loader

रजनीकांत बोले- राजनीति में आने की कोई योजना नहीं, पार्टी को किया भंग

दक्षिण के मशहूर अभिनेता रजनीकांत ने सोमवार को एक बार फिर कहा है कि राजनीति में आने का उनका कोई इरादा नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने अपनी पार्टी रजनी मक्कल मंदरम को भी भंग कर दिया है। रजनीकांत पर तमिलनाडु का विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए जबरदस्त दबाव था लेकिन उन्होंने अपने ख़राब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया था। 

70 साल के रजनीकांत ने 2018 में रजनी मक्कल मंदरम की बुनियाद रखी थी। तमिलनाडु में इस साल अप्रैल-मई में विधानसभा के चुनाव हुए थे। इसमें डीएमके को जीत मिली थी। काफी लोगों का मानना था कि अगर रजनीकांत चुनाव मैदान में आते तो नतीजे दूसरे हो सकते थे। 

ताज़ा ख़बरें

रजनीकांत के प्रशंसकों का मानना था कि मुख्यमंत्री बनने के लिए रजनीकांत के पास 2021 में सबसे अच्छा मौका है। अगर रजनीकांत ने इस मौके का सही फायदा उठाया तो वे एमजीआर, करुणानिधि और जयललिता की तरह तमिलनाडु की राजनीति में छा सकते हैं। लेकिन रजनी ने ऐसा नहीं किया। 

2016 में जयललिता और 2018 में करुणानिधि के निधन के बाद लोगों को तमिलनाडु में सशक्त नेतृत्व की कमी लगी। राज्य में कोई नेता ऐसा नहीं लगा जोकि सर्वमान्य हो और देश और दुनियाभर में तमिलनाडु की पहचान बन सके। प्रशंसकों ने रजनीकांत से राजनीति में आने का अनुरोध किया। उन पर दबाव डाला गया। 

Rajinikanth Dissolves Rajini Makkal Mandram - Satya Hindi
रजनीकांत ने चाहने वालों की बात मानते हुए राजनीतिक पार्टी बनाने का एलान कर दिया। लेकिन राजनीतिक मोर्चे पर वह ज़्यादा सक्रिय नहीं रहे। कुछ मुद्दों पर उनके बयान आए लेकिन राजनीतिक गतिविधियां न के बराबर रहीं। 
तमिलनाडु से और ख़बरें

दक्षिण में और ख़ासकर तमिलनाडु में फ़िल्मी हस्तियों और राजनेताओं का चोली-दामन का जैसा संबंध रहा है, इसी कारण से पिछले दो दशकों से यह अटकलें थीं कि सुपरस्टार रजनीकांत राजनीति में आएंगे लेकिन वह खुलकर आगे नहीं आए। लेकिन, जयललिता की मृत्यु के बाद ऐसे कयास लगाए गए थे कि वह तमिलनाडु में अपनी राजनीतिक ज़मीन तलाश सकते हैं।

रजनीकांत ने 1975 में अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की। लोकप्रियता के मामले में रजनी ने बड़े-बड़े कलाकारों को पछाड़ दिया। रजनी की अदाकारी का जादू लोगों के सिर चढ़कर बोलने लगा था। बड़ी बात यह रही कि विधानसभा चुनाव में रजनी ने जिस पार्टी का समर्थन किया वह पार्टी सत्ता में आई। लेकिन रजनी परोक्ष राजनीति से हमेशा दूर रहे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें