loader

तमिलनाडु के बंटवारे की चर्चा, डीएमके बोली- ऐसा नहीं होने देंगे

क्या केंद्र सरकार तमिलनाडु को बांटने की किसी योजना पर विचार कर रही है। राज्य के बंटवारे की चर्चा इन दिनों तमिलनाडु के सियासी गलियारों में जोर-शोर से तैर रही है। बीजेपी की राज्य इकाई ही इस मुद्दे पर बंटी हुई है जबकि हुक़ूमत में बैठी डीएमके-कांग्रेस की सरकार ने कहा है कि तमिलनाडु को कोई नहीं बांट सकता। 

तमिलनाडु में चर्चा इस बात की है राज्य के पश्चिमी जिलों को अलग कर कोंगा नाडू नाम से केंद्र शासित प्रदेश बनाने की तैयारी चल रही है। 

डीएमके नेता कनिमोझी ने बंटवारे के सवाल पर कहा है कि तमिलनाडु को बांटना तो दूर कोई ऐसा सोच भी नहीं सकता। जबकि तमिलनाडु कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष केएस अलागिरी ने कहा है कि आर्थिक मोर्चे पर विफलता से ध्यान भटकाने के लिए बीजेपी ऐसी कोशिश कर रही है। 

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी की राज्य इकाई के महासचिव के. नागराजन ने ‘द हिंदू’ से कहा कि राज्य के बंटवारे का प्रस्ताव शुरुआती दौर में था और कोंगू इलाक़े के लोग ऐसा चाहते भी हैं। उन्होंने कहा कि कोंगू नाडू देसिया मक्कल काची व कुछ अन्य राजनीतिक दल इस प्रस्ताव के समर्थन में हैं। उन्होंने कहा कि सरकार को लोगों की बात सुननी चाहिए और उनकी ख़्वाहिश को पूरा करना चाहिए। 

जबकि पार्टी के कोषाध्यक्ष एस आर शेखर ने कहा है कि ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं है और यह सिर्फ़ अख़बारों में ही छपा है। 

Kongu Nadu speculations in Tamilnadu - Satya Hindi

विरोध में दिया धरना 

एमडीएमके और थान्थाई पेरियार द्रविड़ कषगम ने कोयम्बटूर में इस प्रस्ताव की ख़बरों पर धरना दिया है और केंद्र सरकार से सफाई देने की अपील की है। अम्मा मक्का मुनेत्र कषगम के महासचिव टीटीवी दिनाकरन ने कहा है कि केंद्र और राज्य सरकार को इस बात के बड़ा मुद्दा बनने से पहले ही इसे रोकना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस तरह की मांग तमिलनाडु में किसी ने भी नहीं की है। 

इसके अलावा सीपीआई, सीपीएम और एमडीएमके ने भी ऐसे किसी प्रस्ताव का विरोध करने की बात कही है। 

सोशल मीडिया और सत्ता के गलियारों में भी तमिलनाडु के बंटवारे को लेकर चर्चा होती रहती है। हालांकि यह अभी तक सिर्फ़ चर्चा तक ही सीमित है और यह साफ़ नहीं है कि क्या केंद्र सरकार ऐसे किसी प्रस्ताव पर काम कर रही है। 

तमिलनाडु से और ख़बरें

बीजेपी के लिए चुनौती है राज्य

बीजेपी तमिलनाडु में पैर जमाने की बहुत कोशिश कर चुकी है लेकिन उसे यहां कामयाबी हासिल नहीं हुई है। उसे उम्मीद है कि राज्य के बंटवारे के बाद वह यहां डीएमके और एआईएडीएमके के वर्चस्व को कुछ कम कर पाएगी और ख़ुद के लिए जगह बना पाएगी। 

इस तरह की चर्चाओं को इसलिए भी ताक़त मिली है क्योंकि बीजेपी ने कुछ दिन पहले ही कोंगा नाडू से आने वाले और राज्य बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष एल. मुरूगन को केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह दी है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें