हैं।

Patiala MP Preneet Kaur may left Congress  - Satya Hindi
अमरिंदर सिंह ने हाल ही में पंजाब लोक कांग्रेस नाम से पार्टी बनाने का एलान किया था। उन्होंने यह भी कहा था कि कृषि क़ानून रद्द हो जाने पर वे बीजेपी के साथ गठबंधन करेंगे। उन्होंने पटियाला सीट से चुनाव मैदान में उतरने की बात कही थी। 
चार बार सांसद रह चुकीं परनीत कौर और लगभग 10 साल पंजाब के मुख्यमंत्री रहे अमरिंदर सिंह के जाने से निश्चित तौर पर कांग्रेस को थोड़ा-बहुत सियासी नुक़सान होगा।

सिद्धू भी हैं मुसीबत 

कांग्रेस के लिए पंजाब में अमरिंदर सिंह ही मुसीबत नहीं हैं बल्कि उनसे बड़ी मुसीबत प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू हैं। सिद्धू की बयानबाज़ी के कारण पार्टी मुसीबत में फंसती जा रही है। सिद्धू मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के पीछे पड़े हुए हैं। 

पंजाब से और ख़बरें

बेअदबी मामले और ड्रग्स से जुड़ी रिपोर्ट को सार्वजनिक करने की मांग को लेकर वह अपनी ही सरकार के ख़िलाफ़ भूख हड़ताल पर बैठने का एलान कर चुके हैं। इस बयान के बाद पंजाब कांग्रेस में उनके ख़िलाफ़ नाराज़गी है। सिद्धू की पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ के साथ भी जुबानी तकरार चल रही है। 

ऐसे में जब कुछ सर्वे इस बात को दिखा रहे हैं कि पंजाब में आम आदमी पार्टी कांग्रेस से ज़्यादा सीटें ला सकती है तो अमरिंदर की बग़ावत और सिद्धू की बयानबाज़ी कांग्रेस की मुसीबतों में इज़ाफा ही कर रही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें