loader

पत्रकारों से बदसलूकी का मामला : अखिलेश यादव, दो पत्रकारों पर एफ़आईआर

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में समाजवादी पार्टी के प्रेस कॉन्फ्रेंस में हंगामे और पत्रकारों के साथ हुई बदसलूकी की घटना के बाद पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनकी पार्टी के 20 समर्थकों के ख़िलाफ एफ़़आईआर दर्ज की गई है। इसके बाद समाजवादी पार्टी की शिकायत पर दो पत्रकारों के ख़िलाफ़ भी एफ़आईआर दर्ज की गई है। 

उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (क़ानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि दोनों पक्षों की ओर से अलग-अलग दायर शिकायतों के आधार पर दो एफ़आईआर दर्ज की गईं। उन्होंने कहा, "दोनों पक्षों ने एक दूसरे के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कराईं। दायर शिकायतों के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। जाँच शुरू कर दी गई है।" 

ख़ास ख़बरें

जाँच शुरू

एएसपी ने कहा, "पत्रकारों के संगठन ने शिकायत में अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी के कुछ कार्यकर्ताओं के नाम लिए हैं। दूसरी ओर, समाजवादी पार्टी ने अपनी शिकायत में दो पत्रकारों के नाम लिए हैं।"

पत्रकार सुचित्रा मोहंती ने कहा है कि कि उनके ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 147 (उपद्रव), 323 (जानबूझ कर किसी को चोट पहुँचाने) और 342 (किसी व्यक्ति को ग़लत तरीके से रोकने) के तहत केस दर्ज किया गया है।

muradabad : FIR against samajwadi party workers, akhilesh yadav - Satya Hindi

क्या है मामला?

शिकायतकर्ता अवधेश पराशर ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, "प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक पत्रकार ने आज़म ख़ान के बारे में एक सवाल पूछा, जिसपर अखिलेश यादव नाराज़ हो गए और उन्होंने कहा कि पत्रकारों को चोट पहुँच सकती है। इसके बाद सुरक्षा कर्मियों और पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पत्रकारों पर हमला कर दिया।"

एक वीडियो में पूर्व मुख्यमंत्री यादव भीड़ की धक्कामुक्की के बीच आगे बढ़ते हुए कहते हैं, 'बीजेपी के लिए ज़्यादा काम मत कर आप लोग।' इसमें यह भी देखा जा सकता है कि उनकी सुरक्षा में लगे लोग उनके पास पहुँच गए लोगों को धक्का देकर दूर करने की कोशिश कर रहे हैं। 

एक दूसरे वीडियो में पत्रकार फ़रीद शम्सी कहते हुए दिखते हैं, "एसएसजी ने हम लोगों को पीटा। उन्होंने हमें पहले धक्का दिया और उसके बाद राइफ़ल से मारा। मैं सवाल पूछ रहा था और अखिलेश यादव ने कहा कि मैं जानबूझ कर यह सब कर रहा हूं। मैंने कहा कि मैं तो सिर्फ अपना काम कर रहा हूं। इसके बाद सुरक्षाकर्मियों ने सभी पत्रकारों को मारा। कुछ के मोबाइल फ़ोन टूट गए। मेरी कमर और पाँव में चोट है, मैं डॉक्टर के पास जा रहा हूं।"
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें