loader

शाह बोले- योगी को बनाओ सीएम, केशव बोले- कमल के फूल पर लड़ेंगे चुनाव

क्या उत्तर प्रदेश बीजेपी में चेहरे को लेकर किसी तरह का कन्फ्यूजन है?, इस सवाल का जवाब हां में है। क्योंकि कुछ ही दिन पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा था कि अगर आप 2024 में नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री देखना चाहते हैं तो 2022 में योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाएं। लेकिन रविवार को प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने शाह के उलट बयान दिया है। 

मौर्य से जब पत्रकारों ने पूछा कि बीजेपी किसके नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी तो मौर्य ने साफ कहा कि बीजेपी कमल के फूल के नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी। मौर्य के बयान पर वहां मौजूद पार्टी कार्यकर्ताओं ने जमकर ख़ुशी जाहिर की। 

ताज़ा ख़बरें

सीएम बनने का सपना 

मौर्य 2017 में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष थे और तब मुख्यमंत्री पद की दौड़ में सबसे आगे भी थे। हालांकि तब वह मन मसोसकर रह गए थे। उस वक़्त योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाने में बड़ा हाथ अमित शाह का ही माना गया था। ख़ुद शाह इस बात को कह चुके हैं कि योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाने के लिए उन्होंने बहुत लोगों से लड़ाई लड़ी है। 

bjp cm face in up election 2022 - Satya Hindi

लेकिन बीते दिनों में जातीय जनगणना की मांग ने जिस तरह जोर पकड़ा, उससे एक बार फिर किसी ओबीसी चेहरे को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाने की बहस छिड़ गई। बीजेपी से भी सवाल पूछे गए। 

बीजेपी ने ओबीसी समुदाय पर फ़ोकस करते हुए इस समुदाय के नेताओं को मोदी और योगी कैबिनेट के विस्तार में अहमियत भी दी और समुदाय के हक़ में कई बड़े फ़ैसले भी लिए। इसके बाद माना जा रहा था कि बीजेपी मौर्य का मुख्यमंत्री बनने का सपना 2022 में पूरा कर सकती है।

अमित शाह के बयान के बाद मौर्य के समर्थकों की उम्मीदों को तो झटका लगा है लेकिन मौर्य ने ताज़ा बयान देकर यह साफ करने की कोशिश की है कि वह मुख्यमंत्री पद की दौड़ में हैं और कोई भी नेता इस चुनाव में चेहरा नहीं है।

किस समुदाय से होगा सीएम?

मौर्य उत्तर प्रदेश की राजनीति में पिछड़ी जाति के बड़े चेहरे हैं। वह पहले भी इस बात को कह चुके हैं कि यह चुनाव के बाद ही तय होगा कि मुख्यमंत्री कौन बनेगा। बीजेपी अगड़े समुदाय से मुख्यमंत्री बनाएगी या पिछड़े से, इसको लेकर काफ़ी बहस उत्तर प्रदेश की राजनीति में चल रही है। 

यूपी चुनाव में शाह की भूमिका

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव को लेकर अमित शाह सक्रिय हो गए हैं। प्रदेश बीजेपी के पदाधिकारियों के साथ बैठक के अलावा हाल ही में उन्होंने लखनऊ में पार्टी का मेगा सदस्यता अभियान शुरू किया था। ये अमित शाह ही हैं जिन्होंने बीजेपी को 2014 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में जोरदार जीत दिलाई थी और विपक्षी दलों का लगभग सूपड़ा साफ़ कर दिया था। तब अमित शाह पार्टी के महासचिव होने के साथ ही उत्तर प्रदेश के प्रभारी भी थे। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

इसके बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष रहते हुए शाह ने सालों तक उत्तर प्रदेश की सत्ता से बाहर रही बीजेपी की 2017 के चुनाव में सत्ता में धमाकेदार वापसी कराई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ख़ुद उत्तर प्रदेश में बीजेपी की जीत में शाह के योगदान को लेकर उनकी सार्वाजनिक रूप से तारीफ़ कर चुके हैं। इसलिए इस बार भी उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में अमित शाह की अहम भूमिका रहेगी, इस बात से क़तई इनकार नहीं किया जा सकता है। 

तेज़ होगा घमासान?

ऐसे में शाह और मौर्य के अलग-अलग बयानों का क्या मतलब समझा जाए। यह माना जाए कि बीजेपी के अंदर पिछड़े वर्ग के नेता इस बार मुख्यमंत्री की कुर्सी पर दावा ठोकेंगे। ऐसे में बीजेपी का चुनावी चेहरा कौन होगा, इसे लेकर घमासान तेज़ होने के आसार हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें