loader

चुनावी मोड में बीजेपी, मोदी के साथ ही शाह-राजनाथ व नड्डा भी जुटेंगे

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर बीजेपी पूरी तरह चुनावी मोड में आ गई है। पार्टी के तमाम बड़े नेताओं ने उत्तर प्रदेश के दौरे शुरू कर दिए हैं और जल्द ही ये नेता पार्टी के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं को चुनावी रणनीति समझाते नज़र आएंगे। उत्तर प्रदेश में फ़रवरी-मार्च में चार अन्य राज्यों के साथ विधानसभा के चुनाव होने हैं। 

उत्तर प्रदेश के चुनाव को लेकर गुरूवार को दिल्ली में बीजेपी की अहम बैठक हुई। इसमें कई बड़े फ़ैसले लिए गए। यह तय किया गया है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पश्चिमी और बृज क्षेत्र की जिम्मेदारी संभालेंगे जबकि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के पास पूर्वांचल की चुनावी कमान रहेगी। 

ताज़ा ख़बरें

राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा कानपुर और गोरखपुर में कार्यकर्ताओं के बीच चुनावी मैदान संभालेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उद्घाटन कार्यक्रमों व रैलियों के जरिये प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में जाकर चुनावी अभियान शुरू कर चुके हैं। मोदी ने बीते दिनों में सुल्तानपुर, कुशीनगर, सिद्धार्थनगर और वाराणसी का दौरा कर पूर्वांचल में जनता के बीच पहुंच बढ़ाई है। आने वाले दिनों में मोदी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भी कार्यक्रम करेंगे। 

इन नेताओं के अलावा प्रभारियों से लेकर सह प्रभारी और तमाम नेता उत्तर प्रदेश की गलियों में घूमकर पार्टी के लिए वोट जुटाने के काम में जुटेंगे। 

दिल्ली में हुई बीजेपी की बैठक में उत्तर प्रदेश सरकार के साथ ही केंद्र सरकार के मंत्री भी मौजूद रहे। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगामी चुनावी कार्यक्रमों को लेकर भी रणनीति तैयार की गई। 

BJP gears up For UP election 2022 Battle  - Satya Hindi

बीजेपी ने बीते दिनों में दलित, ओबीसी मतदाताओं के साथ ही व्यापारियों के बीच में भी सम्मेलन किए हैं। पार्टी प्रबुद्ध वर्ग के सम्मेलन भी कर चुकी है। 

बूथ स्तर तक पहुंचेंगे नेता 

बीजेपी के तमाम आला नेता बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं के साथ भी संवाद करेंगे। राजनाथ सिंह 25 नवंबर को सीतापुर और जौनपुर में होने वाली बूथ अध्यक्षों की बैठक में शामिल होंगे। जेपी नड्डा 22 को गोरखपुर में जबकि 23 नवंबर को कानपुर में बूथ अध्यक्षों की बैठक लेंगे। पश्चिमी उत्तर प्रदेश और बृज में अमित शाह की बूथ अध्यक्षों के साथ बैठक के कार्यक्रम को पार्टी फ़ाइनल कर रही है। 

बूथ कार्यकर्ताओं के साथ आला नेताओं की बैठक होने का मतलब है कि पार्टी ग्रासरूट लेवल के कार्यकर्ताओं तक पहुंचना चाहती है क्योंकि राजनीति में ‘बूथ जीतो-चुनाव जीतो’ का मंत्र बेहद असरदार है।

कृषि क़ानून पर पीछे हटी सरकार

चुनाव जीतने के लिए पूरी ताक़त झोंक रही बीजेपी के सामने सबसे बड़ी चुनौती किसान आंदोलन के रूप में सामने आई। लेकिन अब जब मोदी सरकार ने कृषि क़ानून वापस लेने का एलान कर दिया है तो माना जाना चाहिए कि पार्टी को कुछ राहत ज़रूर मिलेगी। किसान आंदोलन का पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जबरदस्त असर दिखा। यह भी सही है कि सियासी नुक़सान के डर से सरकार को कृषि क़ानूनों के मुद्दे पर पीछे हटना पड़ा।

शाह की बड़ी भूमिका 

तमाम आला नेता तो पार्टी के लिए चुनाव प्रचार में जुटेंगे ही लेकिन बीजेपी के चुनावी चाणक्य कहे जाने वाले गृह मंत्री अमित शाह की बड़ी भूमिका इस चुनाव में रहेगी। ऐसा इसलिए क्योंकि शाह ने ही बीजेपी को 2014 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में जोरदार जीत दिलाई थी और विपक्षी दलों का लगभग सूपड़ा साफ़ कर दिया था। तब अमित शाह पार्टी के महासचिव होने के साथ ही उत्तर प्रदेश के प्रभारी भी थे। 

शाह के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहते हुए ही बीजेपी की 2017 के चुनाव में सत्ता में धमाकेदार वापसी हुई थी। शाह ने कुछ दिन पहले ही उत्तर प्रदेश में मेगा सदस्यता अभियान की शुरुआत की थी।

BJP gears up For UP election 2022 Battle  - Satya Hindi

चेहरे को लेकर घमासान 

चुनाव में पार्टी का चेहरा कौन होगा, इसे लेकर कार्यकर्ताओं के बीच घमासान वाले हालात हैं। अमित शाह योगी आदित्यनाथ के पीछे पूरी ताक़त के साथ खड़े हैं। जबकि उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य अब मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं और कह चुके हैं कि बीजेपी कमल के फूल के नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

एबीपी न्यूज़-सी वोटर का हालिया सर्वे इस बात को बताता है कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी और समाजवादी पार्टी के बीच सीधी लड़ाई है और यह लड़ाई बेहद जोरदार हो सकती है। 

पूर्व मुख्यमंत्री और एसपी मुखिया अखिलेश यादव की ‘समाजवादी विजय यात्रा’ में बड़ी संख्या में लोग जुटे हैं। बीएसपी प्रमुख मायावती ब्राह्मण सम्मेलन करा चुकी हैं और कांग्रेस भी प्रियंका गांधी की अगुवाई में महिला मतदाताओं पर फ़ोकस करते हुए आगे बढ़ रही है। 

पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव ‘सामाजिक परिवर्तन रथ यात्रा’ निकालकर और एआईएमआईएम के सदर असदउद्दीन ओवैसी जनसभाओं के जरिये चुनावी माहौल बना रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें