loader

तमिलनाडु: चेन्नई में आफ़त की बारिश, अब तक 14 लोगों की मौत

चेन्नई में बारिश आफ़त बनकर आई है। राज्य में बीते कई दिनों से लगातार बारिश हो रही है और इसने अब तक 14 लोगों की जान ले ली है। हालात ये हैं कि शहर के निचले इलाक़ों में स्थित दुकानों, घरों में पानी भर गया है। बारिश के साथ ही तेज़ हवाएं भी चल रही हैं। बताया जा रहा है कि औसत से 50 फ़ीसद ज़्यादा बारिश हुई है। 

मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी किया है और कहा है कि उत्तरी चेन्नई, तिरुवल्लूर, चेंगलपेट, कांचीपुरम, रानीपेट, विल्लुपुरम और कुड्डालोर जिलों में भारी से भारी बारिश हो सकती है। 

चेन्नई में बहुत सारी सड़कें समंदर बन चुकी हैं और इस वजह से ट्रैफ़िक पुलिस ने कई सड़कों को बंद कर दिया है। 

ताज़ा ख़बरें
रेलवे ट्रैक पर पानी भरा होने के कारण शहरी इलाक़ों की कुछ ट्रेनों को रद्द करना पड़ा है और कुछ ट्रेनें देरी से चल रही हैं। मुख्यमंत्री आवास के बाहर बनी सड़क भी तालाब बन गई है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया ने गुरूवार शाम 6 बजे तक फ़्लाइट्स के आने के लिए एयरपोर्ट को बंद कर दिया है जबकि फ़्लाइट्स जा सकती हैं। 

पेड़ उखड़े, बिजली गुल

कई जगहों पर पेड़ उखड़ गए हैं और कई इलाक़ों में बिजली गुल हो गई है। 157 मवेशियों का कोई पता नहीं है, 1,146 झोपड़ियों और 237 घरों को नुक़सान पहुंचा है। एहतियात बरतते हुए स्कूलों और कॉलेजों को गुरूवार को बंद रखा गया है। 

चेन्नई नगर निगम के आयुक्त गगनदीप सिंह बेदी ने एनडीटीवी को बताया, “यह चेतावनी जारी की गई थी कि लोग आपात स्थिति के सिवा अपने घरों से बाहर नहीं निकलें और अपने घरों में पर्याप्त खाना और पानी रखें।” 

चेन्नई नगर निगम का प्रशासन 53 नावों और 507 मोटर पंप के जरिये पानी निकालने के काम में जुटा है। प्रशासन ने कहा है कि इस दौरान अम्मा कैंटीन में लोगों को फ्री खाना मिलेगा और फूड पैकेट्स भी बांटे जाएंगे। 

तमिलनाडु से और ख़बरें

उत्तराखंड पर आई थी आपदा

कुछ दिन पहले उत्तराखंड में भी भयंकर बारिश ने कहर बरपाया था। राज्य का कुमाऊं मंडल इससे बुरी तरह प्रभावित हुआ था। राज्य में लगभग 80 लोगों को जान गंवानी पड़ी थी। लेकिन पर्वतीय इलाक़ों में रहने वाले लोगों का कहना है कि यह आंकड़ा कहीं ज़्यादा है। गृह मंत्री अमित शाह ने उत्तराखंड पहुंचकर हालात का जायजा लिया था। 

आपदा से प्रभावित लोगों ने अपनों को खोया तो कई लोगों के घर, दुकान आपदा की भेंट चढ़ गए। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा था कि बारिश की वजह से राज्य को 7 हज़ार करोड़ का नुक़सान हुआ है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें