loader

पेरियारवादी, तमिल राष्ट्रवादी कार्यकर्ताओं पर भी थी पेगासस सॉफ़्टवेअर की नज़र

पेगासस सॉफ़्टवेअर के ज़रिए पेरियारवादी कार्यकर्ताओं और तमिल राष्ट्रवादियों की जासूसी भी की गई थी। 

इज़रायली कंपनी एनएसओ के बनाए इस स्पाइवेअर के निशाने पर नाम थामिज़ार काची, थांतीयार पेरियार द्रविड़र कषगम, मई 17 मूवमेंट जैसे संगठनों के लोग  थे। 

इसके निशाने पर श्रीलंका में तमिलों पर होने वाले कथित अत्याचारों का विरोध करने वाले और देश में भी मानवाधिकारों की बात करने वाले तमिल कार्यकर्ता थे। 

इन लोगों के नाम पेगासस प्रोजेक्ट के लीक हुए डेटाबेस मे पाए गए हैं।

ख़ास ख़बरें

क्या है पेगासस प्रोजेक्ट?

फ्रांसीसी मीडिया ग़ैर-सरकारी संगठन फॉरबिडेन स्टोरीज़ ने स्पाइवेअर पेगासस बनाने वाली इज़रायली कंपनी एनएसओ के लीक हुए डेटाबेस को हासिल किया तो पाया कि उसमें 10 देशों के 50 हज़ार से ज़्यादा लोगों के फ़ोन नंबर हैं।

इनमें से 300 भारतीय हैं। इस संगठन ने 16 मीडिया कंपनियों के साथ मिल कर इस पर अध्ययन किया। इसमें भारतीय मीडिया कंपनी 'द वायर' भी शामिल है। 

NSO spyware pegasus software targets periyarist, tamil nationalist - Satya Hindi

पेरियारवादी कार्यकर्ता

'द वायर' के मुताबिक़, तमिलनाडु के पेरियारवादी कार्यकर्ता और मई 17 मूवमेंट के सदस्य तिरुमुरुगन गांधी पर 2018 में यूएपीए लगाया गया था।

उन्होंने श्रीलंका में तमिलों पर होने वाले कथित अत्याचारों और तमिलनाडु में स्टर्लाइट कंपनी के ख़िलाफ़ आन्दोलन में एक कार्यकर्ता की मौत के मुद्दे उठाए थे। उन्होंने श्रीलंका के तमिलों का मुद्दा यूरोपीय संसद में भी उठाया था। 

गांधी ने 'द वायर' से कहा,

सरकार का मक़सद हिन्दुत्व के ख़िलाफ़ उठ रही आवाज़ों को दबाना है। यह लोकतांत्रिक मूल्यों पर अलोकतांत्रिक ताक़तों का योजनाबद्ध हमला है।


तिरुमुरुगन गांधी, सदस्य, मई 17 मूवमेंट

तमिल राष्ट्रवादी

इसी तरह नाम थामिज़ार काची के सीमैन को भी पेगासस सॉफ़्टवेअर की जासूसी सूची में पाया गया। उनका कहना है कि श्रीलंका में तमिलों की हत्या के ख़िलाफ़ आवाज उठाने की वजह से उनकी जासूसी की गई।

उन्होंने यह भी कहा कि वे इस के बावजूद अपना काम जारी रखेंगे और जुल्म के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाते रहेंगे। 

द्रविडर कषगम से पहले जुड़ने रहने वाले कार्यकर्ता के. रामकृष्णन ने बाद में थनताई पेरियार द्रविडर कषगम की स्थापना की। 

उन्होंने 'द वायर' से कहा,

यह आपातकाल से बदतर स्थिति है, पहले राज्य हमें आगाह कर देता था कि हमारे ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी, अब तो गुपचुप जासूसी की जाती है।


के. रामकृष्णन, संस्थापक, थनताई पेरियार द्रविडर कषगम

हिन्दुत्ववाद का विरोध

उन्होंने कहा कि थनताई पेरियार द्रविड़र कषगम ने आरएसएस व बीजेपी का विरोध पहले भी किया था और आगे भी करती रहेगी। 

द्रविड़र कषगम के कुमारेशन इसके पहले डीएमके और एआईएडीएमके दोनों दलों में काम कर चुके हैं। वे अब चुनावी राजनीति से दूर हैं। उनका कहना है कि वे हिन्दुत्ववादी ताक़तों का विरोध करते रहेंगे। 

कुमारेशन ने 'द वायर' से कहा कि यह उनकी निजता पर हमला और उनके मौलिक अधिकार का उल्लंघन है। 

NSO spyware pegasus software targets periyarist, tamil nationalist - Satya Hindi

मामला सुप्रीम कोर्ट में

पेगासस स्पाइवेयर मामले की जाँच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में कराए जाने को लेकर सीपीएम के एक सांसद ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। इससे पहले एक वकील ने भी अदालत में याचिका दायर कर ऐसी ही मांग की थी।

प्रेस क्लब ऑफ़ इंडिया, एडिटर्स गिल्ड ऑफ़ इंडिया सहित पत्रकारों के कई संगठन भी सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जाँच कराए जाने की मांग कर चुके हैं।

NSO spyware pegasus software targets periyarist, tamil nationalist - Satya Hindi

विपक्षी दल के नेता भी संयुक्त संसदीय कमेटी यानी जेपीसी या सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जाँच की मांग लगातार कर रहे हैं। 

याचिका में कहा गया है कि सरकार ने न तो स्वीकार किया है और न ही इनकार किया है कि स्पाइवेयर उसकी एजेंसियों द्वारा खरीदा और इस्तेमाल किया गया था।

बता दें कि सरकार ने एक बयान में कहा है कि उसकी एजेंसियों द्वारा कोई अनधिकृत रूप से इन्टरसेप्ट नहीं किया गया है और विशिष्ट लोगों पर सरकारी निगरानी के आरोपों का कोई ठोस आधार नहीं है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें